Last Update On : 20 10 2018 05:54:24 PM

आयोजक 5 हजार लोगों के रेलवे ट्रैक पर खड़े होने को कार्यक्रम की सफलता के तौर पर गिनाता है और सिद्धू की पत्नी—स्थानीय विधायक नवजोत कौर सिद्धू बजाती हैं तालियां

जनज्वार। कल अमृतसर के जोड़ापार रेलवे फाटक के पास दशहरा के भीषण ट्रेन कांड के बाद कांग्रेसी नेता और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू भले ही अपना पल्ला झाड़ते नजर आएं, लेकिन आज आए एक वीडियो ने साफ कर दिया है कि रेलवे ट्रैक पर खड़े लोगों की जानकारी आयोजकों, स्थानीय विधायक और मुख्य अतिथि नवजोत कौर सिद्धू को थी।

करीब 2 मिनट से अधिक के एक वीडियो में आयोजक पंजाबी में बहुत साफ—साफ बोल रहा है, जिससे साफ है कि स्टेज पर आयोजक के साथ सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू मौजूद हैं। इस वीडियो में आयोजक बोल रहा है कि मैडम रेलवे लाइन पर ही 5 हजार लोग खड़े हैं, लेकिन ट्रेन आ जाए तो कोई समस्या नहीं है।

आयोजक सिद्धू की पत्नी और स्थानीय विधायक को मैडम कहते हुए संबोधित करता और कहता है, ‘वैसे तो एक ही बम काफी है पाकिस्तान को खत्म करने के लिए लेकिन 5 हजार लोग यहां बम बने हुए हैं और पटरी पर खड़े हैं। कोई फिकर नहीं लाइनों की इनको ‘पटरियों’ की, लाइनों पर खड़े हैं 5 हजार से ज्यादा लोग। 5 हजार से ज्यादा बम भी पड़े हुए हैं रावण में। मैं जयकारा लगा रहा हूं पूरे जयकारा का जवाब आना चाहिए।’

फिर आयोजक जयश्री राम का नारा लगाता है।

उसके बाद नवजोत सिद्धु की पत्नी को संबोधित करते हुए कहता है, ‘सबसे पहले आप सबको दशहरे की बधाई हो। बदी और नेकी का त्योहार है। मैं मंच पर विराजमान विधायक जो बीस साल से इस क्षेत्र की सेवा कर रही हैं, नवजोत कौर सिद्धू जी का मैं स्वागत करता हूं। वह सबसे बाद में यहां मिट्ठू वाले दशहरे में आई हैं, क्योंकि वह लोग आपको बहुत प्यार करते हैं।’

संबंधित खबर : अमृतसर में दशहरे में मची भगदड़ के बाद भीड़ पर चढ़ी ट्रेन, 60 से ज्यादा लोगों की मौत

गौरतलब है कि कल 19 अक्टूबर को अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास शाम को दशहरा के मौके पर रावण दहन देखने के लिए हजारों की संख्या में भीड़ उमड़ी थी। लोग रेल की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी अचानक तेज रफ्तार में ट्रेन आई और सैकड़ों लोगों को कुचलती हुई चली गई।

ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी तभी जोड़ा फाटक पर यह हादसा हुआ। कुछ सेकेंड के अंतराल पर दो ट्रेनों के गुजरने की वजह से यह हादसा सामने आया। मीडिया में लगातार यह बात सामने आ रही है कि अगर मुख्य अतिथि स्थानीय विधायक नवजोत कौर सिद्धू समय पर आ जातीं तो शायद यह हादसा टल जाता।