Last Update On :

बच्चियों और औरतों को लेकर सभी धर्म के दरवाजे एक सी बास मारते हैं, फिर चाहे वह मुल्ले हों या कठमुल्ले या फिर पंडित—पुजारी या पंडे, और हैरान करने वाली तो यह बात है कि जघन्य हैवानियत के बावजूद न अल्लाह लड़की की चीख सुनता है न भगवान

दिल्ली, जनज्वार। कोई इस हद तक भी हैवान हो सकता है, सोचकर रोंगटे कांप जाते हैं। एक 70 साल के कुंठित मौलाना ने 9 साल की मासूम को न सिर्फ अपनी हवस का शिकार बनाया, बल्कि जब उसने विरोध किया तो मुंह में कपड़ा ठूंस दिया। बच्ची के शरीर को इस निर्ममता से रौंदा कि 3 दिन से उसकी ब्लीडिंग रुक नहीं रही थी।

बच्ची के पेट में दर्द होने और यौनि से लगातार खून आता देख जब उसकी मां ने उससे पूछा तो पहले तो बच्ची डर के मारे चुप रही, क्योंकि मौलाना ने उसे धमकी दी थी कि इस घटना के बारे में किसी को कुछ न बताये नहीं तो वह उसको और उसके परिजनों को जान से मार देगा। मगर जब पेशाब के रास्ते से लगातार तीन दिन तक खूब सारा खून आता रहा और बच्ची पेटदर्द के मारे चिल्ला रही थी, तो परिजन उसे डॉक्टर के पास ले गए। डॉक्टर ने बच्ची के साथ बलात्कार होने की पुष्टि की।

यह घटना बाहरी दिल्ली के नरेला थाना क्षेत्र के एक मदरसे में घटी है। नरेला के बवाना जेजे कॉलोनी में स्थित झुग्गीनुमा मदरसे को मौलाना जफर आलम संचालित करता है। पीड़ित बच्ची भी यहां पढ़ने जाती थी। 24 फरवरी को शाम को लगभग सात बजे जफर ने मदरसे से सभी बच्चों की छुट्टी कर उन्हें घर भेज दिया, मगर नौ साल की बच्ची को अपने पास रोक लिया।

पहले उसने बच्ची को पांच रुपए का सिक्का देकर रुकने का लालच दिया। पीड़ित बच्ची मौलाना को दादा बोलती थी। इस कलयुगी दादा ने पहले मदरसे का गेट बंद कर बच्ची के कपड़े उतारे, जब बच्ची चिल्लाने लगी तो उसने उसके मुंह में कपड़ा ठूंसकर अपनी हवस शांत की।

शुरुआती जांच में पुलिस ने बताया कि पीड़ित बच्ची के परिवार में माता-पिता के अलावा दो बहनें और एक भाई है। उसके पिता नगर निगम में दिहाड़ी मजदूर का काम करते हैं और मां मानसिक रूप से बीमार है। जिस मदरसे में बच्ची के साथ मौलवी ने दुष्कर्म किया वह उसके घर के पास ही है। वहां बड़ी संख्या में बच्चे पढ़ने आते हैं, बच्ची भी सबके साथ पढ़ने जाती थी।

मौलाना का डर बच्ची पर इस कदर हावी था कि डॉक्टर द्वारा दुष्कर्म की पुष्टि करने पर जब बच्ची से परिजनों ने पूछा तो वह कुछ भी बताने से डरती रही, सिर्फ रोती रही। बाद में बताया कि मौलाना दादा ने उसके कपड़े उतारे, जब उसने मना किया तो मुंह में कपड़ा ठूंस दिया और उसके साथ गंदा काम किया।

बच्ची के परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने पोस्को एक्ट 2012 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। 

आरोपी मौलाना को गिरफ्तार कर लिया गया है। बच्ची फिलहाल बाबा साहब अंबेडकर अस्पताल में भर्ती है। मगर इस तरह की बलात्कार की घटनाओं की दिन—ब—दिन जिस तरह से बाढ़ आती जा रही है, उससे लगता है कि हमारे देश के मर्द मानसिक रूप से विक्षिप्त होते जा रहे हैं।