Top
उत्तर प्रदेश

BJP नेता के फार्म हाउस में चल रहा था देह व्यापार का धंधा, 12 गिरफ्तार, बुकिंग से पहले भेजते थे अश्लील फोटो

Janjwar Desk
27 July 2020 9:39 AM GMT
BJP नेता के फार्म हाउस में चल रहा था देह व्यापार का धंधा, 12 गिरफ्तार, बुकिंग से पहले भेजते थे अश्लील फोटो
x
सिकंदरा के इंडस्ट्रियल एरिया स्थित कमला फार्म हाउस में जिस्मफरोशी का धंधा चल रहा था। सिकंदरा पुलिस और क्राइम ब्रांच ने छापा मारकर इस खेल का खुलासा किया। तीन युवतियों सहित 12 लोग गिरफ्तार हुए हैं।

जनज्वार। सिकंदरा के इंडस्ट्रियल एरिया स्थित कमला फार्म हाउस में जिस्मफरोशी का धंधा चल रहा था। सिकंदरा पुलिस और क्राइम ब्रांच ने छापा मारकर इस खेल का खुलासा किया। तीन युवतियों सहित 12 लोग गिरफ्तार हुए हैं। फार्म हाउस भाजपा नेता का है। उन्होंने किराए पर दे रखा था। पुलिस ने अपने प्रेसनोट में साफ लिखा है कि उनको यहां चल रहे देह व्यापार की जानकारी थी। उन्हें इस धंधे में कमीशन मिलता था। वहीं भाजपा नेता पुलिस के आरोप से सन्न हैं। उनका कहना है कि उन्हें बदनाम करने की साजिश है।

एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि सिकंदरा क्षेत्र में एक व्यापारी के साथ पिछले दिनों लूट के प्रयास की वारदात हुई थी। कार सवार बदमाशों ने बाइक सवार को लूटने का प्रयास किया था। पुलिस के पहुंचने पर कार सवार भाग गए थे। भागते समय कार का टायर फट गया था। वे कार को लावारिस छोड़ गए थे। कार एटा नंबर की थी। पुलिस इसी कार के जरिए इस गिरोह तक पहुंची है। कई दिनों से सूचना संकलित की जा रही थीं।

शुक्रवार को एएसपी सौरभ दीक्षित और एसीएम विनोद जोशी के नेतृत्व में सिकंदरा पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम ने कमला फार्म हाउस में छापा मारा। पुलिस के पहुंचते ही फार्म हाउस में अफरा-तफरी मच गई। चार कमरों से तीन युवतियों और नौ युवकों को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी ने बताया कि यह फार्म हाउस भाजपा नेता का है। सचिन, परम, विष्णु और विशाल गोयल ने फार्म हाउस लीज पर ले रखा है। चारों साझीदार गिरफ्तार हुए। आरोपित प्रदीप और रणवीर के माध्यम से विभिन्न स्थानों से लड़कियां लाते थे। इसके बाद उन्हें फार्म हाउस में आने वाले ग्राहकों के सामने पेश किया जाता था। ग्राहक देखकर उससे सौदा किया जाता था। एक हजार रुपये में भी कुछ घंटे के लिए युवती उपलब्ध करा दी जाती थी।

गिरफ्तार फार्म हाउस संचालकों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि फार्म हाउस मालिक को इस अवैध धंधे की जानकारी थी। उन्हें भी इस धंधे से कमीशन मिलता था। पुलिस ने अपने प्रेसनोट में इस बात का साफ-साफ जिक्र किया है। पुलिस ने बताया कि फार्म हाउस संचालकों में से विशाल गोयल अभी पकड़ में नहीं आया है। छापे से कुछ देर पहले ही वह निकलकर भाग गया था। उसकी तलाश की जा रही है। गिरफ्तार आरोपियों के पास से दो तमंचे, सात मोबाइल, छह बीयर की केन, छह हजार रुपये और आपत्तिजनक सामान मिला है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ अनैतिक देह व्यापार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

