Last Update On : 18 06 2018 11:36:28 AM

मुख्तार अब्बास नकवी हो रहे इस ट्वीट के लिए ट्रोल, उन्हीं के अंदाज में लोग उन्हें दे रहे जवाब कि बीजेपी और मोदी कर रहे किस तरह देश को बर्बाद…

​दिल्ली, जनज्वार। आज दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रियों के एलजी हाउस पर धरने का सातवां दिन है। इसे जनता के साथ मजाक बताते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ट्वीट किया है, केजरीवाल सरकार करने में जीरो और धरने में हीरो है। इसके लिए करना कुछ नहीं धरना सबकुछ है केजरीवाल पर दिल्‍ली की जनता ने जो विश्‍वास जताया था, वह उसको बर्बाद करने में लगे हैं।’

केंद्रीय मंत्री के इस ट्वीट पर कई उनके समर्थन में उतरे हैं तो कई ने उन्हीं की चुटकी ले ली है। सौरभ भट्ट ने मुख्तार अब्बास नकवी के अंदाज में ही ट्वीट किया है, करना कुछ नहीं विदेश घूमना सबकुछ। यह बीजेपी सरकार का माइंडसेट है। देश की जनता ने बीजेपी और मोदी पर जो विश्वास जताया था वे उसे बर्बाद करने में लगे हुए हैं।’

वीसा ट्वीटर हैंडल से ट्वीट किया गया है, ‘मोदी जी भाषण में हीरो, काम काज में जीरो, दुनिया भर का दौरा कर आए, भारत के हाथ कुछ न ला पाए, लोगों ने बहुमत दिया, अपनों को छोड़ कुछ न किया, जनता ने मन बना लिया, 2019 में इन्हें छोड़ सबको याद किया।’

कुमार ट्वीट करते हैं, ‘आपके काम की तो ये हालत है कि फेंकू भी प्रचार में अपने काम नहीं बता रहा। क्यों लोगों को पता है कि बस भाषण से शासन चलाने की कोशिश करते हो।

केजरीवाल के समर्थन में दिल्ली की जनता उतरी सड़कों पर और बीजेपी पहुंची बैकफुट पर

वहीं मुख्तार अब्बास नकवी के समर्थन में राजिब ने ट्वीट किया है, ‘विधानसभा मे 10% हाजरी, और 115 दिन में सिर्फ 10 दिन CM ऑफिस जाने वाला @ArvindKejriwal IAS ऑफिसर पे इलज़ाम लगा रहा है, देश का सबसे बड़ा चोर है। रात दिन झूठ पे झूठ हद होती है। उठेगिरा बंदा बात करने की तमीज़ नही, दिल्ली के खुजली वाले हैं।’

हालांकि बीजेपी के समर्थन में इस तरह के ट्वीट किसी के गले नहीं उतरेंगे, क्यों​कि केजरीवाल को जिस तरह का व्यापक समर्थन मिल रहा है उससे यह तो साफ हो ही गया है कि बाकियों के बरक्श उन्होंने दिल्ली में काम किया है और काम करने की कोशिश कर रहे हैं और फिर धरना भी तो इसी बात का है कि आईएएस उन्हें सहयोग नहीं कर रहे, केंद्र के इशारे पर वे धरने पर हैं।

पिछले 7 दिनों से उपराज्यपाल के घर पर धरने पर बैठे केजरीवाल कैबिनेट का धरना जब सुस्त पड़ने लगा था तो कल ‘लोकतंत्र बचाओ मार्च’ के बहाने फिर एक बार केजरीवाल सीधे लोगों में जाने की तरकीब में बीस पड़ते दिख रहे हैं, जबकि भाजपा को कुछ समझ नहीं आ रहा कि केजरीवाल के व्यापक होते समर्थन में सेंध लगाकर केजरीवाल की ‘मसखरे’ वाली छवि को जनता में फिर से कैसे पहुंचाए। मुख्तार अब्बास नकवी का ट्वीट इसी दिशा में उठाया गया कदम है।

अरविंद केजरीवाल की रैली से असल संकट में पड़ेगी कांग्रेस

आज केजरीवाल और उनके मं​​त्रियों के ख़िलाफ़ एक जनहित याचिका पर दिल्ली हाइकोर्ट सुनवाई करेगा। जनहित याचिका में कहा गया है कि मुख्यमंत्री और मंत्री हड़ताल नहीं कर सकते, क्योंकि वो संवैधानिक पदों पर हैं।

दूसरी तरफ सात दिन से उपराज्‍यपाल के घर अनशन पर बैठे दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को कल रात तबीयत बिगड़ने पर एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसकी जानकारी खुद ट्वीटर पर देते हुए केजरीवाल ने कहा, ‘बीती रात सत्येंद्र जैन का कीटोन लेवल बढ़ गया और उन्हें सिर दर्द, बदन दर्द, सांस लेने में दिक़्क़त और पेशाब में दिक़्क़त होने लगी, इसलिए उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। अब उनकी हालत ठीक है।

गौरतलब है कि एलजी हाउस पर मुख्यमंत्री केजरीवाल और अन्य मंत्रियों के धरने के साथ—साथ कल आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के मंडी हाउस संसद मार्ग तक ‘लोकतंत्र बचाओ’ प्रदर्शन का आह्वान भी किया था। पार्टी ने अपील की थी दिल्ली सरकार के समर्थन में जनता उतरे और भाजपा की सरकार को बताए कि जनता की चुनी हुई सरकार को कुछ चंद अधिकारियों के जरिए काम न करने देना, असल में लोकतंत्र की हत्या है। इसे व्यापक जन समर्थन भी मिला, हजारों की तादाद में लोगों ने इस प्रदर्शन में हिस्सेदारी की थी।

भाजपा के मुख्यमंत्रियों को छोड़ लगभग सभी दलों और उनके मुख्यमंत्रियों ने केजरीवाल के धरने का समर्थन किया है। इस समर्थन के बाद केजरीवाल की पार्टी का हौसला बढ़ा है और कल के प्रदर्शन की सफलता ने बता दिया है कि अब आप मोदी सरकार के खिलाफ सीधे तौर पर मोर्चा लेने के मूड में है और ऐसे में मुख्तार अब्बास नकवी जैसे नेताओं के ट्वीट उन्हीं की खिलाफत का काम करेंगे।