Last Update On : 19 09 2018 10:19:26 PM

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो में यह पुलिसकर्मी न सिर्फ़ स्मैक पीते दिख रहा है, बल्कि दूसरे पुलिसकर्मियों के साथ गाली गलौज और खुलकर धमकी भी देता दिखाई दे रहा है…

फरीद आरजू की रिपोर्ट

जनज्वार, बलरामपुर। पुलिस महकमा असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा गढ़ती घटनाओं को तो पहले से ही अंजाम देता आया है, मगर अब यह गुंडई खुलकर इसलिए भी सामने आ पाती है कि सोशल मीडिया सबको अपनी बात कहने का अधिकार देता है।

उत्तर प्रदेश पुलिस की काली करतूतों को उजागर करता एक ऐसा ही वीडियो वायरल हुआ है बलरामपुर जिले में। बलरामपुर में एसपी आॅफिस में तैनात एक पुलिसकर्मी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। एसपी आॅफिस में कार्यरत इस पुलिसकर्मी का स्मैक पीते वीडियो वायरल हुआ है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो में यह पुलिसकर्मी न सिर्फ़ स्मैक पीते दिख रहा है, बल्कि दूसरे पुलिसकर्मियों के साथ गाली गलौज और खुलकर धमकी भी देता दिखाई दे रहा है।

पुलिस मोहकमे को कलंकित करने वाले इस पुलिसकर्मी पर कार्यवाही करने के बजाय अधिकारीगण पर्दा डालने में लगे हुए दिखे। अब भारी दबाव के बाद उसे सस्पेंड किया गया है।

जानकारी के मुताबिक पुलिस को सूचना मिली थी कि बिशनापुर गांव के पास बड़े पैमाने पर स्मैक का कारोबार चल रहा है। देहात थाना पुलिस ने जब छापा मारा तो पुलिस वाले यह देखकर दंग रह गए कि स्मैक पीने वालों में एसपी आॅफिस का एक कर्मचारी अरविंद सिंह भी शामिल है।

पुलिस ने 3 अन्य आरोपियों के साथ अरविंद सिंह को हिरासत में लिया तो आरोपी सिपाही भड़क गया और वह न सिर्फ अन्य पुलिसकर्मियों को धमकाने लगा बल्कि गाली गलौज भी करने लगा।

जबकि दूसरी तरफ पुलिस ने 350 ग्राम स्मैक के साथ 3 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है, लेकिन इस आरोपी पुलिसकर्मी को बचाने के प्रयास में लगी रही। इस सिलसिले में जब इस रिपोर्ट के रिपोर्टर ने एसपी से बात की तो एसपी ने ये कहते हुए फोन काट दिया कि उन्हें इस घटना के बारे में कोई जानकारी नहीं है। हालांकि अब चौतरफा दबाव के बाद अरविंद को सस्पेंड कर दिया गया है।

स्मैक पीते पकड़े गए सिपाही की पहचान एसपी ऑफिस के प्रधान लिपिक शाखा में (एएसआईएम-असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर मिनिस्ट्रियल स्टाफ) रेकॉर्ड बाबू के पद पर तैनात अरविंद सिंह के रूप में हुई है। वायरल वीडियो में एसपी से शिकायत की बात पर वह कहता दिखाई दे रहा है, ‘एसपी साहब क्या कर लेंगे, सस्पेंड ही तो कर देंगे।’