Last Update On : 19 02 2018 06:20:00 PM

दिल्ली में किसी पार्टी का नहीं है ऐसा दफ्तर जैसा बीजेपी ने चार साल के राज में बना लिया, फाइव स्टार सुविधाओं से सुसज्जित यह दफ्तर किसी होटल माफिक है, देख के लगता है आप किसी राजनीतिक पार्टी के ऑफिस में नहीं, फाइव स्टार सूट में आये हैं

भाजपा ने बनाया चार साल के शासन में ऐसा दफ्तर जैसा कम्युनिस्ट और कांग्रेसी नहीं बना पाए 70 सालों में

जनज्वार, दिल्ली। बात बात पर राम के नाम पर दंगा—फसाद कराने वाली पार्टी ने राम को तो टाट में ही रखा, लेकिन मात्र चार साल के राज में ऐसा फाइव स्टार दफ्तर बना लिया कि बगल से गुजरने वाले कहते हैं, पार्टी कार्यालय नहीं यह तो फाइव स्टार होटल है।

6 दिसंबर 1992 में बाबरी ढहाकर देश के हजारों-लाखों नौजवानों को साम्प्रदायिकता की आग में झोंकने वाली बीजेपी ने फिर एक बार साबित किया है कि उसका हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं की कोई कद्र नहीं है। उसका एकमात्र मकसद मुस्लिमों और अन्य अल्पसंख्यकों के खिलाफ हिन्दू जमातों कर मन में नफरत भरकर देश को सांप्रदायिक और जातीय स्टार पर बांटे रखना और वोट पाना है।

अन्यथा बीजेपी रामलला को टाट में और खुद को ठाट में कैसे कर लेती। सवाल यह भी है कि आखिर उसके पास इतना पैसा आया कहाँ से, जो उसने पांचमंजिला फाइव स्टार भाजपा का दफ्तर बना लिया।

जिस देश के वोटरों के बहुतायत के पास दो जून के ढंग का खाना नहीं है, वहां एक सत्तासीन पार्टी का 4 साल के राज में इतना बड़ा आॅफिस आश्चर्य में जरूर डालता है।

दीनदयाल मार्ग, दिल्ली में बनी भाजपा हेडक्वार्टर की यह नई बिल्डिंग कमल के थीम पर बनाई गई है। भाजपा का यह नया मुख्यालय अत्याधुनिक हाईटेक सुविधा से लेस है। यहां आधुनिक आईटी सेल का इंफ्रास्ट्रक्चर विद्यमान है तो एक अलग सोशल मीडिया और मीडिया का सेक्शन भी बनाया गया है। कुल मिलाकर यह फाइवस्टार सुविधाओं से लैस है।

लाल पत्थरों से तैयार की गई इस फाइवस्टार बिल्डिंग को बनाने में 18 महीने लग थे। इस भवन में सभी आधुनिक सुविधाएं मौजूद हैं। यही नहीं यह देश की किसी भी किसी पार्टी का सबसे हाईटेक दफ्तर है। खुद पार्टी अध्यक्ष अमित शाह दावा करते हैं कि बीजेपी का नया मुख्यालय दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी का सबसे बड़ा दफ्तर है।

हमारे प्रधानमंत्री महोदय उदघाटन के मौके पर कहते हैं कि आज श्यामा प्रसाद मुखर्जी और दीनदयाल उपाध्याय की आत्मा को संतुष्टि मिल रही होगी। क्या वाकई और जो जनभावनाओं के साथ खिलवाड़ का काम आपकी पार्टी ने किया है उसका क्या।