Last Update On : 31 07 2018 02:00:55 PM
फोटो : डी पीलर से

बकौल निकिता ठाकुर, ‘क्या आपको लगता है कि एक पत्नी जो यहीं अपने पति के साथ रह रही हो, उसको इन सब चीजों के बारे में मालूम नहीं चलता। क्या एक पत्नी कभी यह बर्दाश्त कर सकती है कि उसका पति किसी दूसरे के साथ शारीरिक संबंध बनाए…

जनज्वार। बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह के मालिक और बलात्कार के मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर की बेटी निकिता ठाकुर से बातचीत की खबर डी पीलर डॉट कॉम वेबसाइट में छपी है। नीरज प्रियदर्शी से बातचीत में निकिता ने द हिन्दू की एक रिपोर्ट के हवाले से कहती हैं, ‘हमारी बात कोई सुन नहीं रहा है, ना ही उसको सबके सामने सही-सही बताया जा रहा है. मेरे पिता को साजिश के तहत फंसाया गया है।

डी पीलर के नीरज ​प्रियदर्शी निकिता से पूछते हैं कि आपको क्यों लगता है कि आपके पिता को फंसाया गया है?

निकिता का जवाब है, ‘क्योंकि, मेरे बाप के पास‌ बहुत पैसा है। अगर उन्हें शारीरिक संबंध ही बनाना होता और लड़कियों की सप्लाई करनी होती तो यहां की लड़कियों से क्यों करते? यहां तो वो लड़कियां थीं, जिन्हें समाज ने भी तज दिया था। कई मानसिक रूप से विक्षिप्त थीं। कुछ लड़कियों की उम्र आठ साल से भी कम थी। सच बताऊं तो मेरे पिता को मैंने कभी ऊपर जाते देखा ही नहीं है। जहां आप अभी बैठे हैं यहीं बैठते थे. ऊपर जो ग्रिल दिख रहा है वो बालिका गृह के ओसारे का ग्रिल है जहां से बच्चियां नीचे की ओर झांकती रहती थीं। कभी हमसे भी बात कर लेतीं तो कभी पापा से।”

नीरज के अगले सवाल पर कि पीएमसीएच की मेडिकल जांच रिपोर्ट तो ये पुष्ट करती है कि यहां बच्चियों के साथ रेप और अत्याचार हुआ था, फिर आप क्यों कह रही हैं कि आपके पापा ऐसा नहीं कर सकते?

संबंधित खबर : मुजफ्फरपुर बलात्कार कांड का आरोपी बृजेश ठाकुर था पत्रकारिता का सरकारी मेहमान

पर बृजेश ठाकुर की बेटी का कहना है, ‘PMCH की मेडिकल जांच रिपोर्ट में क्या लिखा गया है किसी ने पढ़ा है‌ क्या? उसमें अंग्रेजी में साफ-साफ लिखा हुआ है, सेक्सुअल कॉन्टैक्ट कैनोट बी रूल्ड आउट, नो रेप फाउंड, नो स्पर्म‌ फाउंड (Sexual Contact Cannot be ruled out. No rape found. No Sperm found)। हिंदी में इसका मतलब क्या होगा कोई मुझे बता सकता है?“

निकिता अपने पिता के बचाव में आगे बताती हैं, आपको पता है, यहां आने वालीं ज्यादातर लड़कियां कहां से आती हैं? या तो उनके ऊपर पहले से जुर्म हुआ रहता है या फिर वे मानसिक रूप से विक्षिप्त रहती है। उन‌ बच्चियों का रेप और उनपर जुल्म अगर यहां आने से पहले हुआ होगा तो क्या मेडिकल रिपोर्ट में ये बात नहीं आएगी? इस बात की गारंटी कौन देगा…?

संबंधित खबर : मुजफ्फरपुर कांड : टैबलेट खिलाकर होता था बलात्कार, होश आने पर नहीं रहते थे बच्चियों के शरीर पर कपड़े

‘हमारे घर पर सब रहते हैं. मम्मी, पापा, भाई, भौजाई, मैं और बच्चों के अलावा दूसरे स्टाफ भी। यदि यह सब इतने दिनों से चल रहा था तो क्या हम लोगों को जरा भी इसकी भनक नहीं लगती. हमें छोड़िए क्या हमारे स्टाफ को भी नहीं लगती!’

निकिता खुद के मां होने का हवाला देती हैं,

मैं खुद भी एक बच्ची की मां हूं। मैं अपने पिता का साथ कभी नहीं देती। क्या आपको लगता है कि एक पत्नी जो यहीं अपने पति के साथ रह रही हो, उसको इन सब चीजों के बारे में मालूम नहीं चलता। और अगर चल जाता तो क्या एक पत्नी कभी यह बर्दाश्त कर सकती है कि उसका पति किसी दूसरे के साथ शारीरिक संबंध बनाए, क्या इसकी इजाजत वो दे सकती है?