Last Update On : 31 10 2018 04:01:54 PM

ट्रम्प को लगता है कि दुनियाभर का सारा ज्ञान उनके पास ही है, चुटकियों में हरेक समस्या हल कर सकते हैं, हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी का यही हाल है

भाजपा नेताओं के भाषण का विश्लेषण करें तो पायेंगे कि 75 प्रतिशत से अधिक भाषण विपक्ष को कोसने में, 15 प्रतिशत गांधी-नेहरू में और 10 प्रतिशत से कम हिस्सा वो क्या कर रहे हैं, इस पर केन्द्रित होता है…

वरिष्ठ लेखक महेंद्र पाण्डेय की टिप्पणी

हाल में अमेरिका में एक पुस्तक प्रकाशित की गयी है, फीयर: ट्रंप इन द व्हाइट हाउस. इस पुस्तक के लेखक हैं, बॉब वुडवॉर्ड. बॉब वुडवॉर्ड दुनिया में सबसे प्रमुख खोजी पत्रकारों में एक हैं और पिछले 4 दशकों से अधिक समय से पत्रकारिता से जुड़े है। वे अब तक कुल 9 राष्ट्रपतियों का ज़माना देख चुके हैं, और रिचर्ड निक्सन के समय के मशहूर वाटरगेट स्कैंडल को उजागर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुके हैं।

गौरतलब है कि इस स्कैंडल के उजागर होने के बाद, सर्वशक्तिमान माने जाने वाले निक्सन को भी अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी थी। बॉब वुडवॉर्ड ने अनेक चर्चित किताबें लिखी हैं – आल द प्रेसिडेंट्स मेन, बुश एट वार, द लास्ट ऑफ़ द प्रेसिडेंट्स मेन, द प्राइस ऑफ़ पॉलिटिक्स, स्टेट ऑफ़ डिनायल इनमें प्रमुख हैं। कुछ पुस्तकों पर तो फ़िल्में भी बनायी गयीं।

इस पुस्तक में उन्होंने बताया है कि उन्होंने ट्रम्प के समय व्हाइट हाउस जैसा है, वैसा पहले कभी नहीं रहा। ट्रम्प के बारे में उन्होंने जितना लिखा है, उसकी खासियत यह है कि हमारे देश के प्रधानमंत्री से बहुत समानता है। बहुत सारे वाक्य तो ऐसे हैं कि यदि नाम और देश हटा दिया जाए तो पूरा भारत का वर्णन है।

वुडवॉर्ड ने लिखा है कि अपने चुनाव प्रचार से अब तक ट्रंप में जनता विश्वास नहीं करती, हमारे देश में प्रधानमंत्री को जुमलेबाज कहा जाता है। ट्रंप तथ्यों पर भरोसा नहीं करते, या तभी भरोसा करते हैं जब तथ्य उनके या उनकी पार्टी के पक्ष में हों। ट्रम्प का मानना है कि आंकड़े कुछ नहीं होते, और इन्हें अपनी सुविधानुसार कभी भी गढ़ा जा सकता है।

वुडवॉर्ड आगे लिखते हैं कि उन्होंने इसके पहले कभी किसी राष्ट्रपति को देश या दुनिया की वास्तविकता से इतना उदासीन नहीं देखा है। दूसरी तरफ वर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति अपनी हरेक योजना के गुण खुद ही गाते हैं और हरेक योजना को पूरी दुनिया में सबसे अच्छा और सबसे बड़ा बताते हैं। हमारे प्रधानमंत्री मोदी भी यही सब करते हैं।

सबसे बड़ी मू​र्ति, जन-धन योजना, मोदीकेयर योजना, उज्ज्वला योजना, सब दुनिया में सबसे बड़ा और अच्छा है, भले ही इसका लाभ किसी को मिला रहा हो या नहीं मिला रहा हो। ट्रम्प को लगता है कि दुनियाभर का सारा ज्ञान उनके पास ही है, चुटकियों में हरेक समस्या हल कर सकते हैं, हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी का यही हाल है।

चलो मान लिया कि तथाकथित एंटायर पोलिटिकल साइंस से राजनीति का पूरा ज्ञान होगा पर प्रधानमंत्री जी तो इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र और विज्ञान पर भी अपने एकाधिकार समझते हैं. वुडवॉर्ड के अनुसार ट्रम्प अपने भाषणों में हमेशा अपनी जिन्दगी का उदाहरण देते हैं, भले ही उसका कोई सबूत हो या नहीं हो। जरा याद कीजिये चाय बेचने से लेकर हिमालय पर तपस्या के आज तक कोई सबूत नहीं है। सबूत तो खैर शिक्षा के भी नहीं हैं।

