Last Update On : 07 03 2018 03:30:00 PM

क्रूरता और अमानवीयता की हद पार करती इस घटना में लालच देकर बलात्कारी ले गए 4 साल की बच्ची को अपने साथ और सुनसान जगह पर किया उसका सामूहिक बलात्कार…

जनज्वार। जब भी बलात्कार की कोई खबर सामने आती है तो हमारे जनप्रतिनिधि, नौकरशाह, नेता तमाम आश्वासन, घोषणाएं करते हैं, मगर रेप की घटनाओं में कोई कमी नहीं आती, उल्टा रेप की घटनाओं में दिन—ब—दिन बढ़ोत्तरी ही हो रही है।

हालिया घटनाक्रम में राजस्थान के चितौड़गढ़ में बलात्कार की शिकार एक चार साल की बच्ची बनी है। कल 6 मार्च को मानसिक विकृतों ने देर रात अबोध बच्ची को अपनी हवस का शिकार बनाया। फिलहाल अस्पताल में भर्ती बच्ची की हालत गंभीर बनी हुई है।

घटनाक्रम के मुताबिक बलात्कारी बच्ची को बहला—फुसलाकर अपने साथ ले गए थे और कल देर रात बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार किया। बच्ची के परिजनों को जब घटना के बारे में पता चला तो उसे तुरंत अस्पताल ले गए, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। 

मामले की जांच कर रही राजस्थान पुलिस कहती है कि वह मामले की जांच कर रही है और आरोपियों को जल्द पकड़ लेगी। एक तरफ राजस्थान सरकार दावा करती है कि नाबालिग बच्चियों के बलात्कारियों को मृत्युदंड की सजा दी जाएगी, और दूसरी तरफ समाज में घट रही ऐसी नृशंस घटनाओं के बाद पुलिस आरोपियों को पकड़ तक नहीं पाई है।

ये भी पढ़ें : कभी सोचा कड़ी सजा के बावजूद कम क्यों नहीं हो रहे जघन्य बलात्कार

राजस्थान ही नहीं देश के अलग—अलग हिस्सों से भी हर दिन ऐसी खबरों से अखबार, टीवी चैनल, सोशल मीडिया भरा रहता है। 5 मार्च को ही कोलकाता और गुड़गांव से तीन और चार साल की बच्चियों से बलात्कार का मामला सामने आया था।

कोलकाता के कैनाल रोड इलाके में तीन साल की बच्ची को फुसलाकर सफाईकर्मी अपने साथ बस में ले गया और पास में खड़ी की गई बस में ले जाकर उसका बलात्कार किया। जब सफाईकर्मी ने बच्ची का बलात्कार किया, तब उसका पांच साल का भाई भी उसके साथ था। जब वह दरिंदा बस में उसका बलात्कार कर रहा था, तब पांच साल का बच्चा लगातार बस का गेट पीटता रहा और अपनी बहन को छुड़वाने की गुहार लगाता रहा।

बार—बार गेट पीटे जाने के बावजूद और बस के अंदर बच्ची के लगातार चीखने—चिल्लाने की आवाज आने के बाद भी जब सफाईकर्मी ने बच्ची को नहीं छोड़ा तो उसका भाई अपनी मां को बुलाकर लाया।

ये भी पढ़ें :  वो 8 महीने की मासूम कौन सा अंग प्रदर्शन कर रही थी

पीड़ित बच्ची की मां अपने साथ कुछ लोगों को लेकर बस के पास पहुंची तो लोगों ने बस का दरवाजा तोड़कर दरिंदे बलात्कारी के चंगुल से बच्ची को आजाद कराया और उसकी जमकर पिटाई की।

गुड़गांव में भी तब एक बच्ची का बलात्कार किया गया जब वह शादी समारोह में परिजनों के साथ गई थी। विवाह समारोह में गई 4 साल की बच्ची का बलात्कार उस समय किया गया जब वह खेलते—खेलते परिजनों से दूर चली गई थी।

हालांकि कोलकाता और गुड़गांव में घटित बलात्कार की घटनाओं में आरोपियों को पुलिस पकड़ चुकी है, मगर असल सवाल यह है कि इतने बड़े पैमाने पर इस तरह की घटनाएं आखिर हो क्यों रही हैं।

गौर करने वाली बात है कि समाज में जितनी भी बलात्कार की घटनाएं सामने आती हैं उनमें तकरीबन 90 फीसदी मामलों में आरोपी जान—पहचान वाले और नजदीकी रिश्तेदार होते हैं। कहीं बाप—बेटी का रिश्ता कलंकित होता है तो कहीं भाई—बहन का रिश्ता तार—तार। दूर के रिश्तेदार, पड़ोसियों की संलिप्तता भी ऐसे मामलों में अकसर देखने को मिलती है।