हाथी के हमले में घायल महिला चिकित्सालय में उपचाररत

महिलाएं जंगल में चारा काट ही रहीं थी कि अचानक ही झाड़ियों में छिपे एक हाथी ने कमला बिष्ट पर हमला बोल दिया…

सलीम मलिक  की रिपोर्ट

रामनगर, जनज्वार। उत्तराखण्ड से आसाम-नेपाल जाने वाले एलीफेंट कारीडोर के जंगल में जंगली हाथी ने एक महिला पर हमला बोलकर उसे बुरी तरह से जख्मी कर दिया। साथ की महिलाओं के शोर-शराबे पर हाथी घबराकर महिला को जख्मी हालत में मौके पर ही छोड़कर जंगल की झाड़ियों में छिप गया।

सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने जख्मी महिला को इलाज के लिये चिकित्सालय में दाखिल कराया गया, जहां महिला की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।

जानकारी के अनुसार रामनगर वन प्रभाग की कालाढूंगी रेंज में पड़ने वाले एलीफेन्ट कारीडोर (हाथी गलियारा) क्षेत्र में शुक्रवार 28 दिसंबर की दोपहर को कोटाबाग विकास खण्ड के बजूनिया हल्दू क्षेत्र की कुछ महिलाएं अपने मवेशियों के लिये चारा लेने गई थी। यह महिलाएं जंगल में चारा काट ही रहीं थी कि अचानक ही झाड़ियों में छिपे एक हाथी ने कमला बिष्ट पर हमला बोल दिया।

हाथी ने कमला पर ताबड़तोड़ सूंड से प्रहार करने के साथ-साथ उन्हें पैरों से कुचलने का भी प्रयास किया, लेकिन कमला के शोर मचाकर मौके से भागने के कारण हाथी को कमला को कुचलने का मौका नहीं मिला। कमला के शोर मचाने पर अन्य महिलाएं सतर्क हुईं साथ ही जंगल में शोर-शराबा करना शुरू कर दिया, जिसके चलते हाथी कमला को छोड़कर जंगल की झाड़ियों में जा छिपा।

महिलाओं का शोर-शराब सुनकर मौके पर मदद के लिये पहुंचे ग्रामीणोंने जख्मी हालत में कमला को उपचार के लिये जंगल से लाकर कालाढूंगी के सरकारी चिकित्सालय में भर्ती कराया। महिला पर हाथी के हमले की खबर मिलने पर कालाढूंगी वन क्षेत्राधिकारी अमित चन्द्र गवास्कोटी ने चिकित्सालय जाकर महिला की सुध ली।

वनाधिकारी के मुताबिक घटना मूसाबंगर बीट की है। वन विभाग की टीम ने मौके पर जाकर घटना की जानकारी ली है। उन्होने बताया कि मूसाबंगर क्षेत्र में अपने समूह से बिछड़ा एक हाथी घूम रहा है, जो जंगल में उत्पात मचाने के साथ-साथ ही जंगल में जाने वाले लोगों पर हमले का भी प्रयास कर रहा है। हाथी के हमले का शिकार बनी महिला की हालत में सुधार है। उन्होने ग्रामीणों से मवेशियों के लिये चारा आदि लाने के लिये सावधानी से दिन के उजाले में ही समूह के साथ जाने की अपील भी की है।


जन पत्रकारिता को सहयोग दें / Support people journalism


Facebook Comment