Last Update On : 03 06 2018 10:27:00 AM

न तो इन मजदूर नेताओं की की गई है कोर्ट में पेशी और न ही परिजनों को ही दी गई थी किसी तरह की कोई सूचना…

जनज्वार। मजदूर संगठन समिति, झारखंड के केंद्रीय महासचिव बच्चा सिंह और यूनियन के ही केंद्रीय सचिव दीपक कुमार को झारखंड के बोकारो स्टील, चंतनकियारी स्थित गांव पर्वतपुर से 31 मई, 2018 को रात 11 बजे पुलिस ने गिरफ्तार किया, मगर अभी तक उन्हें न तो कोर्ट में पेश किया गया है और न ही उनके परिजनों को उनकी गिरफ्तारी की सूचना दी गई।

अभी-अभी रुपेश कुमार की फेसबुक पोस्ट के जरिए पता चला है कि कि झारखंड के बोकारो जिला के चन्दनकियारी से गिरफ्तार मजदूर नेता बच्चा सिंह और दीपक कुमार को प्रेस कांफ्रेस के जरिये मीडिया के सामने अभी पेश किया गया है और पुलिस ने गिरफ्तारी की बात कबूल ली है, लेकिन उनकी गिरफ्तारी पुलिस 2 जून को दिखा रही है, जबकि उनकी गिरफ्तारी 31 मई को रात के  12 बजे के लगभग हुई थी। 

मजदूर एकता मंच ने एक रिलीज जारी कर सूचना दी है कि मजदूर संगठन समिति को झारखंड सरकार ने 22 दिसम्बर, 2017 को एक नोटिस जारी कर माओवादियों का फ्रंटल संगठन घोषित करते हुए प्रतिबंधित कर दिया था। इसके बाद इस संगठन का सदस्य न होने के बावजूद दामोदर तुरी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। प्रतिबंध लगाने के बाद अब लगभग 20 कार्यकर्ताओं को ‘मजदूर संगठन समिति’ का सदस्य होने के आरोप में देशद्रोह जैसे केस लगाकर उन्हें जेल में डाला जा चुका है।

3 दिन गुजरने के बावजदू पुलिस ने अभी तक बच्चा सिंह और दीपक को किसी कोर्ट में पेश नहीं किया। इस संदर्भ में उनके साथियों के परिजनों को भी कोई सूचना नहीं दी गई। मजदूर एकता मंच का कहना है कि इन दोनों के जीवन की सुरक्षा की चिंता हो रही है, साथ ही मांग की गई है कि पुलिस इन दोनों के बारे में बताए और इनके परिजनों को सूचित करे।

मजदूर एकता मंच ने मानवाधिकार संगठनों से अपील की कि इन दोनों का जीवन सुरक्षित करने के लिए अविलंब कोर्ट में बन्दी प्रत्यक्षीकरण का केस दर्ज करें। साथ ही, जनसंगठनों और मजदूर संगठनों, पार्टियों से अपील की है कि बच्चा सिंह और दीपक को पुलिस द्वारा गैरकानूनी बंदी का विरोध करें और उनकी अविलंब रिहाई की मांग करें।

राजेश कुमार (पत्रकार, बोकारो थर्मल) अपनी फेसबुक वॉल पर लिखते हैं, मजदूर नेता बच्चा सिंह की पत्नी बबली का कहना है कि गिरफ्तार करने के बाद भी पुलिस उनके पति और उनके सााथी को न्यायालय के सुपुर्द नहीं कर रही है।

बच्चा सिंह की पत्नी बबली ने भी प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि उनके पति को चंदनकियारी थाना की पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जिसकी जानकारी मुझे चंदनक्यारी के ही रहने वाले लोगों ने बोकारो थर्मल स्थित हमारे आवास पर आकर दी। बबली देवी कहती हैं उनके पति बच्चा सिंह सहित दीपक कुमार को पुलिस ने दिनांक 31 मई को रात लगभग बारह बजे चंदनकियारी से गिरफ्तार किया गया है, परंतु अभी तक न्यायालय के सामने प्रस्तुत नही किया गया, जिस कारण कई तरह की आशंकाएं मन मे तैरने लगी हैं। अनहोनी की चिंता के कारण परिवार के लोग परेशान हैं। बबली ने प्रेस रिलीज में कहा, मेरे पति मजदूर नेता हैं राजनीतिक साजिश के तहत उन्हें फंसाया गया है। प्रशासन किसी राजनीतिक दबाव में न आकर मेरे पति के साथ न्याय करे और उन्हें जल्द न्यायालय के सुपुर्द करे अन्यथा धारा 56 के उल्लंघन के तहत परिवार के सदस्य संविधानिक हक के लिए कानूनी करवाई करने हेतु बाध्य हो जाएंगे।