प्रतीकात्मक फोटो

एक सरकारी नौकरी करने वाला बेटा अपनी बीमार बुजुर्ग मां को कमरे में बंद करके गायब हो गया और मां की भूख प्यास से मौत हो गई। पुलिस के पहुंचने तक 80 वर्षीय बुजुर्ग की लाश सड़ चुकी थी…

जनज्वार। जिस बच्चे के लिए मां अपना रात—दिन एक कर देती है, सर्दियों की सर्द रातों पर खुद बच्चे के पेशाब से गीले बिस्तर पर सो बच्चे को चैन की नीद सोने देती है, जिंदगी में औलाद से ज्यादा अहमियत किसी को नहीं देती, वही बच्चा बड़ा होकर निर्ममता से उसे मौत के मुंह में धकेल दे तो इसे क्या कहेंगे। यह किसी फिल्म या टीवी सीरियल की कहानी नहीं बल्कि सच्ची घटना है, जिसमें एक बेटा अपनी बुजुर्ग मां को कमरे में बंद करके गायब हो गया और भूख—प्यास से तड़प—तड़प कर बूढ़ी मां चल बसी।

इसे यूं कहना चाहिए कि बेटे ने खुद अपनी बूढ़ी मां का निर्ममता से गला घोंट दिया, क्योंकि भूख प्यास से तड़प—तड़पकर मरना गला दबाकर मारने से भी ज्यादा बदतर रहा होगा। घटना का पता भी तब चला जब कल 9 दिसंबर को घर से बदबू आने पर पड़ोसियों ने पुलिस को सूचित किया।

यह घटना उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर का है। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक यहां एक सरकारी नौकरी करने वाला बेटा अपनी बुजुर्ग मां को कमरे में बंद करके गायब हो गया और मां की भूख प्यास से मौत हो गई। पुलिस के पहुंचने तक 80 वर्षीय बुजुर्ग की लाश सड़ चुकी थी।

बुजुर्ग महिला का बेटा भारतीय रेलवे में टीटी के पद पर काम करता है। घटना की जांच कर रहे शाहजहांपुर के पुलिस अधीक्षक दिनेश त्रिपाठी के मुताबिक रेलवे में तैनात टीटी सलिल चौधरी लखनऊ के आलमबाग का रहने वाला है। शाहजहांपुर में रेलवे में टीटी के पद पर वह 2005 में तैनात भर्ती हुआ था। यहीं उसे रेलवे परिसर में सरकारी आवास मिला है, जहां वह अपनी मां के साथ रहता था।

दिनेश त्रिपाठी कहते हैं कल 9 दिसंबर को जब सलित चौधरी के सरकारी आवास से तेज दुर्गंध आने लगी तो पड़ोसियों ने पुलिस को खबर की। पुलिस वहां पहुंची तो मकान पर ताला जड़ा हुआ था। पुलिस ने ताला तोड़कर वहां से करीब 80 साल की बुजुर्ग महिला का सड़ा गला शव बरामद किया।

पड़ोसियों ने पुलिसिया छानबीन में बताया कि टीटी सलित चौधरी पिछले हफ्ते बृहस्पतिवार यानी 6 दिसंबर को अपने आवास का ताला बंद करके गया था और अभी तक वापस नहीं आया है। पड़ोसियों का यह भी कहना है कि सलिल चौधरी अक्सर अपनी बुजुर्ग बीमार मां लीलावती को सरकारी क्वार्टर में बन्द करके चला जाता था।

वहीं रेलवे के स्टेशन अधीक्षक ओम शिव अवस्थी का कहना है कि टीटी के पद पर तैनात सलिल चौधरी अक्सर ड्यूटी से गायब रहता था। वह शराब पीने का आदी है, जिस कारण उसका दो बार विभाग से निलंबन भी हो चुका है। पिछले दो महीने से वह ड्यूटी पर नहीं आया है।