उत्तर प्रदेश

Lakhimpur Kheri Violence : बीकूयू पंजाब का ऐलान, किसानों को न्याय दिलाने लखीमपुर खीरी जाएंगे किसान

Janjwar Desk
1 May 2022 2:45 AM GMT
Lakhimpur Kheri Violence : बीकूयू पंजाब का ऐलान, किसानों को न्याय दिलाने लखीमपुर खीरी जाएंगे किसान
x
Lakhimpur Kheri Violence : संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले बीकेयू पंजाब के नेताओं ने एक बार फिर लखीमपुर खीरी कून करने का ऐलान किया है। इसके लिए किसानों का दस्ता चार मई को पंजाब से रवाना होगा।

Lakhimpur Kheri Violence : पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव संपन्न होने के दो माह बाद एक बार उत्तर प्रदेश में किसानों को मुद्दा फिर गरमा सकता है। ऐस इसलिए कि भारतीय किसान यूनियन पंजाब ( BKU Punjab ) , हरियाणा, राजस्थान के किसानों ने लखीरपुर खीरी ( Lakhimpur Khiri ) कूच करने का ऐलान किया है। बीकेयू के किसान नेता एसकेएम ( SKM ) के बैनर तले लखीमपुर खीरी के लिए कूच करेंगे। अगर ऐसा हुआ तो लाउडस्पीकर और बुलडोजर की धुन के बीच यूपी ( Uttar Pradesh ) में एक बार फिर किसानों का आवाज बुलंद होता दिखाई देगा।

दरअसल, संयुक्त किसान मोर्चा ( SKM ) के बैनर तले पंजाब के नेताओं ने एक बार फिर लखीमपुर खीरी ( LakhimPur Khiri ) कूच करने का ऐलान किया है। इसके लिए किसानों का दस्ता चार मई को पंजाब ( Punjab ) से रवाना होगा। किसान संगठन एसकेएम के बैनर तले 5 मई को लखीमपुर खीरी जाएंगे। ताकि पिछले साल लखीमपुर खीरी में मारे गए गए किसानों को न्याय दिला सकें। बीकेयू पंजाब ( BKU Punjab ) के महासचिव हरिंदर सिंह लाखोवाल ने कहा है कि लखीमपुर खीरी हिंसा ( LakhimPur Khiri Violence ) में मारे गए किसानों को अभी तक न्याय नहीं मिला है। उन्हें न्याय दिलाना हमारी जिम्मेदारी है।

Lakhimpur Kheri Violence : बता दें कि तीन अक्टूबर 2021 को लखीमपुरी खीरी ( Lakhim Pur Khiri ) में हुई हिंसक घटना में चार किसानों को केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा ने अपने समर्थकों के साथ तथाकथित रूप से चार किसानों को कुचल दिया था। इस घटना में कुल आठ लोगों की मौत हुई थी, जिनमें एक पत्रकार भी शामिल था। इस मामले में गिरफ्तार मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा को फरवरी, 2022 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जमानत दी थी। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने जमानत को रद्द कर दिया। साथ ही आशीष मिश्रा को सरेंडर करने को कहा था। शीर्ष अदालत के आदेशों के अनुरूप आशीष मिश्रा ने 25 अप्रैल को सरेंडर कर दिया। इस समय आशीष मिश्रा जेल में हैं। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट को फिर से सुनवाई करने को कहा है। फिलहाल, इस मामले में सुनवाई जारी हैं ।

Next Story

विविध