उत्तर प्रदेश में कुछ शिक्षण संस्थान योगी सरकार के आदेशों का कर रहे हैं खुलेआम उल्लंघन, कोरोना को महामारी घोषित करने के बाद करा दिये गये हैं यूपी के सारे स्कूल-कॉलेज बंद, मगर यह स्कूल लेगा बच्चों की परीक्षा…

गौरव गुलमोहर की रिपोर्ट

जनज्वार। कोरोना वायरस के महामारी घोषित होने के बाद हमारे देश में भी अनेक राज्यों में स्कूल, कॉलेज, मॉल और कई बड़े संस्थानों को बंद करने का आदेश सरकार द्वारा जारी कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने भी इसी के मद्देनजर 31 मार्च तक स्कूल बंद करने का आदेश जारी किया है, मगर सरकार के आदेशों की खुलेआम धज्जियां स्कूल प्रबंधन द्वारा उड़ायी जा रही हैं।

सा ही एक मामला यूपी के आजमगढ़ जनपद के चिल्ड्रेन पब्लिक सीनियर सेकेंड्री स्कूल में सामने आया है, जहां कल 17 मार्च से परीक्षायें की जा रही हैं, जबकि योगी सरकार सभी निजी और सरकारी स्कूलों के लिए आदेश जारी कर चुकी है कि 2 अप्रैल तक कोई भी स्कूल नहीं खोला जा सकता। ऐसा बच्चों की देखभाल के मद्देनजर किया गया है, मगर स्कूल खुलेआम इसकी धज्जियां उड़ा रहा है।

यह भी पढ़ें : भारत कोरोना का अगला बड़ा केंद्र, चीन और इटली से भी भयावह हो सकती है स्थिति! स्वास्थ्य विशेषज्ञ का दावा

स संबंध में जब जनज्वार संवाददाता ने स्कूल के प्रिंसिपल एससी पटनायक से बात की तो पहले तो उन्होंने यह मानने से ही इंकार कर दिया कि वह प्रिंसिपल हैं और इस तरह की कोई भी जानकारी देने से इंकार कर दिया। जब दोबारा जनज्वार संवाददाता ने अभिभावक बनकर प्रिंसिपल से जानकारी मांगी तो उन्होंने स्वीकारा कि कल से स्कूल में परीक्षायें आयोजित करायी जा रही हैं। यह परीक्षायें प्राइमरी से लेकर 11वीं तक के बच्चों के लिए आयोजित की जायेंगी।

गौरतलब है कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को लेकर दहशत का माहौल व्याप्त है। सारी सरकारें अपने देश के नागरिकों को इस खतरनाक वायरस की चपेट में आने से बचाने के लिए हरसंभव कोशिश कर रही हैं। भारत सरकार भी इस कड़ी में सचेत नजर आ रही है। स्कूल, कॉलेज से लेकर रेल एवं हवाई सेवा तक को लगभग-लगभग स्थगित कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने भी भीड़-भाड़ वाली जगहों और स्कूल-कॉलेज को 31 मार्च तक बन्द करने के आदेश जारी किया है।

यह भी पढ़ें : कानपुर में दस्तक देने को तैयार कोरोना वायरस लेकिन सबसे बड़ा अस्पताल है बदहाल

गर उत्तर प्रदेश में कुछ शिक्षण संस्थान योगी सरकार के आदेशों की खुलेआम अवहेलना कर रहे हैं। ऐसा करने वाला आजमगढ़ का चिल्ड्रेन पब्लिक सीनियर सेकेंड्री स्कूल, बिलाइसा आजमगढ़ में कल प्राइमरी से लेकर ग्यारहवीं कक्षा तक के बच्चों की परीक्षा कराई जा रही है।

नज्वार को यह सूचना स्कूल में पढ़ रहे बच्चों के अभिभावकों के माध्यम से मिली थी कि कल 19 मार्च से स्कूल में बच्चों की परीक्षायें नियम-कानूनों को ताक पर रखकर करवायी जा रही हैं। एक अभिभावक नाम न छापने की शर्त पर कहते हैं कि ‘कल वहां गैदरिंग (भीड़-भाड़) होगी, भला हम वहां अपने बच्चों को कैसे भेज सकते हैं।’

संबंधित खबर : कोरोना वायरस नहीं, बैंक घोटालों की वजह से तेजी से डूब रहा सेंसेक्स

स सम्बंध में जब जनज्वार ने स्कूल के प्रधानाचार्य एससी पटनायक से बात की तो प्रधानाचार्य शुरुआत में तो बात करते हैं, मगर जैसे ही हम योगी सरकार द्वारा अवकाश के संदर्भ में जारी आदेश के उल्लंघन के बारे में पूछते हैं तो वे रांग नम्बर बताकर कॉल काट देते हैं।

चिल्ड्रेन पब्लिक सीनियर सेकेंड्री स्कूल में इवेल्यूएशन के संदर्भ में वहां पहुंचे एक शिक्षक महोदय नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि ‘स्कूल यह परीक्षा शासन-प्रशासन के आदेश के खिलाफ जाकर करा रहा है। प्रधानाचार्य जी इस वायरस की गम्भीरता नहीं समझ रहे हैं। कल वहां बड़ी संख्या में अभिभावक और बच्चों की भीड़ इकट्ठा होगी। ऐसे में कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बढ़ जाएगा। हम इस तरह कैसे नौनिहालों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर सकते हैं।’

भारत में 5-6 दिनों में कोरोना वायरस के मामले लगभग दोगुने हुए, मृतकों की संख्या भी बढ़ी

ब जनज्वार संवाददाता ने इस संबंध में आजमगढ़ के जिलाधिकारी से बात की तो उन्होंने कहा कि उन्हें इस मामले की सूचना नहीं है, शायद सीबीएससी की परीक्षा के कारण स्कूल खुला हो, मगर उन्होंने यह आश्वासन जरूर दिया कि वह अपने स्तर पर इस मामले की तत्परता से जांच करेंगे कि ऐसे नियमों का खुलेआम उल्लंघन कैसे हो रहा है, वह भी बच्चों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ करके।

Edited By :- Janjwar Team

जन पत्रकारिता को सहयोग दें / Support people journalism