30 फीसदी दूध हर साल होता है बर्बाद, हमारे देश में लाखों लीटर दूध तो हरेक दिन मंदिरों में उड़ेल दिया जाता है। दूध उड़ेलने के बाद इसका अधिकांश हिस्सा नालियों से होते हुए नदियों तक पहुँच जाता है, और इन्हें प्रदूषित करता है….

वरिष्ठ लेखक महेंद्र पाण्डेय की रिपोर्ट

महाकवि रामधारी सिंह दिनकर की कविता का हिस्सा है, “श्वानों को मिलता दूध भात, भूखे बच्चे अकुलाते हैं।’ मगर अब हालात बदल गए हैं, अब बर्बादी के कारण बच्चों को दूध नहीं मिलता है।

द गार्डियन के लिए एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी द्वारा किये गए एक अध्ययन के अनुसार दुनियाभर में जितना दूध का उत्पादन होता है उसका छठा भाग बेकार या बर्बाद हो जाता है और इसका कोई उपयोग नहीं होता। अध्ययन के अनुसार दुनिया में दूध उत्पादन का 16 प्रतिशत हिस्सा, यानी 11.6 करोड़ टन, प्रतिवर्ष बर्बाद हो जाता है। पहले दूध की नदियाँ समृद्धि का सूचक था, पर अब यह बर्बादी का प्रतीक बन चुका है।

ग्लोबल अकेडमी ऑफ़ एग्रीकल्चर एंड फ़ूड सिक्यूरिटी में विशेषज्ञ प्रोफ़ेसर पीटर एलेग्जेंडर के अनुसार कुल बर्बादी में से आधी से अधिक, यानी 6 करोड़ टन, खुदरा विक्रेता, वितरक और उपभोक्ता के स्तर पर होता है। शेष 5.6 करोड़ टन की बर्बादी बिक्री तक पहुँचने के पहले ही उत्पादन और वितरण के दौरान हो जाती है।

अनेक विशेषज्ञों के अनुसार तो 16 प्रतिशत बर्बादी का आंकड़ा तो बहुत कम है, इनके अनुसार कम से कम 30 प्रतिशत दूध बर्बाद हो जाता है। विकसित देशों में बर्बादी कम होती है, जबकि विकासशील और अल्प-विकसित देशों में इसकी मात्रा बहुत अधिक है।

स्वीडन में उत्पादन के दौरान दूध की बर्बादी बिलकुल नहीं होती, जबकि ओमान में इस दौरान 15 प्रतिशत से अधिक दूध की बर्बादी होती है। ब्रिटेन की कचरे को कम करने वाली सरकारी संस्था रैप के अनुसार ब्रिटेन के कुल कचरे में से लगभग पांचवां हिस्सा डेरी उत्पादों का होता है।

दूध के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि एक तरफ तो दुनियाभर में इसका उत्पादन बढ़ रहा है, जबकि मांग घट रही है। जिन क्षेत्रों में इसकी मांग घट रही है उनमें एशिया प्रमुख है। अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ़ एग्रीकल्चर के अनुसार वर्ष 2014 से 2018 के बीच दुनिया में दूध उत्पादन में 6 प्रतिशत प्रतिवर्ष की वृद्धि दर्ज की गयी है। सर्वाधिक वृद्धि वाले देशों में भारत, कनाडा, आयरलैंड और नीदरलैंड प्रमुख हैं।

भारत दूध उत्पादन के क्षेत्र में दुनिया में पहले स्थान पर है। वर्ष 2017-2018 में यहाँ 17.64 करोड़ टन दूध का उत्पादन किया गया था, जो वर्ष 2016-2017 की तुलना में 6.6 प्रतिशत अधिक है। 1960 के दशक तक यहाँ महज 2 करोड़ टन दूध का उत्पादन किया जाता था, जबकि वर्ष 2021-2022 तक इसके 25.45 करोड़ टन तक पहुँचाने की संभावना है।

वर्ष 2013-2014 तक प्रति व्यक्ति प्रतिदिन 307 ग्राम दूध उपलब्ध था, जबकि 2016-2017 तक यह 351 ग्राम तक पहुँच गया। इन आंकड़ों से स्पष्ट है कि हमारे देश में दुग्ध उत्पादन में तेजी दुनिया की औसत तेजी से भी अधिक है।

कुछ विशेषज्ञों के अनुसार जानवरों को दूध पिलाना और लोगों द्वारा आवश्यकता से अधिक दूध की खपत करना भी इसकी बर्बादी है। दूध में जानवरों के अनुसार पर्याप्त पोषक पदार्थ नहीं होते, जबकि इसकी अधिक खपत से लोगों का स्वास्थ्य बिगड़ता है। दुनियाभर में लगभग 8.2 करोड़ टन दूध जानवरों को पिलाने के काम आता है, जबकि लगभग 5.3 करोड़ टन दूध आवश्यकता से अधिक उपभोग किया जाता है।

दूध की बर्बादी के आंकड़ों को जुटाने वाले वैज्ञानिकों ने संभवतः हमारे देश में दूध के उपयोग की तरफ बारीकी से ध्यान नहीं दिया है। हमारे देश में लाखों लीटर दूध तो हरेक दिन मंदिरों में उड़ेल दिया जाता है। इसका आकलन इस रिपोर्ट में नहीं है। हो सकता है, कुछ लोगों को बुरा लगे, पर क्या इसे दूध की बर्बादी नहीं कहेंगे? दूध उड़ेलने के बाद इसका अधिकाँश हिस्सा नालियों से होते हुए नदियों तक पहुँच जाता है, और इन्हें प्रदूषित करता है।

दूध से जुड़ी देश में समस्या इसके दाम की भी है। अर्थशास्त्र के अनुसार उत्पादन बढ़ने पर दाम घटा है, पर यहाँ बाजार में दूध सस्ता नहीं होता और ना ही किसानों को इसकी पर्याप्त कीमत मिलती है। इस पूरे सौदे में बिचौलिए खूब कमाते हैं, तभी परेशान किसान कभी-कभी दूध के सड़कों पर उड़ेलते हैं।

ये सारी समस्याएं तो दिखती हैं, पर एक गंभीर समस्या यह भी है कि दूध उत्पादन बढ़ाने के नाम पर सरकारी तंत्र विदेशी नस्लों की स्थानीय नस्लों से क्रॉस-ब्रीडिंग पर इतना जोर दे रहा है कि स्थानीय नस्लें ही विलुप्त होने लगी हैं। विदेशी नस्लों की देखरेख विशेष तरीके से करनी पड़ती है, इसीलिए अब छोटे दूध उत्पादक लगभग गायब हो रहे हैं और इनके स्थान पर बड़ी डेरी आ रही है।