Last Update On : 27 06 2018 01:30:11 PM

पिता कहते हैं मनचलों की छेड़खानी से परेशान और डर के मारे मेरी बेटियों को छोड़नी पड़ी पढ़ाई, अब घर आकर भी करने लगे हैं छेड़खानी

पुलिस के पास शिकायत दर्ज करने पर नहीं हुई कोई कार्रवाई, उल्टा मनचलों ने घर आकर पीटा मां—बाप को, कहा तेजाब डालकर खत्म कर देंगे तुम्हारी बेटियों को….

मेरठ, उत्तर प्रदेश। जहां एक सर्वे में खुलासा हुआ है कि महिलाओं के लिए भारत दुनिया का सबसे असुरक्षित देश बन चुका है, वहीं एक पिता ने अपनी 4 बेटियों को बचाने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री मोदी से गुहार लगाई है।

एएनआई में प्रकाशित एक खबर के मुताबिक उत्तर प्रदेश के मेरठ में कुछ लड़कों की छेड़खानी की अति से परेशान हो 4 बहनों को अपनी पढ़ाई तक छोड़नी पड़ी है। मगर ये बदमाश लड़के लड़कियों की पढाई छोड़ने से भी नहीं माने और उनके साथ बदतमीजी और छेड़खानी करने उनके घर तक पहुंच रहे हैं।

पीड़ित लड़कियों और उनके पिता के मुताबिक इस संबंध में पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई गई है, मगर कोई कार्रवाई नहीं की गई। आजिज आकर अब 4 बेटियों कके बाप ने अपनी बेटियों की सुरक्षा की गुहार मुख्यमंत्री योगी और प्रधानमंत्री मोदी के पास लगाई है।

अब जब मीडिया के माध्यम से पुलिस उच्चाधिकारियों के पास पहुंचा है तो उन्होंने भरोसा दिलाया है कि मनचलों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक यह मामला मेरठ के मवाना क्षेत्र का है, जहां कुछ मनचले लड़कों की रोज—ब—रोज की छेड़खानी से तंग होकर से चार मुस्लिम बहनों ने पढ़ाई के लिए मदरसे जाना छोड़ दिया। मगर पढ़ाई छोड़ने का इन बदतमीज लड़कों पर कोई फर्क नहीं पड़ा और वे लड़कियों के घर तक पहुंच गए। यहां तक कि लड़कियों के घर में पहुंच उनके साथ छेड़खानी शुरू कर दी।

इसकी सूचना पुलिस के पास दर्ज कराई गई तो पुलिस ने मामले को हल्के में ले टरका दिया, मानो लड़कियों की सुरक्षा का मुद्दा कोई मुद्दा ही न हो। शिकायत दर्ज होने के बावजूद पुलिस ने बदमाशों पर कोई कार्रवाई नहीं की, मानो पुलिस इंतजार कर रही हो कि कोई बड़ी घटना हो तो वह कार्रवाई करे।

पुलिस के रवैये से निराश लड़कियों के पिता और पीड़ित लड़कियों ने बड़ी उम्मीद के साथ इस मामले में मनचले लड़कों पर कार्रवाई किए जाने की शिकायत सीएम योगी और पीएम मोदी से की है, जो बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के दावे करते रहते हैं।

पीड़ित लड़कियों में एक कहती है, हम चार बहनें हैं और पढ़ने के लिए मदरसे जाया करती थीं। हमारी गली के ही चार लड़के हमें परेशान करते हैं। वे हमसे छेड़खानी करते हैं, पत्थर मारते हैं। जब हमने यह बात अपने घर में अपने मम्मी-पापा को बतायी तो उन्होंने हमारी पढ़ाई छुड़वाकर घर में बिठा दिया, मगर ये मनचले हमें घर में भी चैन से नहीं जीने दे रहे। हमारे घर के अंदर घुसकर हमें परेशान करते हैं, और पुलिस है कि हमारी रिपोर्ट तक दर्ज नहीं करती। पीड़िताएं गुहार लगाते हुए कह रही हैं मोदी जी और योगी जी, हम भी किसी की बेटियां हैं, हमें न्याय दिलाओ।

दूसरी पीड़ित लड़की कहती है, हम पुलिस के पास भी गए, मगर वह कुछ नहीं करती। जब हम लोग थाने से वापस आए, तो चारों बदमाश हमारे घर आकर बैठे हुए थे। उन्होंने हमारे अब्बू-अम्मी के साथ मारपीट की और धमकाया कि ज्यादा सयाने बने और पुलिस या मीडिया के पास गए तो लड़कियों पर तेजाब डाल देंगे। अब्बू—अम्मी को जान से मारने की धमकी देते हुए कह रहे थे पुलिस को बताओगे तो तुम्हारी बेटियों को और ज्यादा परेशान करेंगे, उनका जीना मुश्किल कर देंगे।