वीडियो में दिख रहा है कि रंजन मिश्रा पहले मजदूर को थप्पड़ मारता है, उसके बाद लात बरसाता है और उसके बाद हंटर उठा उस पर ताबड़तोड़ वार करने लगता है। मजदूर जब अपनी जान बचाने के लिए भागने की कोशिश करता है तो वह दौड़ा—दौड़ाकर पीटता है और फिर लिटाकर खूब हंटर मारता है….

जनज्वार। जहां एक ओर उत्तर प्रदेश के भाजपा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भरी जनसभा में कहते हैं कि दलितों, दमितों, मजदूरों के बिना हिंदू धर्म की कल्पना नहीं की जा सकती। दलितों के बिना हिंदुत्व का आधार ही नहीं है। उनसे अधिक धार्मिक और सात्विक भला और कौन है।’ वहीं दलितों—मजदूरों पर होने वाले अत्याचार की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं, बल्कि यूं कहें कि शासन-प्रशासन का प्रश्रय पा और ज्यादा हो रही हैं। उत्तर प्रदेश में तो दलित-मजदूर उत्पीड़न की घटनाओं का कीर्तिमान ही स्थापित है।

दलित मजदूर को हंटर से मारने का ऐसा ही एक वीडियो उत्तर प्रदेश के चित्रकूट स्थित शिवपुर से सामने आया है। रिहाई मंच के महासचिव राजीव यादव मजदूर को हंटर से मारने वाला वीडियो शेयर करते हुए कहते हैं, ‘एक तरफ हमारे मुख्यमंत्री महोदय योगी आदित्यनाथ कहते हैं कि दलितों के बिना हिंदू धर्म की कल्पना नहीं की जा सकती। दलितों के बिना हिंदुत्व का आधार ही नहीं है, वहीं सरेआम दबंग जाति से ताल्लुक रखने वाले रंजन मिश्रा ने दिनदहाड़े दलित मजदूर को बेखौफ हो हंटर से ​पीटा। वीडियो में रंजन मिश्रा के चेहरे पर कहीं भी शासन—प्रशासन का खौफ नजर नहीं आ रहा है।’

सोशल मीडिया पर घूम रहे इस वीडियो में पीड़ित युवक को दलित बताया जा रहा है, मगर अभी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

वीडियो में दिख रहा है कि रंजन मिश्रा पहले मजदूर को थप्पड़ मारता है, उसके बाद लात बरसाता है और उसके बाद हंटर उठा उस पर ताबड़तोड़ वार करने लगता है। मजदूर जब अपनी जान बचाने के लिए भागने की कोशिश करता है तो वह दौड़ा—दौड़ाकर पीटता है और फिर लिटाकर खूब हंटर मारता है।

वीडियो में दिखाई दे रहा है कि मारने वाला अपना नाम शिवपुर का रंजन मिश्रा बता रहा है। रंजन मिश्रा पीड़ित युवक को लगातार गालियां दे रहा है। वीडियो में आपसास के लोग रंजन मिश्रा से लगातार न मारने के लिए कह रहे हैं। न मारने के लिए बोलने वालों में महिलाएं भी शामिल हैं। मगर रंजन मिश्रा किसी दरोगा को गालियां देते बोलता है कि वह उसको कुछ नहीं समझता, तु तो आम आदमी है। रंजन मिश्रा अपना वीडियो खुद बनवा रहा है, क्योंकि वह वीडियो में आने वाले आदमी को मना करता है कि तुम वीडियो से बाहर रहो।

उल्लेखनीय है कि एनसीआरबी द्वारा ‘क्राईम इन इंडिया-2016’ रिपोर्ट के अनुसार भाजपा शासित राज्य दलित उत्पीड़न में सबसे आगे हैं। 2 अप्रैल, 2018 के भारत बंद के बाद देश में दलित उत्पीड़न और तेज़ हो गया है।

अभी कुछ दिन पहले महाराष्ट्र के पुणे में एक दलित युवक सुनील पावले को मराठा समुदाय से ताल्लुक रखने वाले ईंट भट्टा मालिक संदीप पवार द्वारा किसी विवाद पर जबरन मानव मल खिलाने का मामला सामने आया है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में भी भाजपा की ही सरकार है।


जन पत्रकारिता को सहयोग दें / Support people journalism


Facebook Comment