Last Update On : 31 03 2018 05:33:00 PM

सतीश पांडेय है भाजपा के छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का जिला संयोजक, पुलिस ने किया गिरफ्तार

जनज्वार। सीबीएसई के दसवीं और बारहवीं के प्रश्नपत्र लीक होने के बाद उनकी परीक्षाएं दोबारा कराए जाने का निर्णय लिया गया है। इससे छात्रों और अभिभावकों में भारी गुस्सा व्याप्त है, इसके खिलाफ वे सड़कों पर हैं।

एसएससी छात्रों का टूटता सपना बड़ा मुद्दा न बन जाये, इसलिए भाजपा ने देश को उलझाया मूर्ति तोड़ने के काम में

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन (सीबीएसई) की परीक्षाओं के प्रश्न पत्र कहां से और कैसे लीक हुआ, इसका खुलासा पुलिस ने कर दिया है। झारखंड के चतरा जिले के एसपी एबी वारियर ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि प्रश्नपत्र पटना से व्हाट्सऐप से चतरा पहुंचा था। हमने पेपर लीक मामले में बिहार और झारखंड से 12 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें चतरा के कोचिंग सेंटर का संचालक और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) का नेता भी शामिल है।

यह भी पढ़ें : चार साल में चौतरफा लीक करने लगी मोदी सरकार

पेपर लीक मामले में झारखंड के चतरा जनपद में पुलिस ने एक निजी कोचिंग संचालक और दो शिक्षकों समेत नौ छात्रों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार नाबालिग छात्रों को पुलिस ने बाल सुधार गृह हजारीबाग भेज दिया और और कोचिंग संचालक समेत दो शिक्षकों को जेल भेजा जा चुका है।

जनज्वार एक्सक्लूसिव : एसएससी परीक्षाओं में पेपर लीक का पर्दाफाश

सीबीएसई के तार भाजपा के छात्र संगठन एबीवीपी से जुड़े होने पर छात्र नेता शेहला रशीद ने एक खबर का स्क्रीनशॉट ट्वीट पर साझा किया है जिसके मुताबिक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक सतीश पांडे को पुलिस ने पेपर लीक मामले में हिरासत में लिया है और कुछ अन्य छात्रों को भी इस मामले में पकड़ा गया है।

यह भी पढ़ें :‘मैं नरेंद्र मोदी आपका डेटा अमेरिकी कंपनियों को दे रहा हूं’

शेहला रशीद ने कहा है, जो लोग हमारी और हमारे हितों की रक्षा करना चाहते हैं, वे एबीवीपी के साथ मिलकर परीक्षा पत्रों को लीक करने के लिए हमारे करियर के साथ खेल रहे हैं। यह लज्जाजनक से भी परे है डियर पीएमओ इंडिया, यह शक्ति का अत्यधिक दुरुपयोग है, शर्म करो, शर्म करो।

खुलासा : कुख्यात डाटा चोर कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका की सबसे पुरानी ग्राहक है भाजपा

पुलिस अधीक्षक अखिलेश बी वारियर ने प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि शहर के कॉलेज रोड में संचालित स्टडी विजन नामक कोचिंग संस्थान के निदेशक सतीश पांडेय व पंकज सिंह द्वारा छात्रों से मोटी रकम वसूल कर परीक्षा से पूर्व प्रश्नपत्र उनके व्हाट्सएप पर भेजा गया था। सतीश पांडेय भाजपा के छात्र संगठन एबीवीपी से जुड़ा हुआ है।

पढ़ें : आॅनलाइन अपराधों में अक्षम पुलिस साइबर अपराधियों का मुंह नहीं ताकेगी तो और क्या करेगी?

पेपर लीक कांड में एबीवीपी की भूमिका होने पर गिरीश ने ट्वीट किया है, क्या मोदी ने एबीवीपी का बजट रिड्यूस कर दिया है। अगर भाजपा के छात्र संगठन एबीवीपी को धन की आवश्यकता होती है, तो वे बच्चों के भविष्य को बेचने के बजाय पकौड़े क्यों नहीं बेचते हैं?

यह भी पढ़ें : एक्सक्लूसिव : फेसबुक कैसे और क्यों करवाता है आपकी प्रोफाइल से डाटाचोरी

सीबीएसई प्रश्नपत्र लीक मामले पर नेता और अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्वीट किया है, आज देश के हर एक कोने में युवाओं को अपने भविष्य के लिये धरना देना पड़ रहा है..! व्यापम, SSC , CBSE सारे घपलों में भाजपा का हाथ.? क्या साबित करता है…? युवा विरोधी भाजपा सरकार…!

एसएससी पेपर लीक की सीबीआई जाँच के लिए छात्रों का प्रदर्शन

एनएसयूआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष फिरोज खान ने एबीवीपी की पेपर लीक मामले में संलिप्तता पर ट्वीट किया है, सह एक छात्र संगठन के एक कार्यकर्ताओं द्वारा किया गया शर्मनाक कृत्य है। प्लीज अपने आप को एक छात्र संगठन मत कहो।

राजनाथ सिंह के जुबानी आश्वासन पर एसएससी छात्रों को नहीं भरोसा, जारी रहेगा आंदोलन