भाजपा विधायक बोले, जो भी यह कहते हैं कि उन्हें भारत में डर लगता है या असुरक्षित महसूस होता है उन्हें बम लगाकर उड़ा देना चाहिए। मुझे एक मंत्रालय दे दिया जाए मैं इस तरह के सभी इंसानों को बम से उड़ाऊंगा, किसी को भी नहीं छोड़ूंगा…

जनज्वार। बड़बोलापन और विवादित बयानों से भाजपा का चोली—दामन का साथ हो चुका है। इसी के साथ ये इस हद तक असंवेदनशील हैं कि इनके जनप्रतिनिधि बनने पर सिवाय सवाल उठाने के और कुछ नहीं किया जा सकता।

हालांकि पहले भी भाजपा नेता तरह—तरह की उलटबासियां करते आए हैं, मगर एक बार फिर विवादित बयान देकर पूरी पार्टी को ही कठघरे में खड़ा कर दिया गया है। इस बार असहिष्‍णुता का मुद्दा उठाने वालों को खुलेआम धमकाया गया है।

योगी के उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर से विधायक विक्रम सैनी ने अजीबोगरीब बयानबाजी करते हुए कहा है कि जो भी यह कहता है कि वो देश में असुरक्षित महसूस करता है या उसे यहां डर लगता है उन लोगों को सीधे बम से उड़ा देना चाहिए।

गौरतलब है कि अभी कुछ दिन पहले ख्यात फिल्म अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि वो अपने बच्चों को लेकर देश में असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। यह बयान नसीरुद्दीन शाह ने बुलंदशहर में कथित गोकशी को लेकर फैली हिंसा में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की लिंचिंग के बाद दिया था। उन्होंने यह भी कहा था कि इंसान के हत्यारे की जगह गाय के हत्यारों को पकड़ने को हमारे देश में तरजीह दी जा रही है।

बकौल सैनी, ‘मेरा व्यक्तिगत रूप से मानना है कि जो भी यह कहते हैं कि उन्हें भारत में डर लगता है या असुरक्षित महसूस होता है उन्हें बम लगाकर उड़ा देना चाहिए। मुझे एक मंत्रालय दे दिया जाए मैं इस तरह के सभी इंसानों को बम से उड़ाऊंगा, किसी को भी नहीं छोड़ूंगा।’

बम से उड़ाने की बात सिर्फ भारत में डरने वालों लोगों के लिए ही नहीं गई, बल्कि सैनी ने आगे यह भी जोड़ा कि वह वंदे मातरम का विरोध करने वालों को भी बम बांधकर उड़ा देंगे।

पहले भी अपने कई विवादित बयानों के चलते सैनी चर्चा का केंद्रबिंदु रहे हैं। हिंदुओं की आबादी पर उन्होंने बयान दिया था कि ‘हिंदुस्तान हिंदुओं के लिए है, हिंदू अपनी आबादी बढ़ाने के लिए ज्यादा से ज्यादा बच्चे पैदा करें।’

बीजेपी विधायक सैनी यहीं पर नहीं रुके और न ही उन्होंने अपनी भाषा पर कोई अफसोस व्यक्त किया। हां यह जरूर ​कहा कि, ‘बम फोड़ने वाली मेरी आम भाषा है, मेरे गांव की भाषा। ये मेरी भावना है। मुझे मौका तो मिले।’


जन पत्रकारिता को सहयोग दें / Support people journalism


Facebook Comment