Last Update On :

18 साल की उम्र से ‘उस्ताद पेड्रो’ से अपने करियर की शुरुआत करने वाली शम्मी ने तकरीबन 200 फिल्मों में काम किया…

हिंदी सिनेमा जगत में शम्मी आंटी के नाम से मशहूर अभिनेत्री शम्मी का 87 साल की उम्र में निधन हो गया। लंबी बीमारी के बाद कल 5 मार्च की देर रात उन्होंने अपने जुहू सर्कल स्थित घर में अंतिम सांसें लीं। शम्मी आंटी के नाम से फिल्म जगत में ख्यात शम्मी का असली नाम नर्गिस राबदी था।

फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन ने भी उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया, “बेहतरीन अदाकारा और परफॉर्मर अब हमारे बीच नहीं हैं। उनकी तबियत लंबे समय से खराब चल रही थी। धीरे-धीरे सभी जा रहे हैं।”

अभिनेत्री शम्मी, सलमा ख़ान, साधना, आशा पारेख, हेलन, वहीदा रहमान और शम्मी कपूर की गैंग फिल्म जगत में मशहूर थी। मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक ये लोग महीने में एक बार जरूर मिलते थे।

अभिनेत्री शम्मी ने न सिर्फ फ़िल्मों में अभिनय किया, बल्कि वे कई टीवी शोज़ से भी जुड़ी थीं। 18 साल की उम्र से ‘उस्ताद पेड्रो’ से अपने करियर की शुरुआत करने वाली शम्मी ने तकरीबन 200 फिल्मों में काम किया। ‘देख भाई देख’, ‘ज़ुबान संभाल के’, ‘फ़िल्मी चक्कर’, ‘श्रीमान श्रीमती’ में उनका यादगार अभिनय उनके प्रशंसक कभी नहीं भुला पाएंगे।

शम्मी की अंतिम फिल्म फराह खान और बोमन ईरानी अभिनीत ‘शीरी फरहाद की तो निकल पड़ी’ थी, उसके बाद वह किसी फिल्म में नहीं दिखाई दीं।

पारसी धर्म से ताल्लुक रखने वाली शम्मी दिग्गज बॉलीवुड फिल्मकार दिवंगत सुल्तान अहमद की पूर्व पत्नी थीं। वह अपने अभिनय से आंटी, नानी, परिवार की बुजुर्ग महिला के किरदार निभाकर घर-घर में मशहूर हुईं थीं।

शम्मी ने मधुबाला, नर्गिस, दिलीप कुमार के अलावा कई जानी—मानी फिल्मी हस्तियों के साथ काम किया था। शम्मी की यादगार फ़िल्मों में ‘मल्हार’, ‘संगदिल’, ‘हाफ टिकट’, ‘जब जब फूल खिले’, ‘सजन’, ‘डोली’, ‘उपकार’, ‘इत्तेफ़ाक़’ के अलावा कई अन्य फिल्में शामिल हैं।