प्रतीकात्मक

मृतक दीपक सकरिया का परिवार बीते लंबे समय से बीमार मां के इलाज के खर्च के कारण आर्थिक परेशानियों से जूझ रहा था। आर्थिक तंगी ही बनी इस हंसते-खेलते परिवार के अंत का कारण…

जनज्वार। समाज में कुछ ऐसी दिल दहलाने वाली घटनाएं आए दिन घटती रहती हैं कि उनके बारे में सोचकर ही रूह कांप उठती है। यकीन करना मुश्किल हो जाता है कि इंसान किसी समाज नाम की व्यवस्था से भी ताल्लुक रखता है। आस-पड़ोस, नाते—रिश्तेदारी जिनके बारे में कहा जाता है कि आड़े वक्त में इंसान को डिप्रेशन से निकालने के काम आते हैं, सब रिश्ते बेमानी हो जाते हैं।

दिसंबर अंत में जब पूरा देश-दुनिया नये साल का जश्न मना रहा था, तब एक परिवार आर्थिक तंगी के अभाव में कीटनाशक पीकर मौत की नींद सोने को विवश हो गया।

पीएम मोदी के गृहराज्य गुजरात के जामनगर जिले में कल 31 दिसंबर को एक ऐसी घटना सामने आई है जिससे रोंगटे खड़े हो जाते है। शुरुआती जानकारी के मुताबिक चूंकि एक शख्स आर्थिक तंगी के कारण अपनी बीमार मां का इलाज नहीं करवा पा रहा था, इसलिए उसने कीटनाशक पिलाकर अपनी पत्नी, मां, बच्चों और खुद की जान ले ली।

एनबीटी में प्रकाशित एक खबर के मुताबिक गुजरात के जामनगर जिले में एक शख्स ने अपनी मां का इलाज ना करा पाने के कारण सपरिवार आत्महत्या कर ली। जानकारी के अनुसार जामनगर जिले की की सूर्यमुखी कॉलोनी में रहने वाले दीपक सकरिया के परिवार में उनकी मां बहुत बीमार थीं और यह परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था, जिस कारण दीपक अपनी मां का इलाज नहीं करवा पा रहे थे। मां का इलाज नहीं करवा पाने ग्युलिटी में उन्होंने सपरिवार आत्महत्या कर ली।

मीडिया में जो शुरुआती जानकारी आ रही है उसके अनुसार मृतक दीपक सकरिया का परिवार बीते लंबे समय से बीमार मां के इलाज के खर्च के कारण आर्थिक परेशानियों से जूझ रहा था। आर्थिक तंगी ही इस हंसते—खेलते परिवार के अंत का कारण बनी।

मामले की जांच कर रही पुलिस के मुताबिक मृतक दीपक जामनगर में किराने के दुकान चलाते थे और काफी लंबे वक्त से अपनी मां का इलाज करा रहे थे। एसपी शरद सिंघल कहते हैं, ‘दीपक सकारिया और उनके परिवार के चार सदस्यों ने 31 दिसंबर की रात को पानी के साथ कीटनाशक मिलाकर पी लिया।

मरने वालों में 5 साल का एक मासूम भी शामिल है। जिले की सूर्यमुखी कॉलोनी में हुई इस घटना की जानकारी पुलिस को दूसरे दिन सुबह मिली। मौकास्थल पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने कानूनी कार्रवाई कर शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। एसपी शरद सिंघल ने मीडिया को बताया कि मृतकों में घर का मालिक 45 वर्षीय दीपक सकारिया, उसकी पत्नी 42 वर्षीय आरती सकारिया, दीपक की 11 वर्षीय बेटी कुमकुम और 5 साल के मासूम बेटे हेमंत (5) समेत दीपक की 80 वर्षीय बीमार मां जया पन्नाला शामिल हैं।


जन पत्रकारिता को सहयोग दें / Support people journalism


Facebook Comment