Last Update On : 03 07 2018 05:15:03 PM

रात को जब दर्शनार्थियों की आवाजाही मंदिर में बंद हो गई तो युवती ने देवी की मूर्ति के सामने चाकू से अपनी जीभ काट ली। जीभ काटने के बाद से युवती अचेत हो गई, किसी ने पुलिस को खबर की तो किसी तरह उसे अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसका उपचार किया गया…

भोपाल। अभी दो दिन पहले 1 जुलाई की रात को दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 लोगों द्वारा मोक्ष प्राप्ति के लिए तंत्र मंत्र के चक्कर में आत्महत्या करने की खबर ठंडी भी नहीं पड़ी थी कि मध्य प्रदेश के उमरिया जिले से एक युवती द्वारा मंदिर की चौखट पर अपनी जीभ माता को चढ़ा देने का सनसनीखेज मामला सामने आया है।

भगवान और मोक्ष प्राप्ति के नाम पर समाज में घट रही ऐसी घटनाएं​ विचलित करती हैं कि हम एक मानसिक रूप से विक्षिप्त होते समाज का हिस्सा बनते जा रहे हैं, या कि समाज का बहुल मानसिक रूप से विक्षिप्तों का हो भी चुका है।

तंत्र—मंत्र का धंधा और मोक्ष प्राप्ति की आस में हुईं दिल्ली की 11 आत्महत्याएं

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक मध्य प्रदेश के उमरिया जिले में बैगा आदिवासी समुदाय की एक युवती ने कल 2 जुलाई की रात को एक मंदिर की चौखट पर कथित तौर पर अपनी जीभ काटकर माता को चढ़ा दी। ग्रामीणों की मानें तो अपनी जीभ भगवान के नाम पर अर्पण करने वाली युवती सुबह से ही माता बिरासिनी मंदिर में बैठी हुई थी।

आसपास के लोगों के मुताबिक रात को जब दर्शनार्थियों की आवाजाही मंदिर में बंद हो गई तो युवती ने देवी की मूर्ति के सामने चाकू से अपनी जीभ काट ली। जीभ काटने के बाद से युवती अचेत हो गई, किसी ने पुलिस को खबर की तो किसी तरह उसे अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसका उपचार किया गया।

शुरुआती जांच और प्रभात खबर में छपी खबर से पता चला है कि बेहोश युवती और उसके आसपास भारी मात्रा में खून देखकर किसी ने पुलिस को सूचित किया और पुलिस युवती को लेकर अस्पताल पहुंची जहां उसका उपचार किया जा रहा था, मगर इलाज के दौरान ही उसके कहीं गायब होने की खबर है।

अपनी जीभ देवी को चढ़ाने वाली युवती की पहचान 20 वर्षीय ईशुमति बैगा के बतौर की गई है। ईशुमति बैगा पास के ही गांव गिंजरी की है। युवती के पिता कन्छेदी बैगा ने पुलिस को दिए बयान में कहा, ‘मेरी बेटी हमेशा सामान्य रहती थी, उसे कोई परेशानी नहीं थी। फिर उसने अपनी जीभ मंदिर में क्यों चढ़ाई मुझे कुछ नहीं मालूम है।

पाली के ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ वीके जैन इस मामले में कहते हैं, युवती को इलाज के लिए आज सुबह अस्पताल में भर्ती किया गया था, उसका इलाज चल रहा था, लेकिन वह अचानक अस्पताल से कहीं गायब हो गयी।

युवा लड़की के लक्षणों से लगता है कि उसका मानसिक हालत ठीक नहीं थी, मगर पिता के मुताबिक उनकी बेटी एकदम ठीक थी, उसने कभी इस तरह की कोई हरकत नहीं की।