प्रतीकात्मक फोटो

नाबालिग युवती ने अपनी मां पर डेढ़ लाख में एक व्यक्ति के हाथों बेच देने का आरोप लगाते हुए खुद को बचाने की लगाई गुहार….

रांची, जनज्वार। प्रधानमंत्री मोदी के ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ के नारे की हकीकत में कितनी बड़ी खिल्ली उड़ रही है इसका ताजा उदाहरण झारखंड के नवाजा जिले में सामने आया है, जहां मां बाप ने डेढ़ लाख रुपयों के लालच में अपनी बेटी का ही सौदा कर दिया।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक नवादा जिले के सिरदला थाना क्षेत्र के बड़गांव की रहने वाली एक युवती ने अपनी मां पर डेढ़ लाख में उसका सौदा करने का आरोप लगाया है। साथ ही पुलिस से गुहार लगाई है कि उसे न्याय दिलाया जाए।

पीड़ित युवती ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि उसके माता-पिता ने गिरीडीह के राजधनवार के रंजीत तिवारी से डेढ़ लाख रुपया लेकर उसकी शादी 15 साल की उम्र ही जबरन 16 जुलाई 2018 को करा दी थी। शादी के बाद 26 नवंबर 2018 को उसे ट्रेन से पुणे ले जाया जा रहा था, जहां उसे फिर से बेचे जाने की बात चल रही थी। यह सौदा 6 लाख रुपए में तय होना था।

जबकि युवती की मां पार्वती देवी ने कहा था कि उसकी बेटी को बारे गांव के एक व्यक्ति ने जबरन बंधक बनाया हुआ है और छोड़ने के लिए कहने पर मारपीट करता है। जैसे ही यह खबर पीड़ित युवती को हुई तो वह वह एसडीपीओ कार्यालय पहुंच गयी। वहां उसने उसने एसडीपीओ अजय प्रसाद से अपनी मां पर डेढ़ लाख में एक व्यक्ति के हाथों बेच देने का आरोप लगाते हुए खुद को बचाने की गुहार लगायी। साथ ही अपनी आपबीती भी एसडीपीओ को बताई।

पीड़ित युवती ने कहा कि जब उसे पुणे बेचने के लिए ले जाया जा रहा था तो वह चोरी से ट्रेन से इलाहाबाद के समीप उतर गयी और दूसरी ट्रेन पकड़ कर मुगलसराय आ गयी। उसके बाद वह भभुआ के बारे में रहने वाली अपनी चचेरी बहन के पास किसी तरह जान बचाकर पहुंची।

पीड़िता ने कहा कि बुधवार 5 दिसंबर को उसकी मां ने भभुआ के बारे पहुंचकर उसकी बहन और बहनोई पर झूठा आरोप लगाया और उसे फिर से अपने साथ ले जाने की कोशिश की। वहां उसके मां—बाप ने खूब हंगामा किया और उसके दीदी—जीजाजी को धमकी दी कि तुम्हें अपहरण के केस में फंसा देंगे। उसके बाद भी जब उसने मां के साथ जाने से मना कर दिया तो उसने भभुआ थाने में बेटी को जबरन कैद करने की शिकायत की।

वहीं इस बारे में एसडीपीओ अजय प्रसाद कहते हैं, पीड़ित युवती का बयान दर्ज कराने के लिए महिला थाने भेजा गया है। उसका मेडिकल कराने के बाद नियमतः अगली कार्रवाई के लिए जीरो एफआईआर नवादा जिले में संबंधित थाने में भेजी जाएगी। हम इस मामले में छानबीन कर कड़ी कार्रवाई करेंगे।