Last Update On : 29 12 2017 05:35:00 PM

पुलिस के मुताबिक आदिल के चाचा और पिता ने आदिल की बीवी अनीता कुमारी (बदला हुआ नाम)से कहा कि वह अपना धर्म बदलकर मुस्लिम धर्म अपना ले, मगर इस जोड़े ने ऐसा करने से मना कर दिया…

हर साल धार्मिक वैमनस्यता के कारण औरतों पर हमले बढ़ रहे हैं और देश इसका सामाजिक हल खोजने की बजाय थानों पर निर्भर होता जा रहा है

जनज्वार, जमशेदपुर। देश में हर रोज जिस तरह से बलात्कार और औरतों की हत्या की बाढ़ आई हुई है, उससे यह लगने लगा है कि सरकार और समाज दोनों ही अपने कर्तव्यों में लगातार और लगातार असफल साबित हो रहे हैं। समाज में लगातार औरतों के बढ़ रहे बलात्कार मामलों और वो भी नजदीकी रिश्तेदारों द्वारा, को देखकर लगने लगा है कि मर्दों की मानसिक बीमार जमात रोज औरतों पर अपराध् करने के रोज नए औजार तलाशती रही है। मर्द किस हद तक कुंठा का शिकार हो सकता है, इसकी ताजा मिसाल है झारखंड के जमशेदपुर में घटित घटना जहां बोकारो में एक बहू की बलात्कार और फिर हत्या का बिल्कुल नया कारण उजागर हुआ है।

बलात्कार के बाद कानून छात्रा की नृशंसता से हत्या करने वाले को कोर्ट ने सुनाई मौत की सजा

ससुर ने बहू का पहले बलात्कार किया फिर हत्या कर दी। कारण कि बहू ने शादी के बाद भी अपना धर्म बदलने से मना कर दिया था। ससुर और चाचा ससुर को बहू का धर्म बदलने के लिए मना करना इतना नागवार गुजरा कि सामूहिक बलात्कार कर उसकी नृशंस हत्या कर दी।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक इस दुुष्कृत्य को झारखंड के रामगढ़ में तकरीबन 1 महीने पहले अंजाम दिया गया था। तकरीबन एक माह पहले महिला की गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गई और शव को नदी में फेंक दिया गया। महिला का शव रामगढ़ के नजदीक गरगा नदी के पास बरामद होने के बाद यह सच सबके सामने आया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हत्या से पहले गैंगरेप की पुष्टि हो चुकी है।

घटना के बाद गिरफ्तार किए गए महिला के पति आदिल अंसारी ने बयान दिया, ‘हम दोनों ने घर से भागकर शादी की थी और फिर बोकारो स्थित अपने चाचा के घर गए। चूंकि मेरी पत्नी हिंदू धर्म की थी इसलिए चाचा ने मेरे पिता को इसकी खबर कर दी।

लड़कियों को वेश्या बनाने वाले धार्मिक कोठों के खिलाफ खून कब खौलेगा !

पुलिस के मुताबिक आदिल के चाचा और पिता ने आदिल की बीवी अनीता कुमारी (बदला हुआ नाम)से कहा कि वह अपना धर्म बदलकर मुस्लिम धर्म अपना ले, मगर इस जोड़े ने ऐसा करने से मना कर दिया और कहा कि वे बिना धर्म बदले एक दूसरे के साथ रहेंगे। जिसके बाद आदिल और अनीता से उसके चाचा और पिता खूब झगड़े।

जब अनीता मुस्लिम धर्म अपनाने को तैयार नहीं हुई, तो आदिल के चाचा और पिता ने षड्यंत्र का रास्ता अख्तियार किया। नवविवाहित जोड़े से आदिल के पिता—चाचा ने कहा कि वे दोनों ट्रेन के रास्ते रांची जाएं नहीं तो उन्हें खतरा हो सकता है। वे उन्हें उन्हें स्टेशन तक छोड़ देंगे।

पिता—चाचा के षड्यंत्र से अंजान आदिल जब इस बात पर राजी हो गया तो वो लोग उन्हें जंगल के रास्ते ले गए। अनीता को जब कुछ शक तो उसने आदिल से कहा। आदिल ने अनीता का शक दूर करने के लिए पिता से कहा कि वे उन्हें जंगल के रास्ते क्यों ले जा रहे हैं, तो पिता ने कहा तुम तो जंगल के रास्ते जाने पर ही घबरा रहे हो जबकि अभी तो तुम्हें भविष्य में बहुत सी परेशानियां सहनी होंगी क्योंकि तुमने अंतर्धार्मिक विवाह किया है।

चलता फिरता चकलाघर था मेरा ससुराल

पुलिस में दिए बयान में आदिल ने बताया कि इसके बाद पिता ने मुझे कसकर पकड़ लिया और चाचा उसकी बीवी को जंगल में घसीटते हुए ले गए। जब चाचा अनीता को घसीटकर ले गया उसके एक घंटे बाद तक अनीता की दर्दनाक चीखें आदिल को सुनाई देती रहीं, मगर मैं कुछ नहीं कर पाया। चाचा के जाने के बाद मुझे बुरी तरह जख्मी कर पिता भी वहीं चले गए जहां चाचा मेरी बीवी के साथ कुकर्म कर रहे थे।