राष्ट्रीय

Bihar sharab bandi News: छपरा में जहरीली शराब पीने से 7 की मौत, 15 लोगों की गई आंख की रोशनी

Janjwar Desk
5 Aug 2022 3:25 AM GMT
Bihar sharab bandi News: छपरा में जहरीली शराब पानी से 7 की मौत, 15 लोगों की गई आंख की रोशनी
x

Bihar sharab bandi News: छपरा में जहरीली शराब पानी से 7 की मौत, 15 लोगों की गई आंख की रोशनी

Bihar daru News Today 2022: बिहार में शराबबंदी के बाद से बीमार लोगों में से कुछ का इसाज पीएमसीएच में चल रहा है तो कई लोगों को छपरा सदर अस्पताल और निजी नर्सिंग होम में भर्ती करवाया गया है...

Bihar daru News Today 2022: बिहार में शराबबंदी के बाद सेबीमार लोगों में से कुछ का इसाज पीएमसीएच में चल रहा है तो कई लोगों को छपरा सदर अस्पताल और निजी नर्सिंग होम में भर्ती करवाया गया है. मामला माकेर थाना क्षेत्र के धनुक टोली गांव में बुधवार की रात का है. घटना के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम स्थिति को नियंत्रित करने गांव पहुंची.

जांच में पता चला है कि पीड़ितों ने अलग-अलग जगहों पर जहरीली शराब पी और अपने-अपने घरों को लौट आए. बुधवार 3 अगस्त रात उनकी तबीयत बिगड़ गई और उन्हें इलाज के लिए छपरा के सदर अस्पताल ले जाया गया. ग्रामीण गंभीर रूप से बीमार मरीजों को इलाज के लिए सदर अस्पताल छपरा से पीएमसीएच पटना ले गए.

पिछले तीन दिनों में जहरीली शराब से मौत की ये बिहार में दूसरी घटना है. इससे पहले पाटेपुर थाना क्षेत्र के जीवपुर गांव में सोमवार को दो लोगों की मौत हो गयी थी और चार अन्य गंभीर रूप से बीमार हो गए थे. फिलहाल बीमार लोगों का इलाज चल रहा है. इस घटना के बाद बिहार पुलिस एक बार फिर सवालों के घेरों में आ गई है.

अब तक 73,000 से अधिक गिरफ्तार

शराबबंदी कानून को गलत तरीके से लागू करने को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रही राज्य पुलिस और शराब विरोधी कार्य बल (एएलटीएफ) ने गुरुवार को पिछले 7 महीनों में 73,000 से अधिक अपराधियों को गिरफ्तार करने का दावा किया. एएलटीएफ के एक अधिकारी के अनुसार, विभाग ने 40,000 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि शेष को जिला पुलिस ने गिरफ्तार किया है. अधिकारी ने आंकड़े साझा करते हुए कहा कि राज्य में गिरफ्तार किए गए लोगों की कुल संख्या 73,413 है, जिनमें से 40,074 को एएलटीएफ ने पकड़ा है. सात माह की अवधि में प्रदेश के विभिन्न थानों में 52,770 प्राथमिकी दर्ज की गई है. बिहार में अप्रैल 2016 से शराबबंदी अधिनियम लागू किया गया था.

Next Story

विविध