राष्ट्रीय

अश्लील वीडियो वायरल होने के बाद BJP महासचिव का इस्तीफा, पार्टी ने वीडियो डालने वाले कार्यकर्ता को निकाला

Janjwar Desk
25 Aug 2021 2:59 PM GMT
अश्लील वीडियो वायरल होने के बाद BJP महासचिव का इस्तीफा, पार्टी ने वीडियो डालने वाले कार्यकर्ता को निकाला
x

(अश्लील वीडियो सामने आने के बाद राघवन ने पद से इस्तीफा दे दिया है)

तमिलनाडु में भाजपा महासचिव केटी राघवन ने एक अश्लील वीडियो सामने आने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है, वहीं पार्टी ने वीडियो को सोशल मीडिया पर डालने वाले कार्यकर्ता को पार्टी से निकाल दिया है..

जनज्वार। तमिलनाडु में भाजपा महासचिव केटी राघवन ने एक अश्लील वीडियो सामने आने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। वहीं पार्टी ने वीडियो को सोशल मीडिया पर डालने वाले बीजेपी कार्यकर्ता को पार्टी से निकाल दिया है। वीडियो के अनुसार राघवन कथित तौर पर पार्टी की ही महिला कार्यकर्ता के साथ आपत्तिजनक वीडियो चैट कर रहे थे। पार्टी के ही एक सदस्य ने यह वीडियो यूट्यूब पर पोस्ट कर दिया। हालांकि वीडियो में दिखायी दे रहा शख्स राघवन ही हैं, इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। वहीं राघवन ने सभी आरोपों से इनकार किया है।

वीडियो को सोशल मीडिया पर डालने वाले मदन रविचंद्रन को निकाले जाने की पुष्टि तमिलनाडु भाजपा के महासचिव कारू नागराजन ने की है। नागराजन ने कहा, "यूट्यूबर मदन रविचंद्रन व सहयोगी वेनबा को भाजपा से निष्कासित कर दिया गया है। दोनों को प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया है। नागराजन ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे उनके साथ कोई संबंध न रखें।"

यूट्यूबर रविचंद्रन ने एक वीडियो अपलोड किया था। इसमें कथित तौर पर तमिलनाडु बीजेपी के पूर्व महासचिव केटी राघवन को एक महिला के साथ वीडियो कॉल में दिखाया गया था। इसके बाद राघवन ने अपना पद छोड़ दिया था। नागराजन ने चेन्नई में जारी बयान में कहा कि यूट्यूबर मदन रविचंद्रन और उनके सहयोगी वेनबा ने भाजपा की विचारधाराओं के विपरीत विचार व्यक्त किए थे। इन दोनों को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता खत्म कर दी गई है।

नागराजन ने कहा कि दोनों ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के अन्नामलाई से मुलाकात की और पार्टी सदस्यों के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए उनके द्वारा गठित समिति को अपना सहयोग देने का आश्वासन दिया।

इससे पहले राघवन ने ट्वीट करके सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि ये सभी आरोप गलत हैं। उन्होंने कहा कि इसके खिलाफ वे कानूनी लड़ाई लड़ेंगे। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, "तमिलनाडु की जनता और पार्टी कार्यकर्ता मेरे बारे में अच्छी तरह जानते हैं। मैं 30 साल से निस्वार्थ भाव से काम कर रहा हूं। यह वीडियो मुझे और मेरी पार्टी को बदनाम करने के लिए जारी किया गया है। इस बारे में मैंने वरिष्ठ नेताओं से बात की है और मैं अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं। अंत में सत्य की ही जीत होगी।"

उधर तमिलनाडु राज्य भाजपा के अध्यक्ष अन्नामलाई ने कहा कि इन आरोपों की जांच के लिए पार्टी द्वारा कमिटी बनाई जा रही है। अन्नामलाई ने कहा, "हम आरोप को गंभीरता से ले रहे हैं। पार्टी एक जांच आयोग का गठन कर रही है। इन आरोपी के पीछे की सच्चाई का पता लगाया जाएगा। जो भी दोषी साबित होगा उसपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पार्टी में महिलाओं का सम्मान किया जाता है और उनसे अच्छा व्यवहार होता है।"

बता दें कि पार्टी के कार्यकर्ता रविचंद्रन ने यूट्यूब पर एक वीडियो अपलोड किया था। कथित तौर पर इसमें राघवन महिला सदस्य के साथ वीडियो चैट कर रहे थे। रविचंद्रन ने दावा किया था कि उन्होंने स्टिंग ऑपरेशन किया है और उनके पास कम से कम 15 भाजपा नेताओं के ऐसे वीडियो हैं। रविचंद्रन ने यह भी कहा कि प्रदेश अध्यक्ष के कहने पर ही उन्होंने वीडियो अपलोड किया है।

रविचंद्रन ने कहा कि महिला को न्याय मिलना चाहिए। हालांकि इन आरोपों के बारे में महिला की तरफ से अभी तक कोई बयान सामने नहीं आया है।

Next Story

विविध

Share it