Top
राष्ट्रीय

तख्तापलट के बाद 11 पुलिसकर्मियों सहित म्यांमार के 16 नागरिकों ने मिजोरम में लिया आश्रय

Janjwar Desk
6 March 2021 6:22 AM GMT
तख्तापलट के बाद 11 पुलिसकर्मियों सहित म्यांमार के 16 नागरिकों ने मिजोरम में लिया आश्रय
x
अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि 16 विदेशी नागरिकों में से 11 ने खुद को म्यांमार पुलिसकर्मी होने का दावा किया है। हालांकि उनके पास म्यांमार नागरिकता पहचान पत्र था, यह सत्यापित करना कठिन है कि वे पुलिस बल से संबंधित हैं या नहीं।

जनज्वार ब्यूरो/गुवाहाटी। पड़ोसी देश म्यांमार में सेना के सत्ता संभालने के बाद बर्मी सेना की बर्बरता से बचने के लिए 11 पुलिस कर्मियों सहित कम से कम 16 म्यांमार के नागरिकों ने अंतर्राष्ट्रीय सीमा पार कर ली है और वर्तमान में मिजोरम के गांवों में शरण ले रहे हैं।

एक अधिकारी ने कहा कि म्यांमार के 16 नागरिकों ने अलग-अलग बैचों में मिजोरम में प्रवेश किया और वर्तमान में चंपई, हनथियाल और सेरछिप जिलों में शरण ले रहे हैं।

"16 विदेशी नागरिकों में से 11 ने खुद को म्यांमार पुलिसकर्मी होने का दावा किया है। हालांकि उनके पास म्यांमार नागरिकता पहचान पत्र था, यह सत्यापित करना कठिन है कि वे पुलिस बल से संबंधित हैं या नहीं, "अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया।

उन्होंने कहा कि 11 पुलिस कर्मियों में से एक महिला है और दो पुलिसकर्मी पत्नी और बच्चों के साथ आए हैं।

उन्होंने कहा कि यह आंकड़ा किसी भी समय बढ़ सकता है क्योंकि म्यांमार के कई लोग पड़ोसी देश में मौजूदा राजनीतिक अशांति के बाद राज्य में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे हैं।

28 फरवरी को राज्य में प्रवेश करने वाले चार लोग, वर्तमान में चंपई शहर में शरण ले रहे हैं, जबकि 8 लोग सेरछिप जिले के लुंगकावल्ह गाँव में एक सामुदायिक भवन में ठहरे हुए हैं और 4 अन्य स्थानीय लोगों के साथ हनथियाल जिले के चेरहलिया गांव में हैं। ऐसा अधिकारी ने बताया।

उन्होंने कहा कि मिजोरम सरकार ने गुरुवार को केंद्र को म्यांमार शरणार्थियों की आमद और पड़ोसी देश से अधिक शरणार्थियों की संभावित आमद की जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने संभावित शरणार्थी संकट से निपटने के लिए केंद्र से वित्तीय सहायता भी मांगी है।

मिज़ोरम के छह जिले- चंपई, लॉनग्टलाई, हनथियाल, सियाहा, सेरछिप और सिटुआल - म्यांमार के साथ 510 किलोमीटर लंबी झरझरा अंतरराष्ट्रीय सीमा साझा करते हैं।

मिजोरम पहले से ही हजारों म्यांमार मूल के चिन समुदायों का घर है, जो मिज़ोरम के मिज़ो लोगों के साथ एक ही संस्कृति और वंश को साझा करते हैं।

चंपई जिला उपायुक्त मारिया सीटी ज़ूली ने कहा कि म्यांमार के लगभग 125 नागरिक अब फार्कन गांव में भारतीय सीमा को पार करने की कोशिश कर रहे हैं और कई अन्य लोगों ने भी विभिन्न मार्गों से मिजोरम में प्रवेश करने का प्रयास किया है।

उन्होंने कहा, "भारत-म्यांमार सीमा की सुरक्षा कर रहे असम राइफल्स के अधिकारी और सैनिक तब तक शरणार्थियों को मिजोरम में प्रवेश करने से रोकते रहेंगे, जब तक कि उन्हें अंदर जाने के लिए उच्च अधिकारी से कोई निर्देश नहीं मिलता।"

सियाहा के जिला उपायुक्त केसवन आर ने कहा कि उन्होंने शुक्रवार को जिले में प्रवेश करने वाले म्यांमार शरणार्थियों के बारे में रिपोर्ट सत्यापित करने के लिए अधिकारियों को भेजा है।

मुख्यमंत्री ज़ोरमथांगा ने कहा कि उनकी सरकार म्यांमार के शरणार्थियों को मानवीय राहत प्रदान करेगी, जिन्होंने पड़ोसी देश में सैन्य तख्तापलट की वजह से राज्य में शरण ली थी।

"हमें पता चला है कि कुछ शरणार्थी पहले ही मिजोरम में आ चुके हैं। हम उनके अपने देश लौटने तक राज्य में शरण लेने वालों को आश्रय और राहत प्रदान करेंगे। हमने इस उद्देश्य के लिए धन स्वीकृत किया है, जिसका उपयोग आवश्यकता के अनुसार किया जाएगा, "मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को मिजोरम के सबसे महत्वपूर्ण त्योहार-" चापचर कुट" उत्सव को संबोधित करते हुए कहा।

ज़ोरमथांगा ने कहा कि उनकी सरकार दुनिया के सभी मिज़ो समुदायों के एकीकरण के लिए काम करती रही है।

मिजोरम में नागरिक समाज संगठनों और छात्र निकायों ने भी जातीय आत्मीयता के कारण म्यांमार के शरणार्थियों का खुले दिल से स्वागत किया।

1 फरवरी से म्यांमार में तख्तापलट विरोधी प्रदर्शनों में कम से कम 55 लोग मारे गए हैं।

Next Story

विविध

Share it