भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर उमा भारती के साथ (Photo facebook)

भाजपा के लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर का विवादित ऑडियो सोशल मीडिया पर हो रहा वायरल, जिसमें अभद्र भाषा का प्रयोग कर कह रहे हैं 10 हजार मुसलमानों की बस्तियों को उजाड़ कर चुका हूं बाहर…

जनज्वार। भाजपा में कब कौन सा नेता कहां जहर उगल दे, कहना नामुमकिन है। अभी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर से विधायक विक्रम सैनी का यह बयान कि ‘जो भी यह कहते हैं उन्हें भारत में डर लगता है या असुरक्षित महसूस होता है उन्हें बम लगाकर उड़ा देना चाहिए। मुझे एक मंत्रालय दे दिया जाए मैं इस तरह के सभी इंसानों को बम से उड़ाऊंगा, किसी को भी नहीं छोड़ूंगा।’ वायरल हो ही रहा था कि अब एक और उलटबांसी सामने आ रही है, जोकि देश को सांप्रदायिकता में झोंकने के लिए पर्याप्त है।

लोनी से भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर का सांप्रदायिकता फैला मुस्लिम समुदाय के खिलाफ आग उगलने वाला आडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा है, जिसमें मुस्लिमों के खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए नंदकिशोर गुर्जर कह रहे हैं कि वह 10 हजार मुस्लिमों का उनकी बस्तियां उजाड़ अपने विधानसभा क्षेत्र से भगा चुके हैं और आगे भी यह करते रहेंगे।

हालांकि अब अपने बचाव में भाजपा के यह विधायक महोदय कह रहे हैं कि कुछ लोग उनको बदनाम करने की साजिश रच हैं। मेरे ऑडियो से छेड़छाड़ की गई है।

मगर विपक्षी दलों सपा, बसपा और कांग्रेस ने भाजपा के गुर्जर की इस उलटबांसी के लिए उन पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। बकौल भाजपा विधायक नंदकिशोर, मेरी बातचीत की ऑडियो से छेड़छाड़ कर बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है। मैं क्षेत्र के शांतिप्रिय लोगों के बारे में कभी कुछ गलत नहीं कहता हूं। मेरा मकसद क्षेत्र में पिछले काफी समय से सक्रिय गो तस्करों, बांग्लादेशी और रोहिंग्या घुसपैठियों के खिलाफ कार्रवाई कर उन्हें क्षेत्र से भगाना है।’ साथ ही यह भी दावा किया कि इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा शासन को भी कई पत्र लिखे हैं। इसी का असर हुआ कि पुलिस-प्रशासन ने कार्रवाई की और कई संदिग्ध लोग पकड़े गए जिससे अपराध का ग्राफ नीचे आया है।

हालांकि अभी भी भाजपा विधायक के बिगड़े बोलों के सुर कुछ संभले हुए नहीं हैं। नंदकिशोर गुर्जर ने दावा किया है कि लोनी में करीब 40 हजार रोहिंग्या और बांग्लादेशी रहते हैं। देश की सुरक्षा के लिए खतरा बने इन लोगों को सर्च अभियान चलाकर वापस भेजा जाना चाहिए। यहां भी गुर्जर अपने विपक्षियों को निशाने पर लेने से नहीं चूके। उनका कहना हे कि कांग्रेस, सपा और बसपा के नेता वोट बैंक के लिए इन घुसपैठियों का समर्थन कर रहे हैं। देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने वाले विपक्षी दलों के नेताओं को घंटाघर पर खड़े होकर जनता से माफी मांगनी चाहिए।

गुर्जर की मानें तो लोनी के साथ गाजियाबाद के साहिबाबाद, डासना, भोपुरा और धौलाना में भी बड़े पैमाने में रोहिंग्या और बांग्लादेशी मुस्लिम रह रहे हैं। अगर सर्च अभियान चलता है तो इनके साथ पाकिस्तानी और अफगानिस्तानी भी निकलकर सामने आएंगे।


जन पत्रकारिता को सहयोग दें / Support people journalism


Facebook Comment