राष्ट्रीय

Char Dham Yatra 2022 शुरू होते ही सक्रिय हुए साइबर लुटेरे, हैली सेवा के नाम पर ऐसे लगा रहे चपत

Janjwar Desk
5 May 2022 9:15 AM GMT
Char Dham Yatra 2022 शुरू होते ही सक्रिय हुए साइबर लुटेरे, हैली सेवा के नाम पर लगा रहे जमकर चपत
x

Char Dham Yatra 2022 शुरू होते ही सक्रिय हुए साइबर लुटेरे, हैली सेवा के नाम पर लगा रहे जमकर चपत

Char Dham Yatra 2022 : दो साल बंद रहने के बाद उत्तराखंड (Uttarakhand) में केदार धाम सहित चार धाम यात्रा (Char Dham Yatra 2022) दो दिन पूर्व शुरू हुई है.....

सलीम मलिक की रिपोर्ट

Char Dham Yatra 2022 : कोविड काल में लगातार दो साल बंद रहने के बाद चारधाम यात्रा (Char Dham Yatra 2022) के शुरू होते ही साइबर लुटेरों की गैंग श्रद्धालुओं को लूटने के लिए सक्रिय हो गई। हैली सेवा के नाम पर शुरू हुई इस लूट से श्रद्धालुओं को बचाने के लिए डीजीपी स्तर से पुलिस (Uttarakhand Police) ने पहल की है। उत्तराखंड में चारधाम यात्रा शुरू होते ही फैला जालसाजों का यह जाल श्रद्धालुओं को केदारनाथ हेली सेवा (Kedarnath Heli Service) के नाम पर ठग रहा है।

गौरतलब है कि वर्ष 2013 में केदारनाथ की भीषण आपदा (Kedarnath Flood) के बाद केदारनाथ में युद्धस्तर पर पुनर्निर्माण कार्य शुरू हुआ था। इस आपदा में हजारों लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था। केदारनाथ में पुनर्निर्माण के दौरान वर्ष 2019 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने केदारनाथ गुफा में तपस्या कर केदारनाथ यात्रा को सुरक्षित होने का संदेश दिया था। लेकिन कोविड के कारण यात्रा दो साल तक सुचारू नहीं हो पाई थी।

इस बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक बार फिर केदारनाथ का दौरा (PM Modi Kedarnath Visit) कर यहां आदि शंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण किया था। प्रधानमंत्री के लगातार दो दौरों के कारण पहले से ही श्रद्धा का केन्द्र रहे केदारनाथ के प्रति लोगों का आकर्षण और अधिक बढ़ा। विशेष तौर पर मोदी द्वारा तपस्या की गई गुफाओं के प्रति।

दो साल बंद रहने के बाद उत्तराखंड (Uttarakhand) में केदार धाम सहित चारधाम यात्रा (Char Dham Yatra 2022) दो दिन पूर्व शुरू हुई है। यात्रा के प्रति लोगों का आकर्षण इतना है कि वह केदारनाथ के लिए ऑनलाइन हैली सेवा बुक करा रहे हैं। लेकिन स्थान कम होने के चलते उन्हें समय से बुकिंग नहीं मिल रही है तो वह अन्य विकल्प की ओर जा रहे हैं। जहां पहले से ही घात लगाए साइबर लुटेरे श्रद्धालुओं की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

आ रही तमाम खबरों के अनुसार उत्तराखंड ही नहीं, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ जैसे देशभर के राज्यों के लोग इस तरह की बुकिंग (Char Dham Yatra 2022 Booking) कराने के चक्कर में हजारों की रकम गंवा रहे हैं। ठगी का सबसे बड़ा कारोबार गूगल व याहू सर्च इंजन में फर्जी कस्टमर और हेली सेवा के नाम से दिए गए मोबाइल नंबर के जरिए किया जा रहा है। ताजा मामला 'हिमालयन हेली सर्विस' (Himalayan Heli Service) नाम की फर्जी वेबसाइट बनाकर ठगी का है।

बताया जा रहा है कि करीब 30 हजार रुपये का फ्रॉड झेलने वाले एक पीड़ित ने इस वेबसाइट के खिलाफ साइबर थाने देहरादून (Cyber Police Station Dehradun) में शिकायत की है। बताया जा रहा है कि अभी तक हेली सेवा ठगी के आधा दर्जन से अधिक मामले उत्तराखंड साइबर पुलिस के पास पहुंच चुके हैं। जिनकी संख्या बढ़ने की पूरी संभावना है।

इस मामले में बताया यह जा रहा है कि हेली सेवा के नाम पर जिस तरह से ऑनलाइन ठगी हो रही है। उनका पूरा गिरोह गूगल और याहू सर्च इंजन पर अपनी फर्जी वेबसाइट मोबाइल नंबर अपलोड कर योजनाबद्ध तरीके से बिहार, झारखंड के जामताड़ा एवं राजस्थान जैसे ग्रामीण इलाकों से संचालित हो रहा है। ऐसे में लोगों को इन ठगों के जाल से बचाने के लिए जागरूक रहने और सावधानी बरतने के अलावा कोई और रास्ता नहीं है।

इस बाबत डीजीपी अशोक कुमार ने भी चारधाम यात्रा के लिए हैली सेवा की बुकिंग कराने वाले श्रद्धालुओं से बुकिंग करने से पहले वेबसाइट की प्रामाणिकता परखने की अपील की है। डीजीपी अशोक कुमार ने श्री केदारनाथ धाम हेतु हेलीकॉप्टर सेवा की बुकिंग केवल आधिकारिक वेबसाइट https://heliservices.uk.gov.in/ पर उपलब्ध होने की जानकारी देते हुए चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए पूरी एडवाइजरी वीडियो के माध्यम से जारी की है।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है।

लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है। सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध