Last Update On : 26 06 2018 11:12:48 AM

अपना गुनाह कबूल करते हुए वेदिका कहती है, मेरा एक बेटा पहले से ही है और मैं चाहती थी कि मेरा दूसरा बच्चा बेटी हो, मगर दूसरा बच्चा भी बेटा हो गया। मैं उसे बिल्कुल नहीं चाहती थी, इसलिए मैंने उसका कत्ल कर दिया…

औरंगाबाद, महाराष्ट्र। अक्सर ऐसी खबरों से अखबार पटे रहते हैं कि बेटे की चाहत में बेटी को मार डाला, या फिर कोख में ही बेटी का कत्ल कर दिया गया। मगर अब एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है जिस पर एकाएक विश्वास करना नामुमकिन है। एक महिला ने अपने 10 माह के बेटे की हत्या सिर्फ इसलिए कर दी, क्योंकि उसे बेटी चाहिए थी।

यह मामला महाराष्ट्र के औरंगाबाद का है। समाचार एजेंसी एएनआई में प्रकाशित खबर के मुता​बिक महाराष्ट्र पुलिस ने अपने 10 महीने के बेटे की हत्या के आरोप में एक महिला को गिरफ्तार कर किया है। नवजात बच्चे की बॉडी उसके घर के बाहर पानी से भरे ड्रम में पाई गई थी। पुलिस के मुताबिक आरोपी महिला वेदिका एरंडे ने अपने नवजात बच्चे को इसलिए मार डाला क्योंकि वह एक बेटी की चाहत रखती थी। पुलिस ने महिला पर आईपीसी की धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

मामले की जांच कर रही पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मीडिया को बताया कि महिला के दस माह के बेटे का शव उसके घर के बरामदे में रखे पानी से भरे ड्रम में मिला था।

घटनाक्रम के मुताबिक रविवार 24 जून को औरंगाबाद जिले की पैठान तहसील के पैठानखेड़ा गांव के एक घर से प्रेम परमेश्वर एरंडे नाम के 10 माह के नवजात शिशु के लापता होने की खबर सामने आई थी। इस मामले में बच्चे की मां वेदिका एरंडे ने बिदकिन पुलिस थाने में अपने 10 माह के बेटे के लापता होने की शिकायत दर्ज करवाई थी। अपनी शिकायत में वेदिका ने कहा कि उसे लगता है कि किसी ने उसके बच्चे का अपहरण कर लिया है।

आरोपी महिला देविका एरंडे को ले जाती पुलिस

मामले की जांच कर रहे सहायक पुलिस निरीक्षक पंडित सोनावाने के मुताबिक वेदिका एरंडे के शिकायत दर्ज करवाए जाने के मात्र कुछ घंटे बाद 24 जून की शाम को ही पुलिस के कुत्ते ने नवजात बच्चे का शव खोज लिया। बच्चे का शव वेदिका के घर के बरामदे में पानी से भरे ड्रम में मिला था।

जब पुलिस को मामला संदेहास्पद और संदिग्ध लगा तो बच्चे की मां वेदिका एरंडे और अन्य परिजनों से पूछताछ की गई। सख्ती से पूछताछ करने पर वेदिका ने सच बताया, तो चकित करने वाला था।

वेदिका ने पुलिस के सामने अपने बच्चे को मारने का जुर्म कबूल करते हुए कहा कि मेरा एक बेटा पहले से ही है और मैं चाहती थी कि मेरा दूसरा बच्चा बेटी हो, मगर दूसरा बच्चा भी बेटा हो गया। मैं उसे बिल्कुल नहीं चाहती थी, इसलिए मैंने उसका कत्ल कर दिया।

अपने बच्चे की ही हत्या के जुर्म में देविका एरंडे पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गई है।