Last Update On : 25 06 2018 02:41:53 PM

नौकरी की तलाश में पहुंची थी 15 वर्षीय लड़की गोरखपुर, बीआरडी मेडिकल कॉलेज में नर्स की नौकरी का झांसा दे एक लड़की ने ही सौंप दिया था उसे आरोपियों को…

गोरखपुर, जनज्वार। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद स्थित बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज एक नाबालिग के यौन शोषण के चलते चर्चा में है।

एएनआई में प्रकाशित खबर के मुताबिक, गोरखपुर में बीआरडी कॉलेज में 4 लोगों ने पंद्रह वर्षीय नाबालिग लड़की पर यौन उत्पीड़न किया। पुलिस के मुताबिक सभी आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और पुलिस ने अपराधियों को पकड़ने के लिए एक खोज अभियान शुरू किया है।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक 15 साल की नाबालिग लड़की का बीआरडी कॉलेज के भीतर चार लोगों ने शारीरिक शोषण किया। पुलिस ने शुरुआती जांच के बाद सभी आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई और आरापितों को ढूंढ़ने के लिए सर्च अभियान चला दिया है।

पीड़ित लड़की ने पुलिस को बताया कि वह नौकरी की तलाश में गोरखपुर आई थी। यहां 4 लोगों ने मेडिकल कॉलेज की छत पर ले जाकर उससे बलात्कार करने की कोशिश की। अफरोज नाम के आरोपित ने लड़की को मोबाइल चार्ज करने के बहाने पहले बर्न वार्ड की छत पर बुलाया और डरा—धमकाकर बर्न वार्ड नंबर-2 की छत पर लड़की से बलात्कार करने की कोशिश की।

पुलिस के मुताबिक लड़की अपने परिवार से लड़—झगड़कर बलरामपुर से लखनऊ आयी थी। लखनऊ स्टेशन पर उसकी मुलाकात सोनाली नाम की एक लड़की से मुलाकात हुई, जिसने उसे बताया कि वह बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में नर्स है। पीड़िता ने सोनाली से गुजारिश की कि वह उसकी भी नौकरी लगवा दे और वह वहां से सोनाली के साथ गोरखपुर नौकरी की तलाश में आ गई। शनिवार 23 जून को वह सोनाली के साथ गोरखपुर पहुंची। वहां उसने उसे अफरोज से मिलवाया और कहा कि यह तुम्हें नौकरी दिलवा देगा। कल 24 जून को वह दिनभर अफरोज के साथ घूमती रही। रात को सोनाली ने फोन चार्ज करने के बहाने पीड़िता को छत पर बुलाया और वहां उसे अफरोज को सौंप दिया।

किसी तरह वहां से बचकर निकली नाबालिग ने अस्पताल के एक कर्मचारी को अपनी आपबीती बताई जिसके बाद यह मामला पुलिस तक पहुंचा।

आरोपी अफरोज अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गया। हालांकि अब इस मामले में अस्पताल की सीसीटीवी फुटेज खंगाली जा रही है, ताकि आरोपी को पकड़ने में मदद मिल सके।

गौरतलब है कि बीआरडी कॉलेज और विवादों का पुराना नाता रहा है। ये वही बीआरडी मेडिकल कॉलेज है, जहां पिछले साल ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने की वजह से कई बच्चों की मौत हो गई थी। इस मामले में प्रशासन और अस्पताल की लापरवाही सामने आई थी। इसके अलावा कुछ दिन पहले एक छात्र द्वारा आत्महत्या किए जाने का मामला भी इस मेडिकल कॉलेज में सामने आया था।