Last Update On : 16 02 2018 04:51:00 PM

पत्रकार का दावा नीरव मोदी और उसके भाई की पीएम मोदी के साथ हुई थी दाओस में गुप्त बैठक, लंबे समय से भारतीय जनता पार्टी के रेगुलर डोनरों में शामिल रहा है नीरव मोदी….

प्रिंट और ब्रॉडकास्ट मीडिया की वरिष्ठ पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी ने एक ट्वीट कर दावा किया है कि वर्ल्ड इकॉनॉमिक फोरम की फरवरी 2018 में दाओस में हुई बैठक में शामिल हुए नरेंद्र मोदी ने दाओस में नीरव मोदी और उसके भाई के साथ एक गुप्त बैठक की थी।

स्वाति चतुर्वेदी ने ट्वीट किया है कि ‘मेरे विश्वस्त सूत्रों ने मुझे बताया कि नीरव मोदी और उसके भाई के साथ दावोस में नरेंद्र मोदी ने एक विशेष गुप्त बैठक की थी।’

संबंधित खबर : कांग्रेस के समय नहीं पिछले साल मोदी सरकार में मिला नीरव मोदी को 11 हजार करोड़ का लोन

वहीं इस मुद्दे पर वरिष्ठ लेखक और पत्रकार सागरिका घोष ने ट्वीट किया है, जब 2016 में ही पीएनबी फ्रॉड केस की शिकायत पीएमआई इंडिया को मिल गई थी तो आखिर मोदी सरकार ने क्यों इस पर एक्शन नहीं लिया। प्रधानमंत्री मोदी ने नीरव मोदी को दो साल तक बैंक को धोखा देने की इजाजत क्यों दी?

वहीं प्रोफेसर वाई.के.सिंह ने ट्वीट किया है कि, भाजपा के अंदरूनी सूत्रों ने मुझे बताया है कि नीरव मोदी भाजपा के रेगुलर डोनेटरों में शामिल था। नीरव मोदी पीएमओ के काफी करीब था। यह सिर्फ बैंक फ़्राड नहीं बल्कि बड़े पैमाने पर मास स्कैम भी है।

हालांकि सीबीआई द्वारा पुख्ता सबूत दे दिए जाने के बावजूद अभी भी सोशल मीडिया पर मोदी भक्त अफवाहें और झूठी खबरें प्रसारित करने में लगे हुए हैं कि 2011 में कांग्रेस ने नीरव मोदी को लोन जारी किया था, पर सीबीआई दस्तावेज ने सारा सच सामने लाकर रख दिया है। इसके लिए तरह—तरह के कुतर्कों का सहारा लिया जा रहा है।

संबंधित खबर : देखती रह गयी मोदी सरकार, विजय माल्या के बाद अब नीरव मोदी भी भाग गया देश छोड़कर

इस मसले पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है, ‘भगोड़े पैसे चुराकर भाग गए लेकिन आम लोगों का क्या होगा। इस तरह के घपलों की अवश्य ही जांच की जानी चाहिए। लोगों के पैसे की सुरक्षा अवश्य ही सुनिश्चित की जानी चाहिए। हम उन्हें यह सुनिश्चित होने तक चैन की सांस नहीं लेने देंगे।’