Last Update On : 05 12 2018 10:17:30 AM

विजय माल्या ने ट्वीट कर की अपील, मैं भारतीय बैकों के सारे कर्ज चुकता करने को तैयार हूं, मगर ब्याज नहीं दे सकता हूं….

जनज्वार। देश से तकरीबन 3 साल पहले बैंकों का भारी कर्ज लेकर भागने वाले शराब कारोबारी विजय माल्या ने कहा है कि वह 100 प्रतिशत कर्ज चुकाने को तैयार है। हालांकि इसमें भी बड़ा सवाल यह है कि जब हमारा वित्त मंत्रालय ही यह नहीं जानता कि विजय माल्या ने कितना लोन लिया है तो वह किस हिसाब से 100 फीसदी चुकता करेगा। मोटामोटी विजय माल्या पर करीब 9000 करोड़ रुपये का बैंक कर्ज है।

संबंधित खबर : भगौड़े विजय माल्या को लंदन भागे हो गए 2 साल, मगर वित्त मंत्रालय नहीं जानता कितना लोन लिया है उसने

शराब व्यवसायी और लगभग 2 साल से देश छोड़कर भागे विजय माल्या ने आज 5 दिसंबर की सुबह ट्वीट कर कहा है कि मैं भारतीय बैकों के सारे कर्ज चुकता करने को तैयार हूं, मगर ब्याज नहीं दे सकता हूं।

भगौड़ा घोषित विजय माल्या ने आज सुबह एक के बाद एक तीन ट्वीट किए जिनमें भारतीय बैंकों के 100 फीसदी मूलधन वापस करने का प्रस्ताव रखा गया।

विजय माल्या ने लिखा कि मेरे साथ भारतीय मीडिया और यहां के राजनेताओं ने भारी पक्षपात किया है। अपने ट्वीट में विजय माल्या लिखा है कि ‘पिछले तीन दशकों तक सबसे बड़े शराब समूह किंगफिशर ने भारत में कारोबार किया है। इस दौरान कई राज्‍यों की मदद भी की है। किंगफिशर एयरलाइंस भी सरकार को भरपूर भुगतान कर रही थी, लेकिन हमारी शानदार एयरलाइंस का दुखद अंत हुआ, मगर फिर भी मैं बैंकों भुगतान करना चाहता हूं जिससे उन्‍हें कोई घाटा न हो। कृपया इस ऑफर को स्‍वीकार कर लें।’

एक अन्य ट्वीट में विजय माल्य़ा ने लिखा है कि ‘भारतीय पोलिटिशियन और मीडिया लगातार चीख-चीख कर मुझे पीएसयू बैंकों का पैसा उड़ा लेने वाला डिफॉल्‍टर घोषित कर रहे हैं, मगर यह सब झूठ है। मेरे साथ हमेशा से ही पक्षपात किया गया है। मैंने कर्नाटक हाईकोर्ट में व्यापक निपटान का प्रस्ताव दिया था, इस पर किसी ने आवाज नहीं उठाई. यह सब बेहद दुखद रहा है।’

बकौल विजय माल्या किंगफिशर एयरलाइंस ईंधन की ऊंची दरों की चपेट में आई। हमारी किंगफिशर एक शानदार एयरलाइंस थी, जिसने क्रूड ऑयल की 140 डॉलर प्रति बैरल के उच्‍चतम कीमत का सामना किया। मगर जब घाटा बढ़ता गया, तो बैंकों का पैसा इसी में खर्च हो गया। अब मैंने बैंकों को 100 प्रतिशत मूलधन वापसी का ऑफर दिया है, कृपया आप इसे स्‍वीकार करें।