फार्म हाउस में कमरे बने हुए हैं। मौके से पकड़ी गई तीनों युवतियां पश्चिमी बंगाल की निवासी हैं। तीनों लॉक डाउन से पहले आगरा आई थीं। फार्म हाउस में ही उनके ठहरने का इंतजाम किया गया था। ग्राहक वहां पर आया करते थे। ग्राहकों को व्हाट्स एप पर उनकी फोटो मुहैया कराई जाती थी। फार्म हाउस में पुलिस नहीं आएगी इस बात का भरोसा दिलाया जाता था। कोई ग्राहक युवती को बाहर लेकर जाना चाहता था तो उससे भुगतान अधिक लिया जाता था।

पुलिस ने बताया कि पकड़े गए आरोपियों में से चार होटलों में कर्मचारी रहे हैं। वे इन युवतियों के संपर्क में थे। लॉक डाउन से पहले ही इन युवकों की नौकरी चली गई थी। ये युवक फार्म हाउस संचालक के संपर्क में आए।

फतेहाबाद के छह विस्वा निवासी विजय उर्फ वीपी, कुंडौल निवासी राम, सचिन, राजेश, सिकंदरा के बाईं पुर निवासी जयवर्धन, रणवीर सिंह, मंसुखपुरा के मलकापुरा निवासी परम, मथुरा के फरह निवासी विष्णु, मुरैना निवासी प्रदीप, पश्चिम बंगाल के हावड़ा निवासी मीम, माया, पायल।

युवकों ने अपना धंधा जमाने के लिए हाईटेक अंदाज भी अपना रखा था। देह व्यापार के लिए फार्म हाउस में ठहराई गईं युवतियों की अश्लील फोटोग्राफ भी लिए गए थे। ग्राहकों को सेट करने के लिए उन्हें व्हाट्स एप पर फोटो भेजे जाते थे। पूरी रात के पांच हजार रुपये तक वसूले जाते थे। एक से दो घंटे के लिए दो हजार रुपये में बुकिंग की जाती थी। बीयर और शराब भी फार्म हाउस में मुहैया कराई जाती थी। उसे भी बाजार से अधिक कीमत पर बेचा जाता था। जिस दौरान ग्राहक अंदर होते थे। गेट पर दो युवकों की ड्यूटी रहती थी। ताकि पुलिस का चक्कर पड़े तो ग्राहकों को चौकन्ना कर दिया जाए।

पुलिस के अनुसार, सचिन, परम और राम ने अपने एक अन्य साथी पवन के साथ मिलकर दो जुलाई को अकबरा रोड पर एक व्यापारी से मारपीट कर लूट का प्रयास किया था। उस दिन बदमाश कार में सवार थे। भागते समय उनकी कार रास्ते में छूट गई थी। उसका टायर फट गया था। इसी कार के बारे में छानबीन के दौरान पुलिस को फार्म हाउस का सुराग मिला।

भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष का कहना है कि उन्होंने फार्म हाउस लीज पर दिया था। वह तो लंबे समय से वहां गए भी नहीं हैं। उन्हें नहीं पता था कि वहां क्या चल रहा है। पुलिस ने उनके फार्म हाउस से किसी को गिरफ्तार नहीं किया है। उन्हें जानकारी मिली है कि युवक-युवतियों को एक होटल में छापा मारकर पकड़ा गया था। उनके खिलाफ घिनौनी साजिश हुई है। वह अधिकारियों के समक्ष अपना पक्ष रखेंगे। सुनवाई नहीं हुई तो ऊपर तक जाएंगे। उनकी छवि के बारे में पुलिस पता कर सकती थी। बिना छानबीन उनके बारे में ऐसा बयान देकर पुलिस ने उनकी छवि खराब करने का प्रयास किया है।

Next Story

विविध

Share it