हाशिये का समाज

Delhi : दलित सिंगर की रेप और हत्या ने पकड़ा तूल, देश की राजधानी में हाथरस कांड दोहराने की कोशिश, क्या दलित होना गुना है?

Janjwar Desk
24 May 2022 9:50 AM GMT
Delhi : दलित सिंगर की रेप और हत्या ने पकड़ा तूल, देश की राजधानी में हाथरस कांड दोहराने की कोशिश, क्या दलित होना गुना है?
x
Delhi : मृतक दलित लड़की के परिजनों व प्रदर्शन कर रहे लोगों ने दिल्ली पुलिस पर देश की राजधानी में हाथरस कांड दोहराने जैसा गंभीर आरोप लगाया है।

Delhi : देश राजधानी दिल्ली ( Delhi ) में एक और दलित लड़की ( Dalit Singer ) दरिंदों की हैवानियत की बलि चढ़ गई। दलित लड़की का दिल दहलाने वाली तस्वीरें सामने आने के बाद से यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है। मृतक दलित लड़की के परिजनों व प्रदर्शन कर रहे लोगों ने दिल्ली पुलिस ( Delhi Police ) पर देश की राजधानी में हाथरस कांड ( Hathras kand ) दोहराने जैसा गंभीर आरोप लगाया है। पीड़ित परिवार सहित दलित लड़की को न्याय दिलाने के लिए प्रदर्शन में शामिल लोग दोषी पुलिसकर्मियों सहित आरोपियों को गिरफ्तार करने और सख्त से सख्त सजा दिलाने की मांग कर रहे हैं। मृतक दलित सिंगर के माता-पिता का आरोप है कि शिकायत के आधार पर पुलिस सही समय पर उचित कार्यवाही करती तो आज मेरी बेटी जिंदा होती।

बीती रात बारिश के दौरान भी जाफरपुर थाने के बाहर दलित सिंगर ( Dalit Singer ) के शव को लेकर प्रदर्शन स्थल पर डटे रहे। परिजनों का आरोप है कि बेटी के साथ पहले गैंगरेप हुआ फिर हत्या ( Rape and Murder )। बेटी बहुजन गाने गाकर परिवार का भरण पोषण करती थी! भीम आर्मी ने आरोप लगाया है कि @DelhiPolice अपने दोषी पुलिसकर्मियों को बचा रही है। उन्होंने संगीता को न्याय दिलाने की आवाज को बुलंद करने की सभी से अपील की है।

हाथरस कांड दोहराने की साजिश

एक ट्विटर यूजर मूकनायक ने बताया है कि सोमवार की रात को पीड़ित परिवार न्याय के लिए अपनी बेटी का शव लेकर थाने के बाहर बैठा था। जाफरपुर थाना पुलिस शव को जबरन उठा कर न जाने कहा ले गई। दिल्ली मे भी हाथरस ( Hathras kand ) दोहराया जा रहा है। विरोध प्रदर्शन में शामिल लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। एक अन्य ट्विटर यूजर दिलिप मंडल ने अपराधियों को गिरफ़्तार कर उनके खिलाफ फास्ट ट्रैक कोर्ट ( Fast Track Court ) में मुकदमा चलाने की मांग की है। पीड़ित परिवार को 1 करोड़ का मुआवजा और एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए।

महम में मिला दलित लड़की का शव

बता दें कि 11 मई से ही दलित दलित लड़की दिल्ली से गायब थी। परिजनों ने अपहरण की शिकायत भी दिल्ली पुलिस थाने में दर्ज कराई थी। 11 दिन बाद अपहृत युवती की हत्या कर शव रोहतक के महम बाईपास पर जमीन में दबा मिला। मामला का खुलासा होने के बाद पुलिस उसके दो साथी कलाकारों की तलाश में जुटी है।

रोहतक के महम पुलिस चौकी इंचार्ज नफे सिंह ने बताया कि रविवार दोपहर करीब 11 बजे एक राहगीर महम बाईपास पर लघु शंका के लिए गया था। उसने देखा कि सड़क किनारे मिट्टी में किसी का हाथ दबा हुआ है। उसने मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस मौके पर पहुंची और आला अधिकारियों को अवगत कराया। शव बाहर निकालने के लिए तहसीलदार मदनलाल को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया।

परिजनों ने की बेटी की शिनाख्त

इसके बाद एफएसएल एक्सपर्ट डॉक्टर सरोज दहिया की मौजूदगी में ड्यूटी मजिस्ट्रेट के सामने जमीन की खुदाई की गई। शव महिला का अर्धनग्न हालत में मिला, जो एक सप्ताह पुराना लग रहा है। इसके बाद एफएसएल एक्सपर्ट ने गहराई से शव की जांच की। महिला के सिर में चोट के निशान मिले हैं। इससे लग रहा है कि किसी ने दलित सिंगर की पहले हत्या की। उसके बाद उसे जमीन में दबा दिया। शव बरामद होने के बाद रविवार देर रात दिल्ली से मृतक के परिजन रोहतक पहुंचे और बेटी की शिनाख्त की।

महम थाना प्रभारी इंस्पेक्टर प्रह्लाद सिंह का इस बारे में ने कहना था कि दोपहर एक युवती का महम बाईपास पर शव ​मिट्टी में दबा मिला। जिसकी पहचान देर रात दिल्ली निवासी संगीता उर्फ दिव्या के तौर पर हुई है। जांच में पता चला है कि युवती 11 मई से लापता थी।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध