आयुष्मान खुराना पर अपनी कहानी चोरी करने का आरोप लगाने वाले फिल्म निर्देशक कमल चंद्रा निर्देशक सुधीर मिश्रा और कुंदन शाह को कर चुके हैं असिस्ट…

सुशील मानव की रिपोर्ट

बॉलीवुड और चोरी एक दूसरे का पर्याय सा लगते हैं। नाम से लेकर कहानी गाने और म्यूजिक तक सब। यहां तक कि खुद बॉलीवुड शब्द भी हॉलीवुड शब्द संस्कृति की चोरी से बना है।

ताजा मामला एक कहानी चोरी का है। इस बार कहानी चोरी का आरोप लगा है नामचीन फिल्म अभिनेता आयुष्मान खुराना पर। आयुष्मान खुराना पर अपनी कहानी चोरी करने का आरोप लगाने वाले फिल्म निर्देशक कमल चंद्रा निर्देशक सुधीर मिश्रा कुंदन शाह को असिस्ट कर चुके हैं। फिल्म निर्देशक कमल चंद्रा ने बॉम्बे हाईकोर्ट में एक्टर, मेकर और प्रोड्यूसर पर अपनी फिल्म ‘विग’ की कहानी चुराने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज करा दिया है।

कमल कहते हैं ‘बाला’ की कहानी ‘विग’ के ही आइडिया पर बेस्ड है, जिसके लिए उन्होंने दिनेश, आयुष्मान और डायरेक्टर अमर कौशिक को लीगल नोटिस भेजा। नोटिस का सही जवाब न मिलने पर तीनों के खिलाफ मुंबई हाईकोर्ट में केस फाइल कराया गया है।

जानकारी के मुताबिक करीब तीन साल पहले स्क्रीनप्ले राइटर्स एसोसिएशन में अपनी स्टोरी और स्क्रिप्ट को रजिस्टर करवाया है। कमल चंद्रा ने एक महीना पहले स्क्रीनप्ले राइटर्स एसोसिएशन (SWA) में भी आयुष्मान खुराना पर अपनी कहानी चोरी करने का कंप्लेन दर्ज करवायी है।

9 मार्च 2019 को उन्होंने इसके खिलाफ मुंबई हाईकोर्ट में आयुष्मान खुराना के खिलाफ कहानी चोरी का मामला दर्ज किया है। दो तीन दिन में पिटीशन दायर करेंगे। उसके बाद इन्हें कोर्ट में हाजिर होना होगा। अप्रैल में ये लोग फिल्म शूट करने जा रहे हैं। कमल चंद्रा के मुताबिक उन्होंने राइटर्स की टीम के साथ डेढ़ साल पहले आयुष्मान से ‘विग’ की कहानी शेयर की थी। आयुष्मान की फिल्म ‘बाला’ की कहानी उनकी स्टोरी ‘विग’ के आइडिया पर बेस्ड है, जिसका नायक गंजा है।

कमल चंद्रा कहते हैं कुछ दिन पहले हम ‘मार्कशीट’ फिल्म शूट कर रहे थे। तभी हमने न्यूज देखी कि ‘बाला’ नाम की एक फिल्म बन रही है, जिसका लीड रोल आयुष्मान खुराना कर रहे हैं। उसमें मोटामोटी बाला फिल्म की कहानी का भी आईडिया था। हमने देखा तो चौंक गए, अरे ये तो हमारी कहानी ‘विग’ है जिसे लेकर हम आयुष्मान खुराना के पास गए थे।

फिर हमने आयुष्मान खुराना, बाला फिल्म के डायरेक्टर अमर कौशिक और निर्माता दिनेश विजान (मैडॉक कंपनी) के ख़िलाफ़ नोटिस भेजा। दो बार उन्होंने रिप्लाई भी दिया। पहले बार नोटिस में आया कि हम आप लोगों को नोटिस का उचित जवाब देंगे। दोबारा नोटिस आया कि चोरी का ये आरोप बेबुनियाद है। आप की कहानी में और हमारी कहानी में बहुत डिफरेंसेस हैं।


Support to Janjwar Foundation: ₹ 500

Facebook Comment