Top
उत्तर प्रदेश

UP : उन्नाव में प्रेमी ने ही प्रेमिका को उतारा मौत के घाट, 21 माह बाद खेत से निकला कंकाल

Janjwar Desk
23 Oct 2020 5:00 AM GMT
UP : उन्नाव में प्रेमी ने ही प्रेमिका को उतारा मौत के घाट, 21 माह बाद खेत से निकला कंकाल
x

उन्नाव में लड़की कर रही थी शादी से पहले साथ रहने की जिद तो प्रेमी ने उतार दिया मौत के घाट, अब कंकाल हुआ बरामद

युवती बिना शादी किए उस पर अलग घर लेकर साथ रहने का दबाव बना रही थी। ऐसा न करने पर गलत तरीके से फंसाकर जेल भिजवाने की धमकी दी थी, जिस पर उसने उसी रात उसकी हत्या कर शव को घर से एक किलोमीटर दूर जमीन में दबा दिया....

जनज्वार, उन्नाव। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में लापता हुई जिस युवती की तलाश में पुलिस ने चंडीगढ़ तक के चक्कर लगाया, उसकी हत्या उसी दिन कर दी गई थी जिस दिन वह घर से गायब हुई थी। हत्या करने वाला कोई और नहीं, बल्कि उसका ही प्रेमी निकला।

गौरतलब है कि अजगैन कस्बा के झकरी में रहने वाली 25 वर्षीय शालू पुत्री रमेश 2 अप्रैल 2019 को लापता हो गई थी। लड़की की मां रानी देवी ने 14 अप्रैल 2019 को अजगैन कोतवाली में माखी थाना क्षेत्र के पंडितखेड़ा गांव निवासी सूरज पुत्र पुत्तनलाल के खिलाफ बेटी को अगवा करने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

घटना के बाद शालू की तलाश में पुलिस ने सूरज की गिरफ्तारी के प्रयास शुरू किए। मोबाइल लोकेशन के आधार पर पुलिस उसे ढूंढते हुए चंडीगढ़ तक पहुंची पर वह हाथ नहीं लगा। इसी बीच सूरज ने हाईकोर्ट लखनऊ से स्टे ले लिया। 21 महीने बाद स्टे अवधि समाप्त होने पर नवाबगंज चौकी प्रभारी जितेंद्र यादव व स्वॉट टीम के उपनिरीक्षक गौरव कुमार ने आरोपी को उसके गांव से गिरफ्तार कर लिया।

पूछताछ में प्रेमी ने बताया कि युवती बिना शादी किए उस पर अलग घर लेकर साथ रहने का दबाव बना रही थी। ऐसा न करने पर गलत तरीके से फंसाकर जेल भिजवाने की धमकी दी थी, जिस पर उसने उसी रात उसकी हत्या कर शव को घर से एक किलोमीटर दूर जमीन में दबा दिया। हत्यारोपी की निशानदेही पर गुरुवार 22 अक्टूबर को पुलिस ने मिट्टी में दबे युवती के कंकाल को बाहर निकालकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

पहले पहले आरोपी युवक ने पुलिस को गुमराह करने की खूब कोशिश की, लेकिन जब पुलिस ने घटना के दिन उसके मोबाइल की लोकेशन व युवती से हुई बातचीत की कॉल डिटेल का हवाला दिया तो उसने सच उगल दिया। उसने बताया कि कई साल से उसका युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों के परिजन शादी के लिए भी राजी हो गए थे। 2 अप्रैल 2019 को युवती उसके घर पहुंच गई और शहर में अलग मकान लेकर माता-पिता से दूर एक साथ रहने की जिद की।

आरोपी सूरज के मुताबिक जब उसने शादी के बाद साथ रहने की बात कही तो युवती उसपर मुकदमा दर्ज कराकर जेल भिजवाने की धमकी देने लगी। इसी विवाद में उसकी गला दबाकर हत्या के बाद शव घर से एक किमी दूर गांव की नहर के पास अनिल मिश्रा के खेत में चार फिट का गड्ढा खोदकर दबा दिया।

आरोपी के बयान और निशानदेही पर गुरुवार 22 अक्टूबर को माखी एसओ संतोष सिंह, स्वॉट टीम के गौरव, नवाबगंज चौकी प्रभारी जितेंद्र यादव ने सदर के नायब तहसीलदार रजनीश की मौजूदगी में युवती के कंकाल को निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। एसओ माखी पवन कुमार ने बताया कि सूरज के साथ दो अन्य लोगों के नाम प्रकाश में आए है। उनकी तलाश की जा रही है।

पिता ने कपड़े व लॉकेट से की बेटी पहचान

जमीन से कंकाल निकाले जाने के बाद पुलिस ने युवती के पिता को पहचान के लिए बुलाया। पिता ने कंकाल से लिपटा काला दुपट्टा, बैगनी रंग का कुर्ता, भूरे रंग की लैगी के अलावा मोती की माला में ओम का सोने का लॉकेट देख कंकाल की पहचान बेटी के रूप में की। कंकाल के पास से पुलिस ने नवाबगंज सदर के एक गारमेंटस व्यापारी के दुकान की नाम की खाली पॉलिथीन भी बरामद की। बरामद सामग्री को पुलिस ने कब्जे में लिया है।

बेटी की हत्या व उसका कंकाल बाहर निकाले जाने के बाद युवती के माता-पिता के अलावा अन्य परिजन बिलख उठे। पिता ने पुलिस को बताया कि जब भी वह आरोपी रमेश से बेटी के बारे पूछता वह कोर्ट मैरिज कर उसके साथ चंडीगढ़ में रहने की बात कह फोन काट देता। पिता ने बताया कि वह अब तक यही सोच रहा था कि उसकी बेटी रमेश के साथ सुरक्षित है।

Next Story

विविध

Share it