राष्ट्रीय

30 घंटे बाद मुंबई की निर्भया हारी जिंदगी की जंग, गैंगरेप के बाद दरिंदे ने प्राइवेट पार्ट में डाल दी थी लोहे की रॉड

Janjwar Desk
11 Sep 2021 9:08 AM GMT
30 घंटे बाद मुंबई की निर्भया हारी जिंदगी की जंग, गैंगरेप के बाद दरिंदे ने प्राइवेट पार्ट में डाल दी थी लोहे की रॉड
x
(मुंबई में गैंगरेप की शिकार निर्भया की मौत)
घटना गुरुवार रात ढ़ाई से 3 बजे के बीच हुई, इसमें नजर आ रहा है कि आरोपी रेप के बाद महिला को रॉड से बुरी तरह से घायल करता है। फिर उसे अधमरी हालत में एक पिकअप वैन में फेंक कर फरार हो जाता है...

जनज्वार ब्यूरो। मुंबई में रेप (Mumbai Rape) के बाद मारपीट का शिकार हुई महिला की करीब 30 घंटे बाद अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। आरोपी ने रेप के बाद महिला के प्राइवेट पार्ट पर रॉड से बुरी तरह हमला किया था। पीड़ित महिला का मुंबई के राजावाड़ी हॉस्पिटल में इलाज चल रहा था। इस घटना का एक CCTV फुटेज भी सामने आया है, जिसके आधार पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

सीसीटीवी फुटेज (CCTV Futage) में सामने आया है कि, घटना गुरुवार रात ढ़ाई से 3 बजे के बीच हुई, इसमें नजर आ रहा है कि आरोपी रेप के बाद महिला को रॉड से बुरी तरह से घायल करता है। फिर उसे अधमरी हालत में एक पिकअप वैन में फेंक कर फरार हो जाता है। हालांकि, अंधेरी रात होने के कारण फुटेज बहुत साफ नहीं हैं, लेकिन आरोपी की हरकत साफ नजर आ रही। इसी फुटेज के आधार पर 45 वर्षीय आरोपी मोहन चौहान (Mohan Chauhan) को गिरफ्तार किया गया।

साकीनाका पुलिस स्टेशन (Sakinaka Police Station) के सीपीआई बलवंत जाधव ने बताया कि, ये CCTV फुटेज आरोपी चौहान को सजा दिलाने में अहम सबूत साबित होगा। आरोपी को पकड़ने के बाद उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की गई और उसे वीडियो फुटेज दिखाया गया तो उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया।

राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए महाराष्ट्र सरकार के DGP को एक पत्र लिखकर मामले में कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। वहीं, भूमाता ब्रिगेड की प्रमुख तृप्ति देसाई ने कहा है कि मुंबई के साकीनाका परिसर में महिला के साथ जिस तरीके से बलात्कार किया गया यह राक्षसी प्रवृति का परिणाम है। यह एक क्रूरता पूर्ण घटना है।

जांच में सामने आया है कि आरोपी को महिला सड़क किनारे टहलते हुए मिली थी। रेप के बाद वह महिला की हत्या करना चाहता था, इसलिए उसने प्राइवेट पार्ट पर रॉड से हमला किया। 15 मिनट बाद वहां से गुजरने वाले किसी व्यक्ति ने महिला को खून से लथपथ बेहोशी की स्थिति में देखा और साकीनाका पुलिस स्टेशन को फोन कर इसकी जानकारी दी है।

दो बेटियों के साथ मुंबई में रहती थी पीड़िता

जांच में सामने आया है कि पीड़ित की 13 और 16 साल की दो बेटियां हैं और महिला ही अपने परिवार के पालन-पोषण के लिए प्राइवेट नौकरी करती थी। आरोपी के बारे में यह पता चला है कि वह नशे का आदी है और वारदात के दौरान भी वह नशे में धुत्त था।

Next Story

विविध

Share it