आर्थिक

Adani अगले हफ्ते खरीदेंगे अंबुजा सीमेंट और एसीसी, 31000 करोड़ में होगी डील, 2 दिन पहले खरीदा था दैनिक भास्कर का पावर

Janjwar Desk
23 Aug 2022 2:13 AM GMT
Adani Enterprises : अडानी एंटरप्राइजेज का सितंबर तिमाही में मुनाफा 117% बढ़कर 461 करोड़ रुपए पहुंचा, आय में 3 गुना बढ़ोतरी
x

Adani Enterprises : अडानी एंटरप्राइजेज का सितंबर तिमाही में मुनाफा 117% बढ़कर 461 करोड़ रुपए पहुंचा, आय में 3 गुना बढ़ोतरी

अडानी ग्रुप की कंपनी की ओर से खुली पेशकश 26 अगस्त से शुरू होकर 9 सितंबर को समाप्त होगा। अगर इस पेशकश को पूरी तरह से सब्सक्राइब किया जाता है, तो अडानी ग्रुप ओपन ऑफर के तहत 31,000 करोड़ रुपए का भुगतान होल्सिम को करेगी।

नई दिल्ली। अडानी ग्रुप ( Adani Goup ) की कंपनियों की पिछले कुछ महीनों से शेयर मार्केट में बहार है। इसका लाभ उठाकर अडानी ग्रुप स्विस बेस्ड फर्म होल्सिम ( Holsim ) की दो भारतीय कंपनियों एसीसी ( ACC Cement ) और अंबुजा सीमेंट्स ( Ambuja Cement ) में 26 फीसदी की हिस्सेदारी खरीदने की तैयारी में जुटी है। अडानी ग्रुप की ओर से हिस्सेदारी खरीदने के लिए अगले सपताह खुली पेशकश की जा सकती है। सेबी की ओर से इसके लिए मंजूरी मिल चुकी है। अडानी ग्रुप की कंपनी की ओर से इसके लिए खुली पेशकश 26 अगस्त से शुरू और 9 सितंबर को समाप्त होगा। अगर इस पेशकश को पूरी तरह से सब्सक्राइब किया जाता है, तो अडानी ग्रुप ओपन ऑफर के तहत 31,000 करोड़ रुपए का भुगतान होल्सिम को करेगी। अडानी ग्रुप ने दो दिन पहले डीबी पावर को भी खरीदने की घोषणा की थी।

इसके लिए अंबुजा सीमेंट्स ( Ambuja Cement ) और एसीसी ( ACC Cement ) दोनों ने स्टॉक एक्सचेंज पर ओपन ऑफर का पत्र दाखिल कर दिया है। रेगुलेटरी फाइलिंग के मुताबिक एसीसी लिमिटेड के अधिग्रहण के लिए 2,300 रुपए प्रति शेयर की खुली पेशकश की गई है। ये एसीसी में 26 फीसदी हिस्सेदारी को रिप्रजेंट करता है। वहीं, अंबुजा सीमेंट्स लिमिटेड के 26 फीसदी शेयर खरीदने के लिए 385 रुपए प्रति शेयर का ओपन ऑफर आएगा।

कंपनी में होस्लिम ग्रुप की कितनी है हिस्सेदारी

होल्सिम ग्रुप की कंपनी होल्डरिंड के पास अंबुजा सीमेंट में 63.19 फीसदी और एसीसी में 54.53 फीसदी की हिस्सेदारी है। एसीसी सीमेंट में अपनी 54.53 फीसदी हिस्सेदारी में से 50.05 फीसदी उसने हिस्सेदारी अंबुजा सीमेंट के माध्यम से खरीदी थी। कंपनी ने इस साल मई में इन सीमेंट कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी को बेचने का ऐलान कर दिया था। होल्सिम ग्रुप के साथ हुई डील के बाद आडानी ग्रुप को ओपन ऑफर लाना जरूरी था।

ओपन ऑफर लाना जरूरी क्यों

रुगेलेटरी नियमों के मुताबिक ऐसा करना जरूरी है क्योंकि भारतीय शेयर बाजार में लिस्टेड किसी भी कंपनी के 25 फीसदी या उससे अधिक के शेयर खरीदने के लिए ओपन ऑफर लाना अनिवार्य है। ओपन ऑफर इसलिए लाया जाता है ताकि कंपनी के माइनॉरिटी शेयर होल्डर पहले से तय कीमत पर अपने शेयर निवेशक को बेच सकें। फाइलिंग के मुताबिक एसीसी सीमेंट्स के लिए लगभग 11,259.97 करोड़ रुपए और अंबुजा सीमेंट्स के लिए 19,879.57 करोड़ रुपए का ओपन ऑफर अडानी ग्रुप पेश करेगा।

पीटीआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक ओपन ऑफर 26 अगस्त से शुरू होगा और 9 सितंबर 2022 को खत्म होगा। अडानी समूह ने मई में होल्सिम के भारतीय कारोबार का 10.5 अरब डॉलर के सौदे में अधिग्रहण करने की घोषणा की थी। होल्सिम ग्रुप की कंपनियां पिछले 17 साल से भारत में कारोबार कर रही हैं। भारत में कंपनी के पास तीन प्रमुख ब्रांड हैं जिनमें अंबुजा सीमेंट, एसीसी लिमिटेड और माइसेम शामिल हैं। अल्ट्राटेक सीमेंट के अभी भारतीय बाजार में होल्सिम दूसरी सबसे बड़ी सीमेंट कंपनी है। अंबुजा सीमेंट और एसीसी लिमिटेड की संयुक्त क्षमता 66 मिलियन टन सालाना है।

अडानी समूह बनी सीमेंट की नंबर दो कंपनी

अडानी समूह ( Adani Goup ) के इन दोनों सीमेंट कंपनियों को खरीदने के बाद वह एक झटके में भारत जैसे महत्वपूर्ण बाजार में नंबर दो सीमेंट कंपनी बन गई है। अंबुजा सीमेंट के देश में 6 सीमेंट प्लांट हैं। जबकि 8 सीमेंट ग्राइडिंग यूनिट हैंं। अंबुजा सीमेंट की अकेले सालाना प्रोडक्शन कैपेसिटी 3.1 करोड़ टन है।

2 दिन पहले खरीदा था डीबी पावर

दो दिन पहले भारत और एशिया के सबसे बड़े रईस गौतम अडानी ने डीबी पावर को 7017 करोड़ रुपए में खरीदने की घोषणा की थी। इस बाबत दोनों कंपनियों के बीच 19 अगस्त को समझौता हुआ। एमओयू की प्रारंभिक अवधि 31 अक्टूबर 2022 तक अधिग्रहण के पूरा होने तक होगी जिसे आपसी सहमति से आगे भी बढ़ाया जा सकता है।

Next Story

विविध