सुशासन बाबू के सारे दावे फेल, लगातार तीसरे दिन बिहार एसएससी का पर्चा लीक, हजारों की संख्या में छात्र पहुंचेंगे पटना के बिहार एसएससी कार्यालय…

पटना, जनज्वार। बिहार में सुशासन के दावे चहुंओर लीक हो रहे हैं, उनमें से आजकल सर्वाधिक चर्चित बिहार स्टाफ सेलेक्शन कमीशन ‘एसएससी’ पर्चा लीक मामला है। आज लगातार तीसरे दिन बिहार एसएससी पर्चा लीक के खिलाफ पूरे बिहार में परीक्षार्थियों में गहरा आक्रोश है। राष्ट्रीय स्तर पर एसएससी के भ्रष्टाचार के खिलाफ मुखर तौर पर संघर्ष कर रहे ‘युवा हल्ला बोल’ आंदोलन ने कल 11 दिसंबर को पटना में एसएससी दफ्तर के सामने प्रदर्शन का आह्वान किया है।

बिहार एसएससी की पिछले तीन दिनों 8, 9 और 10 दिसंबर को परीक्षा हुई। परीक्षा में प्रदेशभर से लाखों की संख्या में परीक्षार्थी शामिल हुए थे। लेकिन एसएससी में परीक्षा माफियाओं की इस कदर पैठ है कि परीक्षा के तीनों दिन पर्चा लीक होता रहा और सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। परीक्षा में बैठने से पहले ही वाट्सअप और फेसबुक पर्चा वायरल हो गया।

युवा हल्ला बोल की ओर से पटना में सक्रिय छात्र अतुल ने कहा, ‘सुशासन के दावे के बीच बिहार सरकार के आला अधिकारियों और मंत्रियों को अहसास नहीं होगा कि हजारों छात्रोें के सपने एक झटके में कैसे उनकी लापरवाही की वजह से खत्म हो जाते हैं। किसी तरह महीने का खर्चा जुटाकर वर्षों तक तैयारी करने वाले छात्रों के प्रति सरकार लापरवाह तो है ही, हजारों छात्रों के जिंदगी को बर्बाद करने की अपराधी भी है।’

दिल्ली के सीजीओ कॉम्प्लेक्स पर एसएससी के भ्रष्टाचार के खिलाफ मार्च में हुए 18 दिनों के प्रदर्शन में सक्रिय रहे युवा हल्ला बोल के सक्रिय कार्यकर्ता गोविंद मिश्रा ने कहा कि परीक्षा लीक का राष्ट्रीयकरण हो गया है और अब हर प्रदेश से पर्चा लीक व धांधली की खबरें आम हो गयी हैं।

युवा हल्ला बोल के रजत ने कहा पर्चा लीक की घटनाएं तभी रुकेंगी जब अभ्यर्थी सड़कों पर सरकार से सवाल करने और अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए सड़कों पर संगठित हो उतरेंगे।

पर्चा लीक कांड के खिलाफ युवा हल्ला बोल के नेतृत्व में छात्र बिहार एसएसएसी के पटना के राजा बाजार मुख्यालय के सामने 11 दिसंबर को दिन 12 बजे प्रदर्शन करेंगे। छात्रों की मांग है कि पेपर लीक के खिलाफ निष्पक्ष जांच हो।