Last Update On : 07 02 2018 07:45:00 PM

पिता ने कहा तिरंगे के लिए मेरे बेटे की गई है जान, अब मेरे और चंदन की मां के लिए तिरंगा ही चंदन

कासगंज से सौरभ यादव की रिपोर्ट

26 जनवरी को यूपी के कासगंज में हुए साम्प्रदायिक दंगे में मारे गए चंदन गुप्ता की आज तेरहवीं है। चंदन गुप्ता की तेरहवीं पर उसके पिता सुशील गुप्ता ने चन्दन की यादगार के रूप में अपने मकान की छत पर 50 फुट ऊंचा तिरंगा फहराया।

पढें : कासगंज हिंसा पर बोलीं महिला अधिकारी, चंदन को गोली भगवा ने मारी

दंगे में मारे गए चंदन गुप्ता के पिता सुशील गुप्ता का कहना है कि चन्दन ने तिरंगे की खातिर बलिदान दिया है, अब हम तिरंगे को देखकर उसे याद करते रहेंगे। अब चंदन की माँ और उनके लिए ये तिरंगा ही चन्दन है।

पढें : अराजकता का अपराध शास्त्र समझे बिना नहीं रुकेंगे दंगे

इस मामले में यह बात भी गौर करने वाली है कि चंदन के परिवार वाले और अन्य हिंदू समुदाय योगी सरकार से चंदन को शहीद का दर्जा देने की मांग भी कर रहे हैं।

पढें : ये कैसा हिंदूवाद है जो गौरी लंकेश को कुतिया और चंदन को शहीद कहता है

दूसरी तरफ कासगंज में 26 जनवरी को घटित हुई सांप्रदायिक घटना की मजिस्ट्रियल जांच शुरू की गई है। इसमें 13 फरवरी तक लोगों से साक्ष्य प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं।

पढें :  कासगंज में दैनिक जागरण ने निभाई दंगाई अखबार की भूमिका

इस मामले में जिला मजिस्ट्रेट आरपी सिंह द्वारा मजिस्ट्रियल जांच करने के लिए अपर जिला मजिस्ट्रेट न्यायिक मनीष कुमार नाहर को नामित किया गया है। 

पढें : कासगंज दंगा : इधर-उधर की बात न कर, ये बता काफिला क्यों लुटा ?

गौरतलब है कि कासगंज जिले के थाना कोतवाली क्षेत्र में बिलराम गेट के पास से 26 जनवरी के मौके पर विश्व हिंदू परिषद और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा तिरंगा बाइक रैली निकाली गई थी। इसी दौरान कासगंज में बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ इस जुलूस ने हिंदुस्तान में रहना है तो वंदे मातरम कहना है, जय श्रीराम और भारत माता की जय, हिंदुस्तान जिंदाबाद और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगाए।

पढें : नौशाद अहमद ने बताई कासगंज दंगों की असलियत 

पढें :  कासगंज में बीजेपी सांसद राजवीर सिंह के भाषण के बाद और भड़की हिंसा, वीडियो आया सामने

पढें : कासगंज में दोबारा भड़की हिंसा, कई दुकानों और बसों को लगाई आग

मौके पर मौजूद लोगों के मुताबिक हिंदुवादी संगठनों द्वारा गणतंत्र दिवस के जुलूस में हिंदुस्तान में रहना है तो वंदे मातरम कहना है और जय श्रीराम के नारे लगाने का मुस्लिम समुदायों ने विरोध किया और दोनों समुदाय आपस में भिड़ गए। इसी दौरान गोलीबारी भी होने लगी, जिसमें 22 वर्षीय युवा चंदन की मौत हो गई।

देखें संबंधित वीडियो :