संस्कृति

'100 साल तो जी लिए और कितना जिएंगे' इलाज कराने पहुँचे बुजुर्ग का परिवार डॉक्टर की यह बात सुनकर सन्न रह गया

Janjwar Desk
5 Aug 2021 8:45 AM GMT
100 साल तो जी लिए और कितना जिएंगे इलाज कराने पहुँचे बुजुर्ग का परिवार डॉक्टर की यह बात सुनकर सन्न रह गया
x

डॉक्टर की बात सुनकर सन्न रह गया बुजुर्ग (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बुजुर्ग को भर्ती करने के बाद से डाक्टर देखने ही नहीं आए हैं। तीन दिन से सिर्फ बर्फ से सिकाई ही चल रही है। इस समस्या की जब जूनियर रेजिडेंट से शिकायत की तो उल्टा जवाब मिला। इस पर वह प्रमुख अधीक्षक से शिकायत करने पहुंच गए...

जनज्वार, कानपुर। यूपी के कानपुर (Kanpur) में सरकारी अस्पताल के डॉक्टर द्वारा एक बुजुर्ग के परिजनों से शर्मनाक व्यवहार किए जाने की बात सामने आ रही है। इलाज कराने गये बुजुर्ग के लिए डॉक्टर ने कुछ ऐसा कह दिया जिसे सुनकर बुजुर्ग भी सन्न रह गया। परिजनो की शिकायत पर डॉक्टर को अस्पताल प्रमुख द्वारा कड़ी फटकार लगाई गई है।

दरअसल, 100 वर्ष के एक बुजुर्ग को हार्निया की शिकायत होने पर जीएसवीएम मेडिकल कालेज के लाला लाजपत राय (LLR) चिकित्सालय के सर्जरी विभाग स्थित वार्ड नंबर 6 में भर्ती कराया गया। तीन दिन से वार्ड में भर्ती बुजुर्ग को डाक्टर देखने तक नहीं आ रहे हैं। उनके स्वजन बर्फ से सिकाई कर रहे हैं।

इंतजार करते-करते थक चुके परिजनों ने जूनियर रेजीडेंट (JR) से जाकर समस्या बताई तो जेआर ने तपाक से कटाक्ष किया, '100 साल उम्र है, अब कितना जिएंगे।' इस जवाब से आहत स्वजन प्रमुख अधीक्षक प्रो. आरके मौर्या से शिकायत करने पहुंच गए। इस पर उन्होंने जेआर को डांट लगाई। मरीज से ऐसा बर्ताव न करने की नसीहत भी दी।

जानकारी के मुताबिक, फतेहपुर के रहने वाले विश्वनाथ खन्ना 100 वर्ष के है। उन्हें हार्निया की दिक्कत होने पर परिजन जीएसवीएम मेडिकल कालेज के लाला लाजपत राय अस्पताल लेकर आए। वह यहां सर्जरी विभाग के वार्ड 6 के बेड 8 पर भर्ती हैं। उनका इलाज सर्जरी विभाग के डा. प्रियेश शुक्ला की यूनिट में चल रहा है।

बुजुर्ग को भर्ती करने के बाद से डाक्टर देखने तक नहीं आए हैं। हार्निया में सूजन है, इसलिए बर्फ से सिकाई करने की सलाह दी गई है। उन्हें भर्ती करने के बाद से डाक्टर देखने ही नहीं आए हैं। तीन दिन से सिर्फ बर्फ से सिकाई ही चल रही है। इस समस्या की जब जूनियर रेजिडेंट से शिकायत की तो उल्टा जवाब मिला। इस पर वह प्रमुख अधीक्षक से शिकायत करने पहुंच गए।

लाला लाजपत राय के प्रमुख अधीक्षक प्रोफेसर आर के मौर्या ने बताया कि, 'बुजुर्ग के स्वजन शिकायत करने आए थे। उनकी समस्या सुनी है। उनकी यूनिट के सीनियर डाक्टर एवं जेआर से बात कर बेहतर इलाज करने का निर्देश दिया है। बुजुर्ग के लिए ऐसा जवाब देने वाले जेआर को फटकार लगाई है। अगर लिखित शिकायत करेंगे तो जांच कर कार्रवाई भी की जाएगी।'

Next Story