file photo

पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के भतीजे युसूफ की हत्या कल 1 फरवरी को देर रात सीने पर गोली मारकर कर दी गई। युसूफ की घटनास्थल पर ही मौत हो गई, हत्या के कारणों का नहीं हो पाया है खुलासा…

जनज्वार। ​अपहरण, लूट, हत्या समेत अन्य तरह की हिंसक घटनाओं में बिहार का हमेशा अव्वल नंबर रहता है। यहां पर हत्या—मर्डर की घटनाएं भारी पैमाने पर सामने आती रहती हैं। आज एक बार फिर बिहार में हत्याओं का जैसा सिलसिला चल पड़ा। प्रभात खबर में छपी खबर के मुताबिक बिहार में मात्र 24 घंटे के अंदर 8 लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया। इनमें बिहार के सीवान जनपद से राजद के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के भतीजे की भी गोली मारकर हत्या कर दी गई। शहाबुद्दीन फिलहाल तिहाड़ ​जेल में बंद हैं। गौरतलब है कि गैंगस्टर से राजनेता बने मोहम्मद शहाबुद्दीन पर खुद हत्या और किडनैपिंग के लगभग 63 मामले दर्ज हैं। 

घटनाक्रम के मुताबिक मोहम्मद शहाबुद्दीन के भतीजे मोहम्मद युसूफ की हत्या के बाद से यहां हिंसक प्रदर्शन शुरु हो गया। युसूफ की हत्या कल 1 फरवरी को देर रात सीने पर गोली मारकर हत्या कर दी गई। युसूफ की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। हत्या किसने और क्यों की, अभी पुलिस इसकी जांच कर रही है।

इसके अलावा मुजफ्फरपुर जनपद में गैंगवार में अपराधियों ने बस स्टैंड पर एक व्यक्ति को मौत के घाट उतार दिया। इसके अलावा बिहार की राजधानी पटना के पटनासिटी इलाके में पेट्रोल पम्पकर्मी को अपराधियों ने लूट के दौरान गोली मार दी। इस घटना में भी युवक की मौके पर ही मौत हो गयी। लूट के इरादे से की गई इस हत्या के बाद 3 अपराधियों ने मारे गए युवक के पास से लाखों रुपए का कैश भी लूट लिया गया।

इसके अलावा एक अन्य घटना को बक्सर जनपद में अंजाम दिया गया। बक्सर के मॉडल थाना के पॉश इलाके में वार्ड पार्षद को अपराधियों ने गोली मार मौत के घाट उतार दिया। इस घटना में भी वार्ड पार्षद की मौके पर ही मौत हो गई।

मुजफ्फरपुर जनपद में अपराधियों ने ट्रांसपोर्टर की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी मुठभेड़ में एक अपराधी को मार गिराया। मी​डिया में आई खबरों के मुताबिक कुछ अपराधियों ने मुजफ्फरपुर के बैरिया बस स्टैंड में ट्रांसपोर्टर कुंदन सिंह को गोली मार दी। घायल अवस्था में ट्रांसपोर्टर को एसकेएमसीएच में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

आरा जनपद में अज्ञात अपराधियों ने उदवंतनगर थाना क्षेत्र स्थित कसाप गांव के मुखिया पंकज सिंह को गोली मार दी। गम्भीर अवस्था में मुखिया को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनकी हालत नाजुक बनी हुई है।

गोपालगंज में तो कुछ पढ़ने वाले छात्रों ने अपने साथ पढ़ने वाले छात्र का ही फिरौती के लिए अपहरण कर लिया। परिजनों से इन अपराधी छात्रों ने जब 1 करोड़ की फिरौती मांगी तो परिवार ने असमर्थता जता दी। पैसे नहीं मिलने पर उन्होंंने अपने साथी छात्र की निर्ममता से हत्या कर दी। इसके अलावा कैमूर जनपद के मोहनिया थाना क्षेत्र में कचहरी के पास एक युवक को भी अपराधियों ने गोलियों से भून दिया। गंभीर हालत में युवक को अस्पताल में भर्ती किया गया है।

वहीं सीतामढ़ी जनपद में बीएसएफ के रिटायर जवान की गोली मारकर हत्या कर दी गयी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक मोटरसाइकिल पर सवार दो बदमाशों ने बीएसएफ जवान को गोली मारी। इस घटना के बाद नाराज ग्रामीणों ने सीतामढ़ी-डुमरा मुख्य पथ को जाम कर हंगामा किया। तीर्थनगरी गया भी अपराध की वारदात से अछूता नहीं रहा। यहां एक 50 वर्षीय बुजुर्ग की गोली मारकर हत्या कर उसकी लाश को नदी में फेंक दिया गया। इस मामले में भी आक्रोशित भीड़ ने भुसुंडा मोड़ के पास सड़क जाम कर दिया और आगजनी कर अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग की।

प्रभात खबर में छपी खबर के मुताबिक मुजफ्फरपुर घटना पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय कहते हैं, ‘तीन गुंडे आते हैं और किसी आदमी पर हमला करते हैं। पुलिस तुरंत मौके पर पहुंच जाती है और मुठभेड़ होती है। सैकड़ों लोगों के सामने मुठभेड़ होती है और अपराधी को मार गिराया जाता है। यह स्पष्ट संदेश है कि बिहार में सुशासन का राज्य है, अगर कोई सुशासन को चुनौती देने की कोशिश करेगा तो गुंडागर्दी को ध्वस्त किया जाएगा। हर जान की सुरक्षा की जिम्मेदारी बिहार पुलिस पर है।’

वहीं सीवान में पूर्व राजद सांसद के भतीजे की हत्या वाली घटना पर बिहार के डीजीपी कहते हैं, ‘पुलिस अपराधियों तक पहुंचने का पूरा प्रयास कर रही है। जल्‍द ही अपराधी हमारी गिरफ्त में होंगे।’

Facebook Comments