Top
दिल्ली

दिल्ली महिला आयोग की मदद से 6 महीने से जंजीरों से बंधी महिला को मिली 'हैवान पति' से आजादी!

Janjwar Desk
27 Aug 2020 10:10 AM GMT
दिल्ली महिला आयोग की मदद से 6 महीने से जंजीरों से बंधी महिला को मिली हैवान पति से आजादी!
x
स्वाति मालीवाल के नेतृत्व में आयोग की मेम्बर फिरदौस खान और किरण नेगी पुलिस के साथ दिए गए पते पर पहुंची तो सही पाई गई, टीम ने देखा कि घर के बरामदे में एक महिला जंजीर से बंधी जमीन पर बैठी हुई थी.....

नई दिल्ली। दिल्ली महिला आयोग की अध्‍यक्ष स्वाति मालीवाल के नेतृत्‍व में राजधानी के त्रिलोकपुरी इलाके से एक 32 वर्षीय महिला को रिहा करवाया गया है, जिसे उसके पति ने जंजीरों से बांध रखा था। यही नहीं, पति द्वारा की गई प्रताड़ना के कारण उसके मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ा है।

दिल्ली महिला आयोग ने त्रिलोकपुरी इलाके से एक 32 वर्षीय महिला को रिहा करवाया। महिला को पिछले 6 महीनों से जंजीरो से बांधकर रखा गया था। आयोग की महिला पंचायत को एक ग्राउंड वालंटियर के जरिए जानकारी मिली कि त्रिलोकपुरी के एक घर में महिला को जंजीर से बांधकर रखा गया है। इसके बाद आयोग की सदस्या फिरदौस खान ने मामले की सूचना अध्यक्षा स्वाति मालीवाल को दी जिसके बाद स्वाति ने तुरन्त महिला को रेस्क्यू करवाने के लिए टीम का गठन करवाया।

स्वाति मालीवाल के नेतृत्व में आयोग की मेम्बर फिरदौस खान और किरण नेगी पुलिस के साथ दिए गए पते पर पहुंची तो सही पाई गई। टीम ने देखा कि घर के बरामदे में एक महिला जंजीर से बंधी जमीन पर बैठी हुई थी। उससे बात करने पर उसने बताया कि उसे उसके पति ने 6 महीने से चेन से बांधकर रखा गया है। महिला की हालत बेहद खराब थी एवं उसके कपड़े फटे हुए थे। जहां उसे रखा हुआ था वहां कोई पंखा तक नहीं था और बहुत बदबू थी, क्‍योंकि उसे बाथरूम तक नहीं जाने दिया जाता था। महिला ने बताया कि उसके विवाह को 11 साल हो गए हैं और उसके 3 बच्चे हैं। महिला को इतनी बुरी तरह से मारा पीटा जाता रहा और टॉर्चर करा गया कि उसका मानसिक स्वास्थ्य भी खराब हो गया है।

जानकारी के अनुसार पीड़िता का पति घर के पास ही एक आटे की चक्की चलाता है। पूछताछ में ये भी पता चला कि महिला की मानसिक स्तिथि पहले ठीक थी और पति द्वारा की गई प्रताड़ना के कारण उसके मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ा। महिला के 3 बच्चे भी हैं जिनके साथ भी अक्सर मारपीट की जाती ह। जब टीम ने बच्चों से बात की तो उन्होंने बताया कि उनके पापा उनकी मां को बहुत मारते हैं और चैन से बांध के रखते हैं।

दिल्ली महिला आयोग ने तुरन्त ही महिला के पैर में बंधी बेड़ियां खोली और उसे वहां से रेस्क्यू करवाया। पीड़िता को घर से निकलवाकर आईएचबीएएस में शिफ्ट करवाने की प्रक्रिया शुरू की गई है और मामले में एफआईआर दर्ज करवाई जा रही है। दिल्ली महिला आयोग महिला को बेहतर से बेहतर इलाज दिलवाने का प्रयास कर रहा है एवं मामले में कड़ी से कड़ी कार्यवाई सुनिश्चित करेगा।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने कहा,हमें इस मामले की शिकायत अपने ग्राउंड पर काम कर रही महिला पंचायत के जरिए मिली। सूचना मिलते ही आयोग की सदस्य फिरदौस खान और किरण नेगी के साथ मैं दिए गए पते पर पहुंची तो महिला की हालत देखकर स्तब्ध रह गयी। महिला के पैर जंजीरो से बांधे गए थे एवं उसे बहुत ही बुरे हाल में रखा गया था। महिला के साथ इस प्रकार की प्रताड़ना की गई कि उसकी मानसिक स्तिथि भी बिगड़ गयी है। हमने महिला को रिहा करवाया और अब उसके इलाज और पुनर्वास के ऊपर काम कर रहे हैं, साथ ही गुनहगार पति पर भी एफआईआर करवाने जा रहे हैं। ऐसी अमानवीय घटनाएं देखकर दिल टूट जाता है।

Next Story

विविध

Share it