झारखंड

Cyber Crime Jamtara: साइबर क्राइम के लिए चर्चित झारखंड का जामताड़ा ही नहीं अब पूरा झारखंड इसके जद में

Janjwar Desk
16 March 2022 12:03 PM GMT
Haryana News : नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी करने वाले 5 जालसाज गिरफ्तार, 23 राज्यों में ऐसे में चलाया फर्जी जॉब रैकेट
x

Haryana News : नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी करने वाले 5 जालसाज गिरफ्तार, 23 राज्यों में ऐसे में चलाया फर्जी जॉब रैकेट

Cyber Crime Jamtara:साइबर क्राइम के लिए चर्चित झारखंड का जामताड़ा के बाद अब पूरा झारखंड एक नये तरीके से इसके जद में आ रहा है।

Cyber Crime Jamtara:साइबर क्राइम के लिए चर्चित झारखंड का जामताड़ा के बाद अब पूरा झारखंड एक नये तरीके से इसके जद में आ रहा है। साइबर ठग अब ऑनलाइन फ्रॉड का नया तरीका अपनाते हुए रेस्तरां और होटल मालिकों को अपना निशाना बनाने लगे हैं।

ऐसा ही एक मामला 15 मार्च को राज्य के लातेहार में सामने आया है। इस मामले में एक अच्छी बात यह रही कि रेस्तरां मालिक अपनी सूझबूझ से ठगी का शिकार होने से बच गया। जबकि पिछले 5 मार्च को राज्य के कोडरमा में एक साइबर ठग आर्मी जवान बनकर ऑनलाइन भुगतान के बहाने एक होटल मालिक को लगभग 2 लाख रुपए का चूना लगा गया था।

लातेहार की घटना के बारे में बता दें कि 15 मार्च की शाम करीब पांच बजे स्टेशन रोड स्थित द हवेली फैमिली रेस्टोरेंट के मालिक राजेश मिंज के मोबाइल पर 8926143918 नंबर से एक कॉल आया। कॉल करने वाले ने अपने आप को आर्मी का मेजर श्रीकांत बताया। उसने आर्मी के दस वरीय अधिकारियों के लिए करीब ₹3000 के खाने का आर्डर दिया और कहा कि 10 व्यक्तियों के लिए एक सप्ताह तक लगातार खाना का ऑर्डर दिया जाएगा। एडवांस मांगने पर खुद 7:00 बजे शाम आकर भुगतान करने की बात कही।

रेस्टोरेंट मलिक ने न चाहते हुए भी आर्मी पुलिस समझ कर पूरा खाना बनवा दिया। राजेश ने बताया कि पुनः कॉल आने पर शाम करीब 6:45 बजे ऑर्डर के अनुसार खाना पैक कर अमुक व्यक्ति ने व्हाट्सएप पर पैक खाना और भुगतान के लिए मेरे एटीएम के दोनों तरफ का फोटो मांगा। आर्मी का अधिकारी समझ मैनें उसे व्हाट्सएप पर भेज दिया। कुछ देर बाद जब उसी नंबर से कॉल कर मुझसे मेरे मोबाइल पर आए ओटीपी का नंबर मांगा गया तो मुझे यह समझते देर नहीं लगी कि यह कॉल साइबर ठग गिरोह का है। राजेश ने बताया कि उसी मोबाइल नंबर पर एक घंटे बाद जब कॉल किया तो तथाकथित व्यक्ति ने किसी तरह का ऑडर देने और पहचाने से इंकार कर दिया। बताते चलें कि पिछले 5 मार्च को राज्य के कोडरमा में साइबर ठग ने जिले के तिलैया थाना क्षेत्र के पीजी विराज होटल के मालिक से आर्मी का जवान बनकर 2 लाख रुपये की ठगी की थी।

