Top
हरियाणा

किसान आंदोलन पर हरियाणा कांग्रेस ने अब तोड़ी चुप्पी, बोले कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है पार्टी

Janjwar Desk
25 Nov 2020 10:25 AM GMT
किसान आंदोलन पर हरियाणा कांग्रेस ने अब तोड़ी चुप्पी, बोले कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है पार्टी
x
कुमारी शैलजा ने कहा कि कृषि विरोधी काले कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों की आवाज को दबाने के प्रयास सरकार के द्वारा लगातार किए जा रहे हैं, अब इस डरी हुई सरकार द्वारा किसानों की गिरप्तारी करवाना अत्यंत निंदनीय है, उन्होंने पूछा कि क्या अब किसान अपने हक के लिए शांतिपूर्ण तरीके से आवाज भी नहीं उठा सकते ?

चंडीगढ़। केंद्र की मोदी सरकार द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब और हरियाणा के किसानों ने मोर्चा खोल दिया है। किसान और उनसे जुड़े संगठन 'दिल्ली चलो' आंदोलन में जुटने की अपील लोगों से कर रहे हैं। इस बीच किसानों के मुद्दे पर शांत कांग्रेस ने भी अपनी चुप्पी तोड़ दी है। हरियाणा की कांग्रेस प्रमुख कुमारी शैलजा ने कहा कि कृषि विरोधी काले कानूनों के खिलाफ शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे किसानों की आवाज दबाने के प्रयास लगातार भाजपा-जजपा सरकार द्वारा किए जा रहे हैं। कांग्रेस पार्टी इन काले कानूनों के खिलाफ लड़ाई में किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है।

कांग्रेस ने इस मुद्दे पर अब तक केवल सोशल मीडिया पर पोस्ट और बयान ही जारी किए हैं, जमीन पर कांग्रेसी नेता अब भी सक्रिय नहीं दिख रहे हैं। दूसरी तरफ सरकारें इस आंदोलन को दबाने के लिए हर तरह योजना बना रही है। हरियाणा, पंजाब और दिल्ली में किसानों को रोकने के लिए जगह-जगह बैरीकेड लगाए गए हैं।

कुमारी सैलजा ने कृषि विरोधी काले कानूनों के खिलाफ दिल्ली में आयोजित आंदोलन में भाग लेने जा रहे हरियाणा के किसानों की गिरफ्तारियों को लेकर हरियाणा भाजपा-जजपा सरकार की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए इसे तानाशाही करार दिया।

उन्होंने कहा कि कृषि विरोधी काले कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों की आवाज को दबाने के प्रयास सरकार के द्वारा लगातार किए जा रहे हैं। अब इस डरी हुई सरकार द्वारा किसानों की गिरप्तारी करवाना अत्यंत निंदनीय है। उन्होंने कहा कि क्या अब किसान अपने हक के लिए शांतिपूर्ण तरीके से आवाज भी नहीं उठा सकते ? हरियाणा सरकार किसानों को तुरंत प्रभाव से रिहा करे।

यहां जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकारक सत्ता के अहंकार में पूरी तरह से चूर है। शांतिपूर्ण तरीके से अपने हकों की लड़ाई लड़ रहे किसानों की आवाज को पुलिस का सहारा लेकर दबाया जा रहा है। हरियाणा सरकार का अन्नदाताओं के साथ यह व्यवहार बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

कुमार शैलजा ने कहा कि पहले पीपील में किसानों पर लाठीचार्ज, फिर सिरसा में किसानों की गिरप्तारियां इस सरकार का शर्मनाक कार्य है। उन्होंने कहा कि किसानों के भारी विरोधी को देखते हुए यह सरकार पूरी तरह से बौखला चुकी है। उन्होंने कहा कि देश का किसान इस सरकार के षड़यत्र को पहचान चुका है, वह अब पीछे नहीं हटने वाला है।

कुमारी सैलजा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी लगातार इन तीन काले कानूनों के खिलाफ हर स्तर पर लड़ाई लड़ रही है। कांग्रेस पार्टी इन काले कानूनों के खिलाफ किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है। कांग्रेस पार्टी सरकार के षड़यंत्रकारी मंसूबों को किसी भी कीमत पर सफल नहीं होने देगी।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व सांसद राहुल कांधी द्वारा इन काले कानूनों के खिलाफ हरियाणा प्रदेश में ट्रैक्टर यात्रा निकाली गई थी और उनकी व कांग्रेस पार्टी की इन काले कानूनों के खिलाफ लड़ाई लगातार जारी है। कांग्रेस पार्टची के सत्ता में आने पर इन काले कानूनों को निरस्त कर दिया जाएगा।

Next Story

विविध

Share it