दूसरी तरफ अमेरिका में वॉक्स न्यूज़ ने कुछ महीने पहले डेविड फारिस के इंटरव्यू को प्रकाशित किया है, जिसका शीर्षक है, “व्हाई दिस पोलिटिकल साइंटिस्ट थिंक्स द डेमोक्रेट्स हैव टू फाइट डर्टी”। डेविड फारिस रूज़वेल्ट यूनिवर्सिटी में राजनीतिक वैज्ञानिक हैं, और एक पुस्तक प्रकाशित की है, इट इस टाइम टू फाइट डर्टी। अमेरिका में इस पुस्तक की बहुत चर्चा है और इसमें कहा गया है कि ट्रम्प की रिपब्लिकन पार्टी को परम्परागत राजनीति से नहीं हटाया जा सकता है, इसे हटाने के लिए ओछी राजनीति की जरूरत है।

इस पुस्तक की खासियत यह है कि यदि आप इसके आलेख में रिपब्लिकन के बदले अपने देश की सत्ताधारी पार्टी भाजपा का नाम शामिल कर लें तो यह पुस्तक कम से कम 70 प्रतिशत तक हमारे देश पर सटीक बैठती है।

सीन लिल्लिंग द्वारा पूछे गए प्रश्नों के जवाब में डेविड फारिस ने अनेक वाक्य ऐसे कहे जिसमें पार्टी का नाम हटाकर पढ़ने पर पूरी स्थिति अपने देश की नजर आती है। डेविड फारिस बताते हैं, ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी ऐसा व्यवहार करती है जैसे उसकी कोई जिम्मेदारी नहीं हो और न ही भविष्य में उनकी जिम्मेदारी कोई तय करेगा। डेमोक्रेटिक पार्टी को यह समझाना जरूरी है कि रिपब्लिकन पार्टी नीतियों पर चुनाव नहीं लडती बल्कि इनके लिए चुनाव तो एक प्रक्रियात्मक युद्ध है।

रिपब्लिकन पार्टी ने पिछले दो दशकों से संविधान में कमियां खोज कर पूरी की पूरी सरकारी संरचना और संवैधानिक संस्थाओं को अपने पक्ष में कर लिया है। यह पार्टी यदि संविधान के अनुसार काम करती भी है तब भी संविधान की सोच और विचारधारा की हत्या करती है।

डेविड फारिस बताते हैं, हम इस समय अमेरिका के पूरे इतिहास के सबसे खतरनाक मोड़ पर हैं। इस समय संवैधानिक संस्थाओं पर लोगों का भरोसा उठ चुका है और लोग चुनाव प्रक्रिया पर भी सवाल उठाने लगे हैं। ट्रम्प प्रशासन देश को राजनीतिक संस्कृति और परंपरा को खतरनाक तरीके से बदलने में कामयाब रहा है। ऐसे में डेमोक्रेटिक पार्टी केवल नीतियों की लड़ाई नहीं लड़ सकती।

अनेक सामाजिक और राजनीतिक अध्ययनों के अनुसार आज के दौर में नीतियां चुनाव में कोई मायने नहीं रखतीं और अधिकतर लोग नीतियों के प्रभाव से अनजान बने रहते हैं। बराक ओबामा ने स्वास्थ्य सेवाओं में ओबामाकेयर के नाम से योजना शुरू की जिससे करोड़ों लोग लाभान्वित हुए, पर अधिकतर लोगों को यह नहीं पता कि इस योजना को ओबामा ने या डेमोक्रेटिक पार्टी ने शुरू किया था।

इस पुस्तक से इतना तो स्पष्ट है कि सत्ता दल को अब सामान्य तरीके से हटाना असंभव है, ऐसे में हरेक विरोधी पार्टी को आकलन कर आगे का रास्ता तय करना होगा। हमारे देश में यह काम अधिक कठिन है क्योंकि सही मायनों में विपक्ष परम्परागत राजनीति से अधिक कुछ नहीं कर रहा है। ऐसे में विपक्ष को परम्परागत लीक से हटकर रणनीति बनाने की जरूरत है।

डर्टी पॉलिटिक्स के लिए वैसी सोच बनाना बहुत जरूरी है, पर ऐसा कर पाना हमारे देश में कठिन है। यदि भाजपा के नेताओं के भाषण का विश्लेषण करें तो पायेंगे कि 75 प्रतिशत से अधिक भाषण विपक्ष को कोसने में, 15 प्रतिशत गांधी-नेहरू में और 10 प्रतिशत से कम हिस्सा वो क्या कर रहे हैं, इस पर केन्द्रित होता है।

ऐसे में, विपक्ष को सत्ता पक्ष की आलोचना पूरी तरह से कुछ महीनों के लिए बंद कर देनी चाहिए क्योंकि इसी आलोचना के कुछ वाक्य सत्ता पक्ष के बड़े नेताओं के भाषण का 75 प्रतिशत हिस्सा होते हैं। ऐसे में संभवतः सत्ता पक्ष के नेताओं के भाषण का समीकरण भी बदल जाएगा। पूरे विपक्ष को दीर्घकालीन रणनीति बनाकर वापस कुछ वर्षों के लिए जनता के बीच जाकर समर्पित कार्यकर्ताओं को तैयार करना होगा।

फारिस का आकलन सही है, केवल नीतियों से चुनाव नहीं जीते जाते और अमेरिका अपने इतिहास के सबसे खतरनाक दौर में है, और शायद हम भी।