Last Update On : 08 05 2018 03:22:00 PM

जापानियों ने कहा दुनिया में ऐसा कोई कल्चर नहीं है, जिसमें जूते टेबल पर रखे जाते हों। अगर ये मजाक था, तो हमें ये मजेदार नहीं लगा। हम अपने पीएम के साथ हुए ऐसे व्यवहार से नाराज हैं…

किसी को जूते दिखाना अपमान का सूचक माना जाता है, मगर उसे क्या कहेंगे जबकि किसी आम इंसान का नहीं किसी देश के राष्ट्राध्यक्ष का स्वागत जूते से किया जाए।

जी हां, जूते का यह मामला जुड़ा है जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के जूते के माध्यम से स्वागत से। हुआ यूं कि जापानी प्रधानमंत्री पत्नीमय इजराइल की यात्रा पर आए थे, जहां मेहमाननवाजी में उन्हें जूते में खाना सर्व किया गया।

घटनाक्रम के मुताबिक प्रधानमंत्री शिंजो आबे और उनकी पत्नी दो मई को इजरायली पीएम के आवास पर डिनर में आमंत्रित थे। इजरायल के मशहूर शेफ मोशे सेगेव की देखरेख में डिनर आयोजित किया गया था। डिनर के अंत में शेफ मोशे सेगेव ने एक डेजर्ट पेश किया। डेजर्ट में चॉकलेट लोहे के जूते में रखकर सर्व किया गया।

गौरतलब है कि शेफ मोशे इजरायली प्रधानमंत्री नेतन्याहू के निजी शेफ हैं, इसीलिए इजराइली प्रधानमंत्री द्वारा जापानी प्रधानमंत्री को जूते में खाना सर्व करने के लिए सोशल मीडिया समेत प्रिंट—इलैक्ट्रॉनिक मीडिया में खासा ट्रोल किया गया। हालांकि जूते में डेजर्ट परोसा जाना डिनर में मौजूद इजरायली और जापानी डिप्लामेट्स को भी पसंद नहीं आया था।

दरअसल, दुनियाभर की संस्कृति में जूते को अपमान का सूचक समझा जाता है। जापान में भी लोग अपने घरों और दफ्तरों के बाहर ही जूते रखते हैं। पीएम से लेकर अन्य मंत्री तक अपने मंत्रालयाें में जूते बाहर उतारकर प्रवेश करते हैं।

हालांकि जूते में डेजर्ट परोसने का विरोध जापानी प्रधानमंत्री ने नहीं किया, बल्कि उन्होंने उसे चुपचाप खा लिया, मगर डिनर में मौजूद एक जापानी डिप्लोमेट ने मीडिया से कहा, ‘दुनिया में ऐसा कोई कल्चर नहीं है, जिसमें जूते टेबल पर रखे जाते हों। अगर ये मजाक था, तो हमें ये मजेदार नहीं लगा। हम अपने पीएम के साथ हुए ऐसे व्यवहार से नाराज हैं।’

इजरायली शेफ मोशे ने जब अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर जूते वाला डेजर्ट फोटो पोस्ट की तो उस पर तरह—तरह की प्रतिक्रियाएं आईं। किसी ने इसे क्रिएटिविटी कहा तो किसी ने कहा कि इस हरकत के कारण इजराइल का सिर शर्म से झुक गया।