Last Update On : 10 03 2018 09:51:00 AM

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने थानों में की  तीन दिवसीय स्प्रिंग बर्ड फेस्टिवल की शुरुआत, 10 मार्च को बर्ड फोटोग्राफी कार्यशाला, रुरल ईको टूरिज्म कार्यशाला और 11 मार्च को समापन….

अवनीश कुमार

शुक्रवार 9 मार्च को उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने थानों में तीन दिवसीय स्प्रिंग बर्ड फेस्टिवल की शुरुआत की। मुख्य अतिथि के तौर पर वन मंत्री हरक सिंह रावत भी इस कार्यक्रम में मौजूद रहे।

थानों और हरिद्वार के निकट झिलमिल झील में तीन दिवसीय बर्ड फेस्टिवल आयोजित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम की तैयारियां कई दिन पहले से ही चल रहीं थी। इस कार्यक्रम के पहले दिन बर्ड वाचिंग, फिल्म शो और परिचर्चा और हेरिटेज वॉक का आयोजन किया गया। 10 मार्च को बर्ड फोटोग्राफी कार्यशाला, रुरल ईको टूरिज्म कार्यशाला और 11 मार्च को इसका समापन होगा।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर मनुष्य पर्यावरण और पक्षियों के बीच संबंध को समझने पर जोर दिया। उन्होंने इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आए करीब 50 विदेशी पक्षी प्रेमियों का धन्यवाद भी दिया। इसके साथ ही उन्होंने थानों को पक्षी प्रेमियों के लिए एक पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने पर भी जोर दिया। पहले दिन के कार्यक्रम में थानों से सिरियों गांव, थानों से रानीखेत गांव और थानों से मिढ़ावाला गांव के ट्रेल निकले।

शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ ही पक्षी वैज्ञानिक डॉ विभु प्रकाश ने गिद्धों की कम होती संख्या और उनको बचाने के उपायों पर बांबे नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी के विश्व प्रसिद्ध कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी। इसके पहले 2015 में थानों में पहली बार बर्ड फेस्टिवल का आयोजन किया गया था।

थानों, देहरादून शहर से पूरब में करीब 25 किलोमीटर दूर स्थित है और पक्षी प्रेमियों के लिए एक बेहतरीन जगह समझी जाती है। साल के जंगलों के बीच स्थित यह जगह झाड़ियों, खेतों और आड़ी तिरक्षी पगडंडियों से घिरी हुई है। जानकारी के मुताबिक थानों में पक्षियों की करीब 175 प्रजातियां पाई जाती हैं और इसलिए यह पक्षी प्रेमियों के लिए एक आदर्श जगह मानी जाती है।