घटना के बारे में झुमरी निवासी व पीजी विराज होटल के संचालक अशोक कुमार यादव ने बताया था कि गत 5 मार्च, 2022 की दोपहर मोबाइल नंबर 9777554867 एवं 8871124186 से उनके मोबाइल नंबर पर फोन आया। फोन करने वाले व्यक्ति ने कहा कि वह आर्मी कैंट से बोल रहा है। उसे 20 आदमी का खाना चाहिए। आप खाना पैक करके रख दीजिये। इसके बाद ऑर्डर के अनुसार 20 पैकेट खाना पैक करने के बाद उपरोक्त नंबर पर फोन करके खाना पैक होने की जानकारी दी गई। जिसके बाद खाना का बिल पूछा गया, तो हमने कुल बिल 7050 रुपये बताया। होटल संचालक के अनुसार उधर से कहा गया कि मैं ऑनलाइन पैसे भेज देता हूं। मेरा आदमी जाकर खाना ले लेगा।

इस दौरान फोन पर आर्मी जवान बनकर कॉल करने वाले साइबर ठग ने ऑनलाइन बिल का भुगतान करने के लिए पीजी होटल के संचालक अशोक यादव से फोन पे का नंबर मांगा। होटल संचालक द्वारा कॉल करने वाले को फोन पे का नंबर उपलब्ध कराया गया। इसके बाद साइबर ठग ने होटल संचालक को उनके व्हाट्सएप पर एक क्यूआर कोड भेज कर होटल संचालक से पहले एक रुपये उस क्यूआर कोड पर ट्रांसफर करने की बात कही। कंफर्म होने के उद्देश्य से होटल संचालक द्वारा क्यूआर कोड पर एक रुपया भेजा गया। इसके बाद साइबर ठग द्वारा होटल संचालक के फोन पे में लिंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और आईडीबीआई बैंक के खाते से 96 हजार 40 रुपये एवं 99 हजार 926 रुपये की अवैध निकासी कर ली गई।

घटना के बाद जब यादव ने साइबर ठग के नंबर पर कॉल किया, तो कई बार कॉल होने के बाद भी फोन नहीं उठाया गया। तब जाकर 5 मार्च की शाम अशोक यादव द्वारा तिलैया थाना में ठगी की घटना को लेकर आवेदन दिया गया।

बता दें कि साइबर ठग अब लोगों को ठगने के लिए नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। फोन-पे व गूगल-पे का नंबर मांग कर भी ठगी कर रहे हैं। कॉल में रख बैलेंस चेक करने के लिए कहेंगे। फिर पासवर्ड को हैक कर अकाउंट की राशि उड़ा सकते हैं।

व्हाट्सएप पर आर्मी जवान की फोटो लगा कर रहे ठगी

तथाकथित व्यक्ति ने जिस मोबाइल नंबर से कॉल किया था, वह व्हाट्सएप से भी जुड़ा नंबर है। जिसके डीपी पर आर्मी जवान का फोटो लगा है। राजेश ने बताया कि डीपी को देखकर ही मैंने तथाकथित व्यक्ति को आर्मी का मेजर समझ लिया। जिसके कारण मैंने ऑडर लिया।

बता दें कि लातेहार पुलिस ने दो अलग-अलग ऑनलाइन ठगी के मामले में दो साइबर अपराधी को अलग-अलग जगहों से गिरफ्तार कर जेल भेजा है। गिरफ्तार साइबर अपराधी में बिक्की कुमार पिता तनिक राम (कबीरपुर, शेखपुरा, बिहार) व आशीष रंजन पिता मिथलेश कुमार प्रभाकर (मेथी, नालंदा) के रहने वाले हैं। दोनों साइबर अपराधी के पास से घटना में प्रयुक्त मोबाइल बरामद कर लिया है। उक्त जानकारी पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता ने दी।

लातेहार व मनिका थाना में साइबर ठगी को लेकर अज्ञात साइबर अपराधी के ऊपर का मामला दर्ज किया गया था। तकनीकी सहायता से दोनों की गिरफ्तारी की गई है। अमित ने बताया कि लातेहार के सरोज तेलरा से साइबर अपराधियों ने स्नैपडील ऑनलाइन शॉपिंग में नेक्सा गाड़ी इनाम देने के नाम पर 2.50 लाख रुपये की धोखधड़ी की गयी थी।

Next Story

विविध