Last Update On : 15 05 2018 09:38:00 AM

संघ के सपने अनुसार अब भाजपाई चल पड़े हैं तिरंगे की शान मिटाने, उनका अगला लक्ष्य भगवे झंडे को है राष्ट्रध्वज बनाना…

जनज्वार, मध्यप्रदेश। ऐसा अहमकाना रवैया राष्ट्रीय झंडे और गान के साथ किसी ने नहीं दिखाया होगा, जैसा इस वीडियो में शिवराज सिंह चौहान करते दिख रहे हैं।

गौर से देखिए नीचे लगे वीडियो को, पता चलेगा कि कैसे भाजपा के मुख्यमंत्री राष्ट्रीय गौरव के प्रतीक राष्ट्रीय झंडे का भरी सभा में अपमान कर रहे हैं।

यह वीडियो छतरपुर मध्यप्रदेश का बताया जा रहा है, जहां मुख्यमंत्री एक सभा को संबोधित करने पहुंचे हुए हैं। वह सभा को संबोधित करने से पहले झंडा फहराते हैं और सभी लोग राष्ट्रगान ‘जन गण मन’ गाते हैं।

औरतों को यौन वस्तु समझने वाली प्रतिनिधि पार्टी है भाजपा!

पर यह गान तिरंगे के सम्मान में नहीं भाजपा के कमल छाप झंडे के सम्मान में गाया जाता है। हद ये है कि मुख्यमंत्री पूरे लाव लश्कर के साथ हैं। सवाल ये है कि क्या आरएसएस के बहुत अपने समझे जाने वाले भाजपा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान संघ के एजेंडे को आगे बढ़ा रहे हैं और जैसा कि सपना है संघ का राष्ट्रध्वज को परे फेंक पहले भाजपा का झंडा और फिर भगवा झंडे लहराना है। भगवा को ही राष्ट्र का प्रतीक बनाना है।

संघियों के आदर्श नायक सावरकर मानते हैं बलात्कार को राजनीति का जरूरी हथियार

क्योंकि अगर यह कोई गलती होती तो सरकार की ओर से सफाई आती, दोषियों पर कार्रवाई होती, पर ऐसा कुछ होने की जानकारी कभी सामने नहीं आयी।

दूसरी तरफ भक्त, संघी और भाजपाई इस वीडियो को आपस में खूब मिल बांटकर देख-दिखा रहे हैं कि अब यही भाजपाई झंडा राष्ट्र का प्रतीक बनेगा, देश के वीर मुख्यमंत्री ने इसकी शुरुआत कर दी है।

बदतमीजी के लिए ख्यात भाजपा विधायक से एक पत्रकार ने पूछे सवाल

ऐसा नहीं है कि यह पहली बार हुआ है, बल्कि कई बार यह बात सामने आई है कि भाजपाई और संघी राष्ट्र गौरव के प्रतीक राष्ट्रगान और झंडे को दोयम दिखाते रहे हैं।

ड्राइवर था मुस्लिम इसलिए भाजपा समर्थक ने ओला कैब कर दी कैंसिल

वैसे भी संघी दफ्तरों और कार्यालयों में तिरंगा फहराने का चलन नहीं रहा है।

AMU विवाद में सेक्युलर जिन्ना हार गए, कट्टरपंथी सावरकर जीत गए

इससे पहले भी पिछले साल 18 नवंबर को जब उत्तर प्रदेश के भाजपाई मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शहरी निकाय चुनाव के चलते एक जनसभा को संबोधित करने के लिए गाजियाबाद पहुंचे थे, तब भी घंटाघर के जवाहर गेट पर राष्ट्रध्वज का अपमान देखने को मिला था।

मोदी सरकार ने डालमिया को बेच दिया लालकिला

तब भाजपाइयों ने भारतीय जनता पार्टी के झंडे को घंटाघर पर लगे तिरंगे से भी ऊपर लगाया, जिसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थीं। भाजपाइयों ने खुद उस फोटो को यह कहते हुए बढ़—चढ़कर शेयर किया था कि देखो राष्ट्रध्वज से भी ज्यादा अहमियत भाजपा के झंडे की है।

देखें वीडियो :