बॉलीवुड एक्ट्रेस ने कहा, यह बहुत गलत है। चाहे उनका धर्म और जाति कोई भी हो, लेकिन वो भारतीय हैं। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है और हमें इस तरह के कार्यों की कड़ी निंदा करने की जरूरत है…

जनज्वार। दिल्ली से सटे गुरुग्राम से होली के दिन यानी 21 मार्च को हिंसक वीडियो सामने आया, जिसमें भीड़ ने घर में घुसकर पूरे मुस्लिम परिवार पर लाठी—डंडे, रॉड और तलवारों से हमला किया। यह वीडियो लगातार सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और लोगों ने इसकी भर्त्सना करनी शुरू कर दी है।

इसी कड़ी में बॉलीवुड की ख्यात एक्ट्रेस भूमि पेडनेकर मैदान में उतर गई हैं और उन्होंने इसे बहुत गलत और धर्मनिरपेक्ष देश के माथे के लिए कलंक बताया है। अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से ट्वीट करते हुए भूमिका ने लिखा है, ‘यह बहुत गलत है। चाहे उनका धर्म और जाति कोई भी हो, लेकिन वो भारतीय हैं। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है और हमें इस तरह के कार्यों की कड़ी निंदा करने की जरूरत है।’ गौरतलब है कि पहले भी भूमि पेडनेकर अपनी बेबाक राय सोशल मीडिया पर रखती आई है।

भूमि पेडनेकर के अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की है।

घटनाक्रम के मुताबिक होली के दिन तकरीबन 40 लोगों की भीड़ ने गुरुग्राम के भोंडसी इलाके में एक मुस्लिम परिवार के घर में घुसकर पूरे परिजनों पर लाठी-डंडों और तलवार से हमला किया और बुरी तरह पीटा।

पुलिस ने शुरुआती छानबीन के बाद बताया कि होली के दिन भोंडसी इलाके में तीन-चार लोगों के परिवार पर करीब 40 लोगों की भीड़ ने हमला कर दिया। घटना की छानबीन की जा रही है, अब तक इस मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हमले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक गुरुग्राम के भोंडसी इलाके में क्रिकेट मैच से पैदा हुए विवाद के बाद भीड़ ने एक मुस्लिम परिवार पर हमला किया था। वीडियो में दिखाई दे रहा है कि भीड़ ने मुस्लिम परिवार के घर में घुसकर उन्हें लाठी, डंडों, रॉड और तलवार से मारना—काटना शुरू कर दिया। वीडियो में दिख रहा है कि कुछ लोग मुस्लिम परिवार के पुरुषों को लाठियों से पीट रहे हैं और महिलाएं रोते हुए भीड़ से प्रार्थना कर रही हैं कि उन्हें न मारा जाये और छोड़ दिया जाये।

घटना के बाद पीड़ित मुस्लिम परिवार की तरफ से दर्ज कराई गई शिकायत में लगभग मर जाने की हालत तक पीटे गए साजिद के भतीजे दिलशाद ने कहा है कि दो लोग बाइक पर आए और कहा, तुम यहाँ क्या कर रहे हो? पाकिस्तान जाओ और खेलो। उसके बाद उन्होंने लड़ाई शुरू कर दी। जब मेरे चाचा साजिद ने हस्तक्षेप किया तो बाइक पर पीछे बैठे लड़के ने उन्हें थप्पड़ मारा और कहा, तुम रुको, हम तुम्हें तुम्हारी औकात दिखाएंगे। 10 मिनट बाद कई लोग वहां आ गए। हम लोग उन्हें देखकर घर के अंदर भागे, मगर उन्होंने जबरन घर में घुसकर हमारे घर पर भाले, लाठियों और तलवार से पुरुषों पर हमला कर दिया।

गुरुग्राम एसीपी शमशेर सिंह कहते हैं, ‘घटना गुरुवार 21 मार्च की शाम 5 बजे उस वक्त हुई जब पीड़ित परिवार के लोग भूप सिंह नगर में अपने घर के बाहर क्रिकेट खेल रहे थे। यह परिवार अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय से ताल्लुक रखता है।’

बकौल पुलिस भीड़ ने मुस्लिम परिवार के एक सदस्य साजिद को उस वक्त तक डंडों और लोहे की रॉड से पीटा, जब तक वह बेहोश नहीं हो गया।

बाद में साजिद ने भी बताया कि घर में हम पर हमला करने से पहले शराब पीकर आए छह-सात लोगों ने हमें गली में क्रिकेट खेलने से मना किया था। जब मेरे परिवार के लोगों ने क्रिकेट खेलना जारी रखा तो करीब 40 से ज्यादा लोग वहां इकट्ठा हो गए और उन्होंने मुझ पर और मेरे परिवार पर अचानक हमला बोल दिया।

बकौल साजिद प्राथमिकी आरोपी भीड़ ने हमें घर खाली करने और छोड़ने की भी चेतावनी दी। हमने तीन साल पहले यह घर बनाया था। पहली बार इस तरह की घटना घटी है। हमारा किसी के साथ व्यवहार भी खराब नहीं है। पता नहीं हमें क्यों निशाना बनाया गया।

पीड़ित मुस्लिम परिवार की महिला समीना कहती हैं, ‘जब उपद्रवी भीड़ ने हमारे घर पर हमला किया मैं रसोई में खाना बना रही थी। जब तक मैं बाहर गयी, तब तक वे लोग जबरन हमारे घर में घुस गए और घर के मर्दों की पिटाई शुरू कर दी। हमने उनसे पुरुषों को न मारने और छोड़ने के लिए विनती की, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं मारी। जब मैंने रोकने की कोशिश की तो उन्होंने डंडों से पीटा। भीड़ ने हमारे घर की खिड़कियों और कार को भी तोड़ दिया। वे हमारा कीमती सामान, सोने की एक जोड़ी झुमकी, एक सोने की चेन और 25,000 रुपये भी ले गए।


जन पत्रकारिता को सहयोग दें / Support people journalism


Facebook Comment