photo : NDTV

लंदन के बैठे अमेरिकी हैकर्स के खुलासे से सोशल मीडिया पर सनसनी, कहा इस साल के चुनावों में भी हो सकती है ईवीएम हैक

प्रेस कांफ्रेंस कर किया दावा कि ईवीएम हैकिंग के मामले में हुईं कई हत्याएं, गोपीनाथ मुंडे ने की थी डील , बाद में उनकी हो गयी थी गाड़ी में चलते हुए मौत

जनज्वार। यह सवाल एक बार फिर मुंह बाये खड़ा हो गया है कि क्या ईवीएम को हैक किया जा सकता है। क्योंकि आज एक अमेरिकी हैकर्स ने प्रेस कांफ्रेंस कर दावा किया है कि ईवीएम की हैकिंग हो सकती है।

इस अमेरिकी हैकर के दावों को सही मानें तो उसने 2014 के चुनावों में भाजपा के लिए ईवीएम हैक की थी और हैकिंग के लिए उससे बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे ने संपर्क किया था। हैकर सैयद शुजा ने यह भी कहा कि गोपीनाथ मुंडे की 2014 में इसीलिए हत्या करवा दी गई थी, क्योंकि वे ईवीएम हैक का राज जानते थे।

हैकर ने कहा, रिलायंस के सहयोग से भाजपा के लिए 2014 में हैकिंग की गई थी। हैकिंग टीम के ज्यादातर सदस्यों को गोली मार दी गयी। गोपीनाथ मुंडे जिन्होंने यह टीम बनाई, वह भी कथित सड़क दुर्घटना में मार दिए गये। इतना ही नहीं हैकर की मानें तो उसने 2015 के दिल्ली चुनावों में आम आदमी पार्टी के पक्ष में ईवीएम की हैकिंग की थी।

गौरतलब है कि 2014 में बीजेपी को तो 2015 में आम आदमी पार्टी को बंपर वोटों से जीत हासिल हुई थी। हैकर के प्रेस कांफ्रेंस कर ईवीएम हैक किए जाने की खबर का खुलासा किए जाने से भारतीय राजनीति में भूचाल आ गया है।

प्रेस कांफ्रेंस में हैकर ने मीडिया से दावा किया कि ईवीएम को आसानी से हैक किया जा सकता है। इसकी ट्रांसमीटर के जरिए हैकिंग की जा सकती है। गौरतलब है कि हैकर की इस प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल भी मौजूद थे।

लंदन में इस कार्यक्रम का आयोजन इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन (यूरोप) द्वारा किया गया था। बकौल हैकर उसकी कुल 14 लोगों की टीम है, जो ईवीएम हैक कर चुकी है। हालांकि हैकर ने यह भी आरोप लगाया है कि उस पर पूर्व में हमला हो चुका है, जिसके चलते उसने अमेरिका में शरण ली हुई है।

Facebook Comments